Followers

Wednesday, August 14, 2013

'आज़ादी की कहानी' : चर्चा मंच १३३७


"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. रविकर सर की अनुपस्थिति में मैं हाजिर हूँ आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ.
अरुणा
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
Taruna Misra
रश्मि शर्मा
Manjusha Pandey
Kanu
Abhimanyu Bhardwaj
सुशील
दिगम्बर नासवा
ताऊ रामपुरिया
Vandana Sharma
Pankhuri Goel
Suman
Saras
Sunita Sharma
काजल कुमार
इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है 'मयंक का कोना'
(1)
ओ सरहद पर रहने वालो...

हिंद देश के रखवालो तुमकिस खास तत्व से बनते हो ओ सरहद पर रहने वालो
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर मधु 
(2)
ओ मेरी मुकम्मल नज़्म मैं हर रात खुद से निकलता हूँ

अपने टूटे हुए सपनो की चादर ओढी
कलम की कन्दील
अपने साथ लिए
रात-बे-रात निकलता हूँ....
यूँ ही सूनी सड़कों पर ...
इश्क-प्रीत-लव
(3)
एक और व्याख्या
आपका ब्लॉग

मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै।
जैसे उड़ि जहाज की पंछी, फिरि जहाज पै आवै॥
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma
(4)
नन्हा सा धागा

एक प्रयास मेरा भी पर अरुणा 

(5)
मातृभू कैसे करें तुझको नमन!

नवगीत की पाठशाला

(6)
"कोढ़ में खाज"
मित्रों!
अपने काव्य संकलन सुख का सूरज से
एक गीत पोस्ट कर रहा हूँ!
"कोढ़ में खाज"
निर्दोष से प्रसून भी डरे हुए हैं आज।
चिड़ियों की कारागार में पड़े हुए हैं बाज।
सुख का सूरज
(7)
वहम रंगीन - -


है अँधेरा घिरता हुआ, 
दम ब दम हो चले तुम, 
मेरी ज़ात पे यूँ क़ाबिज़, 
कि छूट चली है दूर ये ज़मीं, 
और आसमां नज़र आए कोई वहम रंगीन ...
अग्निशिखा : पर SHANTANU SANYAL

16 comments:

  1. शुभ प्रभात
    बहुत सुन्दर...
    आभार

    शादर

    ReplyDelete
  2. स्वतन्त्रता दिवस के पूर्व दिवस पर चर्चा मंच के सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएँ।।
    --
    अरुण जी आपका आभार इतनी सुन्दर चर्चा सजाने के लिए।

    ReplyDelete
  3. रोचक और पठनीय सूत्रों का संकलन..

    ReplyDelete
  4. आज रविकर नहीं आया
    चाँद ने मंडप सजाया
    गँगा और यमुना के
    संगम का जैसे एक
    दृश्य उभर आया
    मयंक ने अपना
    कोना जब अनंत से
    लाकर मिलाया
    उल्लूक अपने
    को देख कर यहाँ
    आज फिर हर्षाया !

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा,,,,
    बेहतरीन लिंक्स....

    आभार
    अनु

    ReplyDelete
  6. वाह यह भी चकाचक चर्चा, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर लिंक्स दिए है अरुन जी,
    आभार इसमे मुझे भी शामिल किया !

    ReplyDelete
  8. स्वतन्त्रता दिवस के पूर्व दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ।।

    ReplyDelete
  9. वाह आज तो बहुत से लिंक हैं ...
    शुक्रिया मेरी रचना को स्थान देने के लिए ...

    ReplyDelete
  10. बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया चर्चा,,,,
    बेहतरीन लिंक्स..

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा,

    ReplyDelete
  14. यशोदा जी का स्वागत है...
    सुंदर लिंक्स, व्यवस्थित चर्चामंच...
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर रोचक सूत्र ,,,

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया चर्चा, बेहतरीन लिंक्स....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आपका आभार और स्‍वतंत्रता दि‍वस की हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...