समर्थक

Sunday, July 14, 2013

कई रूप धरती के : चर्चा मंच १३०६

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.

Asha Saxena


संजय भास्‍कर


Yashoda Agrawal


ताऊ रामपुरिया


Dr Varsha Singh


Dr. Sarika Mukesh


आशा जोगळेकर
Ashok Saluja

पूरण खण्डेलवाल


Jyoti Khare


रश्मि शर्मा


सुशील


Virendra Kumar Sharma


काजल कुमार


इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो

जारी है 'मयंक का कोना'
(1)
अगर स्वर्ग कहीं है तो यहीं है

जंजैहली , एक बहुत कम सुना गया और पर्यटको की भारी भीड से दूर स्वर्ग जैसा माहौल , तस्वीरो में देखकर आपकी आहे निकलेंगी तो मै आपको बता दूं कि जंजैहली की इन तस्वीरो से ही काम नही चलने वाला है आगे भी आपको और खूबसूरती देखने को मिलेगी....
Yatra, Discover Beautiful India पर Manu Tyagi
(2)
बैटरी ज्यादा चलानी हो तो फुल चार्ज न करें

हिंदी पीसी दुनिया पर Darshan Jangara 

(3)
फुर्सत

अंजुरियाँ रूठ गयी थी....कलम सिसक रहे थे....नोट पर गोजने खातिर देख कैसे तरस रहे थे....!!! आज रहा ना गया बस लिख दिया कुछ ऊबड़ खाबड़ पंक्तियाँ भाव मे अंदर तक डूबना फिर बताना कैसा रहा सफर...ऊपर ऊपर तैरने पर गहराइयों का अंदाज़ा ना लगा पाओगे ए बशर...!! तो पढ़िये ताज़ातरीन ग़ज़ल....!! कितनों ने कितना जख्म बखश़ा है... आज उसका हिसाब करने बैठा है...
खामोशियाँ...!!! पर rahul misra 
(4)
बोलणैं त पहले सोच भी लिया कर
My Photo
ताऊ डाट इन पर ताऊ रामपुरिया 

(5)
अपनी पहचान

अपनी पहचान चर्चा धर्म की हो या ईमान की बात चाहे हो तीर या कमान की, 
मंत्री नेता या राज्यपाल हो बात बस, उनके गुमान की...
काव्यान्जलि पर धीरेन्द्र सिंह भदौरिया
(6)
"मेरा अनुरोध"
सृजन मंच ऑनलाइन
मित्रों!
      प्रसन्नता की बात है कि दोहों पर 36 पोस्ट अब तक आ चुकी हैं। मुझे आशा ही नहीं अपितु पूरा विश्वास है कि हमारे पाठकों को दोहा छन्द के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला होगा। सोमवार 15-07-2013 से किसी और छन्द पर चर्चा शुरू की जायेगी।
--
कृपया सम्बन्धित रचनाकार ध्यान देंगे...
सृजन मंच ऑनलाइन पर रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
(7)
"नहीं आता"

मुझे तो छन्द और मुक्तक, बनाना भी नहीं आता।
ग़ज़ल में शैर और मक़्ता, लगाना भी नहीं आता।।

दिलों के बलबलों को मैं, भला अल्फ़ाज़ कैसे दूँ,  
मुझे लफ्ज़ों का गुलदस्ता, सजाना भी नहीं आता...

29 comments:

  1. कई रंगों में रंगी आज की चर्चा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  2. अरुण भाई
    शुभ प्रभात
    अनुपम सूत्रों से भरी हलचल की आपने आज
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर और मनभावन चर्चा करने के लिए अरुण जी आपका आभार!

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा सजाई है प्रासंगिक लिंक (सेतु )लगाए हैं ..बधाई और शुक्रिया हमें बिठाने के लिए इस सुमंच पर .

    ReplyDelete

  5. दिग्विजय लाहौल बिलाकूवत किस दुर्मुख का नाम ले दिया .मोदी फोबिया से कई ग्रस्त हैं .

    कोंग्रेस में एका है इसके सारे भोंपू एक साथ बोलतें हैं .

    मोदी अब एक रणभेरी है रोक सके तो रोक .

    हिन्दुस्तान के बाहर ये सोनिया फोनिया MMS को कोई नहीं जाता अलबत्ता अंग्रेजी वाले MMS सब वाकिफ हैं .मोदी का मतलब तरक्की है .जियारत करके लौट रहे थे वे लड़के सबके सब मैं आबू रोड से मुंबई लौट रहा था वाया एहमदाबाद .ट्रेन में मिले थे उन्हीं के थे ये उदगार .हिन्दुस्तान के सभी दुर्मुख नोट करें .वो जिनके आका दिग्विजय हैं .भोपाली बाज़ीगर हैं .नर भूलूं नारायण न भूलूँ .

    ReplyDelete
  6. मोदी अब हिन्दुतान की खासकर युवा हिन्दुस्तान की साँसों की धौंकनी हैं .ले आओ कांग्रेसी युवा प्रिंस को .उनके सामने दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा .है कोई कांग्रेसी लाल जो हुंकारे

    ReplyDelete
  7. बढ़िया चर्चा सजाई है प्रासंगिक लिंक (सेतु )लगाए हैं ..बधाई और शुक्रिया हमें बिठाने के लिए इस सुमंच पर .

    दिग्विजय लाहौल बिलाकूवत किस दुर्मुख का नाम ले दिया .मोदी फोबिया से कई ग्रस्त हैं .

    कोंग्रेस में एका है इसके सारे भोंपू एक साथ बोलतें हैं .

    मोदी अब एक रणभेरी है रोक सके तो रोक .

    हिन्दुस्तान के बाहर ये सोनिया फोनिया MMS को कोई नहीं जानता . अलबत्ता अंग्रेजी वाले MMS सब वाकिफ हैं .मोदी का मतलब तरक्की है .जियारत करके लौट रहे थे वे लड़के सबके सब मैं आबू रोड से मुंबई लौट रहा था वाया एहमदाबाद .ट्रेन में मिले थे उन्हीं के थे ये उदगार .हिन्दुस्तान के सभी दुर्मुख नोट करें .वो जिनके आका दिग्विजय हैं .भोपाली बाज़ीगर हैं .नर भूलूं नारायण न भूलूँ .

    मोदी अब हिन्दुतान की खासकर युवा हिन्दुस्तान की साँसों की धौंकनी हैं .ले आओ कांग्रेसी युवा प्रिंस को .उनके सामने दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा .है कोई कांग्रेसी लाल जो हुंकारे .

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा सजाई है प्रासंगिक लिंक (सेतु )लगाए हैं ..बधाई और शुक्रिया हमें बिठाने के लिए इस सुमंच पर .

    दिग्विजय लाहौल बिलाकूवत किस दुर्मुख का नाम ले दिया .मोदी फोबिया से कई ग्रस्त हैं .

    कोंग्रेस में एका है इसके सारे भोंपू एक साथ बोलतें हैं .

    मोदी अब एक रणभेरी है रोक सके तो रोक .

    हिन्दुस्तान के बाहर ये सोनिया फोनिया MMS को कोई नहीं जानता . अलबत्ता अंग्रेजी वाले MMS सब वाकिफ हैं .मोदी का मतलब तरक्की है .जियारत करके लौट रहे थे वे लड़के सबके सब मैं आबू रोड से मुंबई लौट रहा था वाया एहमदाबाद .ट्रेन में मिले थे उन्हीं के थे ये उदगार .हिन्दुस्तान के सभी दुर्मुख नोट करें .वो जिनके आका दिग्विजय हैं .भोपाली बाज़ीगर हैं .नर भूलूं नारायण न भूलूँ .

    मोदी अब हिन्दुतान की खासकर युवा हिन्दुस्तान की साँसों की धौंकनी हैं .ले आओ कांग्रेसी युवा प्रिंस को .उनके सामने दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा .है कोई कांग्रेसी लाल जो हुंकारे .

    ReplyDelete

  9. Virendra Sharma
    कोंग्रेस में एका है इसके सारे भोंपू एक साथ बोलतें हैं .

    मोदी अब एक रणभेरी है रोक सके तो रोक .

    हिन्दुस्तान के बाहर ये सोनिया फोनिया MMS को कोई नहीं जानता . अलबत्ता अंग्रेजी वाले MMS सब वाकिफ हैं .मोदी का मतलब तरक्की है .जियारत करके लौट रहे थे वे लड़के सबके सब मैं आबू रोड से मुंबई लौट रहा था वाया एहमदाबाद .ट्रेन में मिले थे उन्हीं के थे ये उदगार .हिन्दुस्तान के सभी दुर्मुख नोट करें .वो जिनके आका दिग्विजय हैं .भोपाली बाज़ीगर हैं .नर भूलूं नारायण न भूलूँ .

    मोदी अब हिन्दुतान की खासकर युवा हिन्दुस्तान की साँसों की धौंकनी हैं .ले आओ कांग्रेसी युवा प्रिंस को .उनके सामने दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा .है कोई कांग्रेसी लाल जो हुंकारे .

    हिन्दुस्तान को अब सब्सिडी वाले नहीं चाहिए जो फ़ूड सिक्युरिटी का भी बिल बनाते हैं .काम करने वाले चाहिए .तरक्की चाहिए खैरात नहीं .गैरत चाहिए .हाथों को काम चाहिए हथेली सरकार के पास सिर्फ सब्सिडी का झुनझुना है जो दिखाऊ है बजेगा कभी नहीं .

    एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :
    http://www.shnkhnaad.com/2013/07/blog-post_8843.html?showComment=1373770569781#c8408463431470707774

    नरेंद्र मोदी के बयान पर बेवजह का बवाल !! | शंखनाद
    www.shnkhnaad.com
    समाचार एजेंसी राइटर्स को दिए गए इंटरव्यू को लेकर मीडिया में नरेंद्र मोदी की आलोचना की जा रही है ! और तरह तरह के मंतव्य दिए जा रहे हैं लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या किसी नें उस इंटरव्यू को पढ़ा भी है या महज एक शब्द को ही गलत मानकर उसके अर्थ निकाले जा रहें हैं ! मुझे तो यही लगता है कि जो भी मोदी…
    Like · · Share · Promote · 9 minutes ago near Canton ·

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा आभार .मेरे पोस्ट को को यहाँ शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. चर्चा मंच पर अनेकों लिंकों को एक सूत्र में पिरोने का पुनीत कार्य करने हेतु श्री अरुण जी को साधुवाद और हार्दिक बधाई! हमारी भी एक पोस्ट को शामिल करने हेतु आपका हार्दिक आभार!
    सादर/सप्रेम,
    डॉ. सारिका मुकेश

    ReplyDelete
  12. सुन्दर और मनभावन चर्चा....... अरुण जी
    हमारी पोस्ट को शामिल करने हेतु आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  13. बहुत ही शानदार चर्चा, बेहतरीन लिंक्स.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. सुन्दर सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब,सुंदर लिंक्स प्रस्तुति,,,,
    मेरी पोस्ट को चर्चामंच में शामिल करने के लिए आभार,,,,शास्त्री जी,,,

    RECENT POST : अपनी पहचान

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर चर्चा मंच सजाया है बहुत बहुत बधाई अरुन जी को और शास्त्री जी को

    ReplyDelete
  17. nice links with this
    मुझे तो छन्द और मुक्तक, बनाना भी नहीं आता।
    ग़ज़ल में शैर और मक़्ता, लगाना भी नहीं आता।।

    दिलों के बलबलों को मैं, भला अल्फ़ाज़ कैसे दूँ,
    मुझे लफ्ज़ों का गुलदस्ता, सजाना भी नहीं आता...

    ReplyDelete
  18. सुंदर चर्चा !

    आभार !

    ReplyDelete
  19. वाह्ह्ह सुन्दर चर्चा .. एक से बढ कर एक बेहतरीन काव्य ..आलेख ..हाय्कु ..पढने को मिले .. नमन

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर गुलदस्ता लिंकों का
    हमने भी सारे रंग पास जाकर देखे हैं ।

    हमारी भी एक पत्ती इसमें लगाने का आभार ।

    ReplyDelete
  21. बहुत खूबसूरत चर्चा मंच सजाया है आपने....मेरी रचना शामि‍ल करने का शुक्रि‍या

    ReplyDelete
  22. हर चित्र बोलता ही नहीं बतियाता भी है .ॐ शान्ति .


    जंजैहली , एक बहुत कम सुना गया और पर्यटको की भारी भीड से दूर स्वर्ग जैसा माहौल , तस्वीरो में देखकर आपकी आहे निकलेंगी तो मै आपको बता दूं कि जंजैहली की इन तस्वीरो से ही काम नही चलने वाला है आगे भी आपको और खूबसूरती देखने को मिलेगी....
    Yatra, Discover Beautiful India पर Manu Tyagi

    ReplyDelete
  23. सुन्दर चर्चा ..............

    ReplyDelete
  24. आभार भाई अरुण जी-
    सुन्दर चर्चा मंच-
    बढ़िया लिंक्स-

    ReplyDelete
  25. चर्चामंच- सार्थक रचनाओं को अपनी चर्चा में सम्मलित करता है
    मंच के संयोजकों को साधुवाद
    सुंदर रचनाओं के लिंक्स सहेजे हैं
    अरुन भाई का बढ़िया संयोजन
    मुझे सम्मलित करने का आभार

    ReplyDelete
  26. इस मान-सम्मान के लिए दिल से आभारी हूँ अरुण जी ...
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin