चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, August 20, 2013

राखी मंगल कामना: चर्चा मंच 1343

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.

प्रस्तुतकर्ता : ज्योत्स्ना शर्मा


प्रस्तुतकर्ता : शिवनाथ कुमार

प्रस्तुतकर्ता : कल्पना रामानी
प्रस्तुतकर्ता : Mukesh Kumar Sinha

प्रस्तुतकर्ता : Garima
प्रस्तुतकर्ता : Pratibha Verma
प्रस्तुतकर्ता : मदन मोहन बाहेती
प्रस्तुतकर्ता : Dimple Maheshwari
प्रस्तुतकर्ता : राजेंद्र कुमार
प्रस्तुतकर्ता :
प्रस्तुतकर्ता : रविकर
प्रस्तुतकर्ता : ऋता शेखर मधु


प्रस्तुतकर्ता : Dr.NISHA MAHARANA


प्रस्तुतकर्ता : Shekhar Suman


प्रस्तुतकर्ता : Ranjana Verma


प्रस्तुतकर्ता : सरिता भाटिया


प्रस्तुतकर्ता : स्वप्न मञ्जूषा


प्रस्तुतकर्ता : पी.सी.गोदियाल "परचेत"


प्रस्तुतकर्ता : सुशील

इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है 'मयंक का कोना'
(1)
"भाई बहन का प्यार"
भाई-बहन के प्रेम का, राखी का त्यौहार।
कच्चे धागों में बँधा, रिश्तों का संसार
उच्चारण
(2)
हँस हँस कंत न पाया ,जिन पाया तिन रोय , 
हंसि खेले पिया बिन ,कौन सुहागन होय।
आपका ब्लॉग
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma 

(3)
अब पोते को पालती...
सृजन मंच ऑनलाइन
सृजन मंच ऑनलाइन पर shyam Gupta

(4)
श्याम स्मृति-२१ .......
ईश्वर की आवश्यकता 
आपका ब्लॉग
आपका ब्लॉगपरshyam gupta

(5)
रक्षाबंधन के हाइकु

वीथी पर sushila 

(6)
"मेरी गइया"
मेरी बालकृति "नन्हें सुमन" से
"मेरी गइया"
मेरी गइया बहुत निराली
सीधी-सादीभोली-भाली।

सुबह हुई गइया रम्भाई,
मेरा दूध निकालो भाई।
नन्हे सुमन
(7)
तो आज मुझे क्या लिखना चाहिए?

अनुशील पर अनुपमा पाठक 

(8)
राखी रक्षाबंधन

नवनीत सिंघल
(9)
ट्रेन हादसा : बड़बोले नीतीश का असली चेहरा !

आधा सच...पर महेन्द्र श्रीवास्तव

21 comments:

  1. नमस्कार अरुन जी ,
    रक्षाबंधन के इस त्यौहार पर आप सभी मित्रगणों, और मेरे प्यारे देश वासियों को तहे दिल से हार्दिक शुभ-कामनायें। ,

    आज की चर्चा कुछ अगल सी लग रही बहुत ही बेहतरीन लिंक्स ,आभार

    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा अंक -2: रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  2. बेहद सुन्दर चर्चा!

    ReplyDelete
  3. राखी के धागों से झिलमिलाता आज का मंच..... बहुत सुंदर
    मेरे पोस्ट" राखी का धागा भैया" को शामिल करने के लिए शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  4. सभी लिंक्स एक से बढ़कर एक हैं।
    बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा के लिए आभार अरुन जी ,और आपको तथा सभी ब्लोगर मित्रों को रक्षाबंधन पर्व की मंगलमय कामनाये !

    ReplyDelete
  6. एक से बढ़कर एक चर्चाओं
    की कडी़ में एक और चर्चा
    राखी मंगल कामना से
    शुरु किया जो अनन्त ने
    मयंक ने दिया आधे सच
    का उसके अंत में तड़का !

    उल्लूक का आभार !


    ReplyDelete
  7. सुन्दर चर्चा के लिए आभार अरुन जी,सभी लिंक्स एक से बढ़कर एक हैं।सभी ब्लोगर मित्रों को रक्षाबंधन पर्व की मंगलमय कामनाये !

    ReplyDelete
  8. रक्षाबंधन की शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  9. sundar prastuti dhanyavad nd aabhar ...

    ReplyDelete
  10. वाह चर्चा और कौना चर्चा का दोनों सुन्दर। शुक्रिया राम राम भाई का कबीर के दोहों को बसाने के लिए चर्चा में।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!
    आप सबको रक्षाबंधन की हार्दिक बधाईयां !!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर चर्चा, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. बहुत बहुत शुक्रिया अर्रून जी मेरी पोस्ट यहाँ तक पहुँचाने के लिए।

    ReplyDelete
  14. सुंदर सूत्र व्यवस्थित चर्चा...आभार |
    रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  15. धन्यवाद चर्चामंच .....

    ReplyDelete
  16. सुन्दर चर्चा सुन्दर लिंक्स
    रक्षाबंधन की बधाई व शुभकामनाएँ !
    आभार !

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर और सार्थक चर्चा, मेरी रचना शामिल करने के लिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  18. सुंदर और सार्थक लिंकों की चर्चा, मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार अरुन जी ,,,

    RECENT POST : सुलझाया नही जाता.

    ReplyDelete
  19. Bahut hi acchi rahi aapki charcha.
    mujhe shamil kiya hriday se aabhaari hun.

    ReplyDelete
  20. सबको रक्षाबन्धन का शुभकामनायें, बड़े ही सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर सूत्र संयोजन ....बहुत आभार एवं हार्दिक शुभ कामनाएँ !!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin