चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, October 08, 2013

मंगलवारीय चर्चा---1392-- वो पंख अब भी संभाले रखे हैं मैंने ....

आज की मंगलवारीय चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , आप सब का दिन मंगल मय हो नवरात्रों की सभी को हार्दिक बधाई ,अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 

न्यारी जिंदगी

Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR

मुर्दे हुवे मुरीद, डराये अलग-कायदा-

रविकर at रविकर-पुंज -

जिंदगी शाम है......

रश्मि शर्मा at रूप-अरूप 

मेरी माँ ....

शून्य से... शून्य तक!

अनुपमा पाठक at अनुशील 

"आयी रेल" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक at नन्हे सुमन

एक वचनश्रुति का होना

Madhavi Sharma Guleri at उसने कहा था... - 

ग़ज़ल : सच वो थोड़ा सा कहता है

सज्जन धर्मेन्द्र at ग्रेविटॉन

उठाओ कुदाल !

Amrita Tanmay at Amrita Tanmay

शब्द मोक्ष है साहित्य

ख़्वाबीदा उर्फ़ रखते हैं

Suresh Swapnil at साझा आसमान 

junbishen 83

Munkir at Junbishen

प्यार के नगमे

MANOJ KAYAL at RAAGDEVRAN 

सिलसिला .....

वो पंख अब भी संभाले रखे हैं मैंने ....

Upasna Siag at नयी उड़ान 

"टोपी-कठिन पहेली" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक at उच्चारण - 

कोकिल फिर गाएगा

त्रिवेणी at त्रिवेणी

किताबों की दुनिया - 87

नीरज गोस्वामी at नीरज 

गिरा अनयन नयन बिनु बानी.... शब्दों के चितेरे तुलसीदास

वाणी गीत at ज्ञानवाणी

Tangling Nala To Forest room तंगलिंग गाँव के नाले से वन विभाग के कमरे तक

आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
--
"मयंक का कोना"

माँ शक्ति है ,माँ भक्ति है। …. !
My Photo
sapne(सपने) पर shashi purwa

--
एंड्रायड फोन में ब्‍लॉक करें अनचाही कॉल्‍स

हिंदी पीसी दुनियापरDarshan jangra

--
अपने फ़ोन को सर्विस सेंटर पर देने से पहले 
ध्यान रखने योग्य कुछ बातें
 राहुल (परिवर्तित नाम) का स्मार्ट फ़ोन कुछ दिक्कत देने लगा तो उन्होंने उसे सर्विस सेंटर को सुधारने के लिए दिया. उनका फ़ोन दो तीन दिन में सुधर कर आ भी गया. इसके कुछ दिनों के राहुल के इंटरनेट इनेबल़्ड बैंक खाते से अनधिकृत तरीके से हजारों रुपए निकाल लिए गए. जब राहुल को पता चलता और वे बैंक जाकर खाता ब्लॉक करवाते, उन्हें लाखों रुपए का चूना लग गया. पुलिस के साइबर सेल में रिपोर्ट लिखवाने के बाद तहकीकात से पता चला कि राहुल के खाते से उनका वास्तविक पासवर्ड/यूजरनेम का उपयोग कर ही पैसा निकाला गया है, लिहाजा इस मामले में कुछ नहीं हो सकता....
छींटे और बौछारें

--
जरूर पढ़िए

भारतीय नारी पर shikha kaushik 

--
सीधे सरल शब्दों में, 
मैंने दिल की बात कही है......!!!

'आहुति'परsushma 'आहुति

--
तू आये निकले दिवाला वो आये होये दिवाली
एक तू है कभी कहीं जाता है किसी को कुछ भी पता नहीं चल पाता है क्यों आता है क्यों चला जाता है ना कोई आवाज आती है ना कोई बाजा बजाता है क्या फर्क पड़ता है अगर तुझे कुछ या बहुत कुछ आता है पढ़ाई लिखाई की बात करने वाले के पास पैसे का टोटा हो जाता है चंदे की बात करता है जगह जगह गाली खाता है नेता से सीखने में काहे शरमाता है....
उल्लूक टाईम्स पर Sushil Kumar Joshi 

--
नेताओं की नकली धर्मनिरपेक्षता
नकली धर्मनिरपेक्षता का चोला ओढ़कर 'धर्मनिरपेक्षता' को बदनाम करने वाली पार्टियाँ चाहे जितना मर्ज़ी धार्मिक भेदभाव फैलाएं, वोटों के लिए दंगों की साजिशों में शामिल रहें, इनकी छवि धर्मनिरपेक्ष ही रहने वाली है...
छोटी बात पर Shah Nawaz

--
वोट बैंक मजबूत, तभी दल चाटें तलवे-

"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर 

--
डा श्याम गुप्त के उपन्यास 
'इंद्रधनुष' की समीक्षा..

आपका ब्लॉग

--
सन्नाटा
मुमकिन है दो लफ्ज़ तुम भी कह दो, 
लब मेरे भी थोड़े थिरक जाएँ, 
पर बस इतना काफी तो नहीं है; 
सन्नाटे का मंजर यहाँ कुछ और ही है, 
तेरे-मेरे दो लफ्ज़ मिटा नहीं सकते, 
सन्नाटे को यूँ ही हम चीर नहीं सकते;...
मेरा काव्य-पिटारा पर ई.प्रदीप कुमार साहनी -

25 comments:

  1. सुप्रभात!
    आकर्षक लिंक्स के साथ सुन्दर चर्चा प्रस्तुति .....आभार!
    जय जगदम्बे!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा के लिए आभार बहन राजेश कुमारी जी।
    --
    सुप्रभात..।
    आप सबका मंगलवार मंगलमय हो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. suprabhat , sundar links .......... sabhi acche lage ,navratri ki hardik shubhkamnaye pure parivar ko ,hamen mayank me sthan dene hetu abhaar chacha ji

      Delete
  3. सुंदर लिंक्स

    ReplyDelete
  4. चर्चा का अंक 1392 कर लीजिये !

    सुंदर चर्चा सुंदर सूत्रों के साथ
    उल्लूक का आभार
    तू आये निकले दिवाला वो आये होये दिवाली
    को भी स्थान देने के लिये !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आदरणीय-
      चर्चा क्रमांक 1392

      Delete
  5. सुन्दर प्रस्तुति-
    बढ़िया चर्चा
    आभार दीदी-
    नवरात्रि की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. उम्दा सूत्रों से सजा आज का चर्चामंच \

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर लिंक्स! आभार!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर लिंक्स! मेरी पोस्ट को आप ने सामिल किया आप का बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  9. आकर्षक लिंक्स सुन्दर चर्चा .....आभार!
    नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें-

    RECENT POST : पाँच दोहे,

    ReplyDelete
  10. सुंदर लिंक्स से सजी बढ़िया चर्चा | मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  11. उम्दा आकर्षक सूत्रों से सजा आज का चर्चामंच,नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  12. कई बेहतरीन जानकारी समेटे हुए है यह चर्चा... बेहतरीन!

    ReplyDelete
  13. अनुपम सूत्रों का पिटारा खुला हुआ है..अहो भाग्य..आभार..

    ReplyDelete
  14. धन्यवाद राजेश कुमारी जी....... मेरी प्रविष्टि को अपने चर्चा मंच पर लाने के लिए.....और आपके संजोये लिंक भी बहुत अच्छे है....

    ReplyDelete
  15. सुन्दर लिंक संयोजन। आभार।

    ReplyDelete
  16. उम्दा आकर्षक सूत्रों से सजा आज का चर्चामंच,आभार राजेश कुमारी जी।

    ReplyDelete
  17. अत्यंत सुंदर सूत्रों से सजा अंक...मेरी रचना को स्थान देने हेतु बहन सुश्री राजेश कुमारी जी एवं समस्त पाठकों को धन्यवाद ! साथी रचनाकारों को बधाई !

    ReplyDelete
  18. आकर्षक लिंक्स के साथ सुन्दर चर्चा प्रस्तुति .....मेरी रचना को स्‍थान देने के लि‍ए आभार..नवरात्रि की शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  19. चर्चामंच पर उपस्थिति हेतु आप सभी का हार्दिक आभार |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin