चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, November 16, 2013

"जीवन नहीं मरा करता है" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1431

 छिप-छिप अश्रु बहाने वालों
मोती व्यर्थ लुटाने वालों
कुछ सपनों के मर जाने से
जीवन नहीं मरा करता है

माला बिखर गई तो क्या है
ख़ुद ही हल हो गई समस्या
आँसू ग़र नीलाम हुए तो
समझो पूरी हुई तपस्या
कुछ दीपों के बुझ जाने से
आंगन नहीं मरा करता है

लाखों बार गगरियाँ फूटीं
शिक़न नहीं आई पनघट पर
लाखों बार किश्तियाँ डूबीं
चहल-पहल वो ही है तट पर
तम की उमर बढ़ाने वालों
लौ की आयु घटाने वालों
लाख करे पतझड़ क़ोशिश पर
उपवन नहीं मरा करता है

नफ़रत गले लगाने वालों
सब पर धूल उड़ाने वालों
कुछ मुखड़ों की नाराज़ी से
दर्पण नहीं मरा करता है

(साभार : गोपाल दास नीरज)   
नमस्कार  !
मैंराजीव कुमार झाचर्चामंच चर्चा अंक :1431 में,  कुछ चुनिंदा लिंक्स के साथ,आप सबों का स्वागत करता हूँ.  

एक नजर डालें इन चुनिंदा लिंकों पर............................

रेत के घरौंदे ...........
अन्नपूर्णा बाजपई
    
My Photo

  

कविता विकास   
  
My Photo

  

शांतनु सन्याल 
   
My Photo

  


अनिता  

मेरा फोटो





राकेश श्रीवास्तव   

My Photo



      नीलिमा शर्मा       

 













                                    
धन्यवाद !!
आगे देखिए "मयंक का कोना"
--
हिरनी
मन मचले तन डोले कथा हिरनी का अद्भुत तथ्य खोले !
सब सो गए शाम वनवासी कुंजो से आती ध्वनि बोले...
स्व रचना पर Girijashankar Tiwari
--
मुझे कुछ नहीं पता
तुम नाराज़ हो पता है मुझको 
इस नाराजगी के चलते 
बात नहीं करते हो मुझसे ..
ज़िन्दगीनामा पर Nidhi Tandon

--
मन्दिर या विकास ?
नेता और उद्योगपतियों ने मिलकर 
जनता को बन्धक की जिंदगी 
जीने के लिए मजबूर कर दिया है | 
जनता को अब जाग जाना चाहिए ....
अनुभूति पर कालीपद प्रसाद

--
बालार्क …मेरी नज़र से

ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र पर 

vandana gupta 
--
ऑनलाइन लेखन शैली को रखें 
सर्च इंजिन के अनुकूल
ऑनलाइन लेखन गूगल के लिए
ज़िंदगी के मेले पर बी एस पाबला 

--
हुत्त ... हम नहीं जाएंगे वोट डारने ....

आइये, कुछ बातें करें ! पर मनोज कुमार श्रीवास्तव

--
हमारे अपने--- कहीं जाते नहीं हैं

मन के - मनके

--
बस एक ख्याल

वफा की राह में चल सफ़र को निकलते हैं...।
अहसासों का रंगमंच पर Minakshi Pant 
--
आज याद आती है
एक वक़्त ऐसा भी था, 
हरेक लम्हा था मेरे आगोश में, 
सूने-से आज इस पल में, 
उन लम्हों की आज याद आती है | 
आँखों के सामने दो आँखें थी, 
थोड़ी ख़ामोशी, थोडा प्यार लिए, 
रहस्य से भरी सागर जैसी, 
उन आँखों की आज याद आती है...
मेरा काव्य-पिटारा पर ई. प्रदीप कुमार साहनी

--
सात समंदर पार, चली रविकर अधमाई-
बेसुरम्‌
बेसुरम्‌ पर रविकर 

--
कुछ लिंक "आपका ब्लॉग" से
आपका ब्लॉग
--
देश लूटने पर मगर, दंड नहीं कुछ ख़ास -
लाज लूटने की सजा, फाँसी कारावास |
देश लूटने पर मगर,  दंड नहीं कुछ ख़ास...
आपका ब्लॉग पर रविकर
--
"दोहे-आपका ब्लॉग"
आपका ब्लॉग
यह “आपका ब्लॉग” है, अपना समझो मित्र।
अन्य ब्लॉग के लिंक का, यहाँ न छिड़को इत्र।।

जिसको साझा कर लिया, करो उसे स्वीकार।
सौतेला सा मत करो,  उससे तुम व्यव्हार।।

कहलायेगी आपकी, पोस्ट आपका नाम।
एक पोस्ट को सब जगह, देते क्यों आयाम।।

क्षमता का कर आकलन, शक्ति का उपयोग।
पुनरावृत्ति देख कर, हँसी उड़ाते लोग।।

टिप्पणियों के वास्ते, लिखना मत साहित्य।
चलती है वो लेखनी, जिसमें हो लालित्य।।
--
People who have Type 1 diabetes 
do not produce insulin, 
a hormone the body needs to convert sugar 
and starches into energy
Diabetes continues to spread around the world
On World Diabetes Day, news about the disease's global 
impact is dire.

--
मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है...
I Love my India. पर

Aditya Chetan 
--
"बादल आये रे"

"धरा के रंग"

--
रोना धोना चुल्लुओं, पाँच साल फिर होय-

"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर 

21 comments:

  1. बहुत मेहनत और लगन से संकलित किये गये आज की चर्चा के सूत्रों में "उल्लूक" का संदेश "जिसके लिये लिखा हो उस तक संदेश जरूर पहुँच जाता है" को शामिल किया ! आभार !

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा. मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  3. वाह...इतन सारे एक से बढकर एक लिंक्स...आपका श्रम प्रशसंनीय है. आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा.........
    सभी लिंक्स खूबसूरत !!

    अनु

    ReplyDelete
  5. आपने बेहतरीन पोस्ट सजाया है ......!!
    मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. हुत सुन्दर लिंक्स दिए है, आभार मुझे स्थान देने के लिए !

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति!
    आभार!

    ReplyDelete
  8. हर बार की तरह बेहतरीन पेशकश राजीव भाई , व चर्चा मंच को धन्यवाद
    नया प्रकाशन --: प्रश्न ? उत्तर -- भाग - ६

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...आभार

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर चर्चा राजीव जी ..

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा-
    सुन्दर प्रस्तुति-
    बधाइयाँ आदरणीय-

    ReplyDelete
  12. मुझे चर्चा मंच पे लाने के लिए और इतना अच्छा मंच सजाने के लिए बहुत धन्यवाद राजीव जी। आभार

    ReplyDelete

  13. उत्कृष्ट सेतु आप लाये हैं करीने से सजाये हैं ,देखो हमने भी बिठाये हैं। आभार।

    ReplyDelete
  14. दुनिया भर में खोजियां ,उनसा मिलान कोय।
    --
    रोना धोना चुल्लुओं, पाँच साल फिर होय-

    "लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर

    ReplyDelete
  15. चौमासे में आसमान में,
    घिर-घिर बादल आये रे!
    श्याम-घटाएँ विरहनिया के,
    मन में आग लगाए रे!!

    बे हद की सांगीतिक रचना मीठी मीठी रोटी सी ।

    ReplyDelete
  16. sundar मनोहर बिम्ब लिए सुन्दर रचना रूपक भी अभिनव तत्व लिए संजोया है आतंकियों की ओर साफ़ इशारा।

    "हो गया इन्सान बौना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

    ReplyDelete
  17. बढ़िया लिंकों के साथ अच्छी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर चर्चा ..........आभार

    ReplyDelete
  19. आपका हरदिक आभार आ0 राजीव झा जी , सुंदर रचनाओं के साथ आपका चर्चा मंच यूं ही चलता रहे हमारी रचना को भी मान मिला आपका धन्यवाद ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin