चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, August 19, 2013

बहन की गुज़ारिश : चर्चा मंच 1342.

*शुभम दोस्तो*
मैं 
सरिता भाटिया 
लाई हूँ 
***
चर्चामंच 1342 पर 
***
रक्षाबंधन पर दोहे
**
|
**
राखी का त्यौहार 
**
|
**
है आज सूनी कलाई 
**
|
**
आजाद हैं हम
**
|
**
वे एक दूसरे से लिपट
**
|
**
कबीरदास जब लग नाता
**
|
**
बसंत त्रिपाठी
**
|
**
महासंतोशी क़स्बा कांधला
**
|
**
विरहा
**
|
**
स्याही का भीगा अंतर्मन
**
|
**
नीली खामोशियाँ 
**
|
**
एक अनूठा प्रेम 
**
|
**
तुमसे ही होती हैं गुलज़ार जिंदगियां 
**
|
**
मदर इन लव 
***
प्यार के दो तार से संसार बाँधा है 
***
दीजिए इजाजत 
बड़ों को नमस्कार 
छोटों को प्यार 
******************************
"मयंक का कोना" अद्यतन लिंक
(1)
पूर्व राष्ट्रपति डाक्टर शंकर दयाल शर्मा जी के 
जन्मदिन पर शत शत नमन

! कौशल ! पर Shalini Kaushik

(2)
दो और दो पांच में रमाकांत सिंह

ताऊ डाट इन पर ताऊ रामपुरिया 

(3)
-मिशन मार्स वन

मौत बिकती है बोलो खरीदोगे ------?????----
मिशन मार्स वन अगर इसमें रोमांच , उत्साह और उत्सुकता है 
तो पागलपन और सनक की भी कोई कमी नहीं !
एकतरफा यात्रा कीजिये दो करोड़ की कीमत पर .........
मुझे कुछ कहना है ....पर अरुणा 
(4)
सावनी हाइकु

सहज साहित्य पर युग-चेतना 

(5)
सुलझाया नही जाता.

काव्यान्जलि पर धीरेन्द्र सिंह भदौरिया

(6)
"सिकन्दर राह दे देंगे" 
इरादे नेक होंगे तोसमन्दर थाह दे देंगे।
अगर मजबूत जज्बा हैसिकन्दर राह दे देंगे।।
उच्चारण
(7)
"दिवस सुहाने आने पर"
मेरे काव्य संग्रह 'धरा के रंग' से

"दिवस सुहाने आने पर"   

अन्जाने अपने हो जाते,
दिल से दिल मिल जाने पर।
सच्चे सब सपने हो जाते,
दिवस सुहाने आने पर।।
"धरा के रंग"
अन्त में ...!
मीडि‍या में हैं नोट ही नोट, ग्‍लैमर ही ग्‍लैमर
काजल कुमार के कार्टून
छपते-छपते....!
पूर्ण विराम: एक कहानी
सुनिये मेरी कहानी- मेरी आवाज़...

उड़न तश्तरी ....पर Udan Tashtari 

13 comments:

  1. आह ! यह चर्चा तो 'सबसे तेज़ चैनल' से भी आगे नि‍कल गई. 6 बजे पोस्‍ट प्रकाशि‍त और 6.44 पर टि‍प्‍पणी लि‍ख रहा हूं :-) साधुवाद.

    ReplyDelete
  2. सावन के अन्तिम सोंमवार की सुखद चर्चा के लिए सरिता भाटिया जी आपका आभार!

    ReplyDelete
  3. अच्छी चर्चा के लिए बधाई सरिता जी पूरी चर्चा रक्षाबंधन के आने की पूर्व सूचना देती प्रतीत हो रही है |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा …. स्थान देने के लिए सहृदय आभार …।

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  6. सुंदर लिंकों चयन ,,,मेरी रचना को मंच पर स्थान देने के लिए आभार,,,शास्त्री जी,,,
    RECENT POST : सुलझाया नही जाता.

    ReplyDelete
  7. लाजबाब पोस्ट
    मेरी भावनाओं को मान और स्थान देने के लिए
    शुक्रिया और आभार आपका
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. बहुत ही वृहद चर्चा. आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा, आभार ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर लिंकों चयन,चर्चा के लिए सरिता भाटिया जी आपका आभार!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार सरिता भाटिया जी-

    ReplyDelete
  12. पठनीय और रोचक सूत्रों का संकलन।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin