Followers

Thursday, July 04, 2013

सोचने की फुर्सत किसे है ? ( चर्चा - 1296 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
बारिश की बूंदों से कभी मौसम सुहाना हो जाता है तो कभी उमस से बुरा हाल , मौसम तो मौसम है मर्जी का मालिक , क्या किया जाए ? कुदरत का कहर तो हम देख ही चुके हैं । खुद को कितना बड़ा समझता है आदमी और वास्तव में कितना छोटा है । बात तो सोचने की है मगर सोचने की फुर्सत किसे है ? 
चलते हैं चर्चा की ओर 
सृजन मंच ऑनलाइन
My Photo 
बोझ
*************
 
मेरा फोटो 
My Photo
        मेरा फोटो
  साठ की अम्मा पर घूंघट में डोलती थी

 इंतज़ार हाजरी की रजिस्टर की तरह हो गया है

कम्‍बोडिया हिन्‍दी सम्‍मेलन

प्रशासक सभी बहरे हैं .....
जाले
हाय पैसा !
आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 
दिलबाग 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(0)
सभी ब्लॉग लेखकों और पाठकों के लिए आवश्यक सूचना

गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा के बंद किये जाने तथा इससे सम्बंधित तकनिकी बदलावों के चलते हमारीवाणी पर नयी ब्लॉग पोस्ट का प्रकाशन रुका हुआ है, आशा है बहुत जल्द ही कार्यप्रणाली में बदलाव का कार्य पूरा हो जाएगा और ब्लॉग पोस्ट दुबारा प्रकाशित होने लगेगी। आपको हो रही इस असुविधा के लिए हमें खेद है। साभार टीम हमारीवाणी 
ब्लॉग.हमारीवाणी  पर  हमारीवाणी 
(1)
सिक्का उछाल आया
गलियाँ ख़ुद पे उठा ख़ुद से सवाल कर आया 
लिख सच को सच एक नया बवाल कर आया...
Zindagi se muthbhed पर Aziz Jaunpuri 

(2)
किस्मत की लहरें

बामुश्किल चल पाए थे चार कदम साथ ...
Mera avyakta पर-राम किशोर उपाध्याय 

(3)
तू करीब आ तुझे देख लूं, तू वही है या कोई और है....
श़ायर जनाब सलीम कौसर

मेरी धरोहर पर yashoda agrawal -

(4)
मुस्काती चंपा ....
खिली चांदनी 
झूमें लताओं पर 
मुस्काती चंपा ...
sapne पर shashi purwar

(5)
कुछ लोग कह रहे हैं कि कांग्रेसियों के कीड़े पड़ेंगे 
लेकिन अलबेला खत्री कहता है नहीं पड़ेंगे

Hasya Kavi Albela Khatri 

(6)
सुखी और लम्बी उम्र चाहिए? 
लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव लड़िये !
बहनजियों / भाभीजियों ! जी चौंकिए मत, शीर्षक एकदम सही पढ़ा आपने। और ये नहीं कि इस रामबाण औषधि के बारे में आपको पहले से कोई जानकारी न हो....
अंधड़ !परपी.सी.गोदियाल "परचेत"

(7) 
कुछ लिंक सृजन मंच ऑनलाइन से...
(अ)
दोहा छंद
(आ)
जो मन की पाती पढ़ें ,तो दुख काहे होय

(इ)
***नीति के दोहे ***

(ई)
हिन्दी छन्द परिचय, मात्रा गणना

(उ)
"समीक्षा पोस्ट"

12 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी आपका बहुत-बहुत आभार!
    --
    सृजन मंच ऑनलाइन में भी योगदानकर्ता के रूप में अपनी सेवाएँ देकर मुझे अनुग्रहीत करें!
    --
    सादर...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. sundar links ,sabhi acche lage dilbag ji , hame mayank me shamil karne ke liye shashtri ji ka tahe dil se abhar

      Delete
  2. चर्चा में मेरी प्रविष्ठी शामिल करने हेतु आपका आभार शास्त्री जी और दिलबाग विर्क जी का भी आभार !

    ReplyDelete
  3. अच्छे सूत्रों से सजी अच्छी चर्चा !!

    ReplyDelete
  4. आदरणीय शास्त्री जी, इस मंच पर मेरी रचना ' किस्मत की लहरें' की चर्चा करने के लिए हार्दिक आभार ,

    सादर,

    रामकिशोर उपाध्याय

    ReplyDelete
  5. शुभ प्रभात
    आज का अंक मेरी पसंदीदी लिंक्स के साथ
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  6. कई अच्‍छे लिंक मि‍ले आज...शुक्रि‍या...मेरी रचना को स्‍थान देने के लि‍ए आपका आभार...

    ReplyDelete
  7. विस्तार से दिए हैं सभी लिंक ...
    शुक्रिया आज मेरी रचना को स्थान देने का ...

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया सार्थक चर्चा प्रस्तुति ...आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...