Followers

Tuesday, December 03, 2013

मंगलवारीय चर्चा --१४५० -घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं

आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , आप सब का दिन मंगल मय हो, अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 

है बोझ तू

Asha Saxena at Akanksha 

तरही गजल

सरिता भाटिया at गुज़ारिश 

मौसम-ए-इश्क हसीं प्यास जगा जाता है

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" at My Unveil Emotions
___________________________________________

बार्सिलोना भाग -3 तीसरा और अंतिम भाग

______________________________________

परिकल्पना और बच्चों का कोना

रश्मि प्रभा... at परिकल्पना 

तोलो फिर कुछ बोलो

त्रिवेणी at त्रिवेणी
________________________________________

किताबों कि दुनिया -89

नीरज गोस्वामी at नीरज 

नॉट सो नाइंटी


मारक धारा का कहीं, दुरुपयोग ना होय-


घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं -सतीश सक्सेना

सतीश सक्सेना at मेरे गीत 

लघु कविता - विकलित आखर (चोका विधा पर आधारित)

Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR - 
__________________________________________________

आज तोड़ दें सब जंजीरें

__________________________________

हड़प्पा

निहार रंजन at बातें अपने दिल की -
___________________________________

साझी व्यथा...!

अनुपमा पाठक at अनुशील 
________________________________________

पुरुष हुए शर्मिंदा -लघु कथा

shikha kaushik at भारतीय नारी -
____________________________________________

श्याम स्मृति....अनावश्यक व्यर्थ के समाचार व टीवी चर्चाएँ .... डा श्याम गुप्त ....

_____________________________________________________

घर पर पूछे गये प्रश्न पर यही जवाब दिया जा रहा है

सुशील कुमार जोशी at उल्लूक टाईम्स
__________________________________

Shimla-Kufri-Narkanda शिमला-कुफ़री-ठियोग-नारकंड़ा-सैंज


"काला कागा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक at नन्हे सुमन - 
आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||

--
आगे देखिए "मयंक का कोना"
--
vibha rani Shrivastava
--
तकनीक हिंदी में पर नवीन प्रकाश 
--

अनुभूति पर कालीपद प्रसाद 
--
धरती के उस छोर पर 
धानी चूनर ओढ़ कर 
वसुधा मिलती हैं अनन्त से जहाँ 
चलो मिलते हैं वहाँ ...
सादर ब्लॉगस्ते! पर Shobhana Sanstha

--
तुम्हारे और मेरे बीच......
तुम्हारे और मेरे बीच अगर कुछ होगा 
तो वो सिर्फ प्रेम होगा 
हमारी हथेलियों पर हर पल अंकुरित होता प्रेम 
स्पर्श की ऊष्मा से.... 
मेरे दिल से सीधा कनेक्शन..पर expression 
--
"जवानी गीत है अनुपम" 
सुलगते प्यार मेंमहकी हवाएँ आने वाली हैं।
दिल-ए-बीमार कोदेने दवाएँ आने वाली हैं।।

चटककर खिल गईं कलियाँ,
महक से भर गईं गलियाँ,
सुमन की सूनी घाटी मेंसदाएँ आने वाली है।
दिल-ए-बीमार कोदेने दवाएँ आने वाली हैं।।
काग़ज़ की नाव (मेरे गीत)
--
"तुम साथ क्या निभाओगे?" 

राह कठिन हैपथ दुर्गम हैतुम साथ क्या निभाओगे?
पथरीली राहों पर चलते-चलते, तुम थक जाओगे।।

मेरे साथ नही मस्ती हैविपदाओं से कुश्ती है,
आँधी और तूफानों से, तुम निश्चित ही डर जाओगे।
उच्चारण
--
" चित्रों का संसार "!! 
आप भी देखिये आनंद लीजिये !!

5TH Pillar Corruption Killer

पर 
PITAMBER DUTT SHARMA
--
बालार्क की चौथी किरण और मेरी नज़र

ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र पर 

vandana gupta
--
डा श्याम गुप्त का गीत ......
मेरे गीतों में आकर के ..
मेरे गीतों में आकर के तुम क्या बसे,

गीत का स्वर मधुर माधुरी होगया। 
अक्षर अक्षर सरस आम्रमंजरि हुआ,
शब्द मधु की भरी गागरी होगया...
--
सबका अपना पाथेय पंथ एकाकी है , 
अब होश हुआ जब इने गिने दिन बाकी हैं।रविकर 
श्वासों से सरगम बजे, गम से तो उच्छ्वास |

क्या है कामानन्द का, सजना सजनी पास...
--
सेहतनामा
आरोग्य प्रहरी
(१)आखिर ऐसा क्या है करेले में जो इसे डायबिटीस के समाधान में सबसे ऊपर रखे हुए है। इसमें है एक यौगिक CHARANTIN जो ग्लूकोज़ के उच्च स्तर को पस्त कर देता है...

--
सृजन से दूर

Love पर Rewa tibrewal


फेसबुक के आने से लोगों की थोड़ी चहलकदमी कम हो गयी 
ब्लॉग पर वरना एक समय ब्लॉगरों की धूम होती थी....
साहित्य प्रेमियों की जान ब्लोगर 
अभी भी निहारता लोगों के कदमचाप पर अकेला बैठा रहता....
शायद पूछता ही ना कोई उसको....!!! 
नयी जेनेरेशन तो मानो जानती ही ना हो ब्लॉग होता क्या हैं...
KNOWLEDGE FACTORY पर rahul misra

25 comments:

  1. शुभ प्रभात |
    विविधता लिए सूत्र |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार राजकुमारी जी |
    आशा

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और रोचक सूत्रों से सजी चर्चा।

    ReplyDelete
  3. आज की चर्चा में सुंदर सूत्र संयोजन और कहीं बीच में उल्लूक का "घर पर पूछे गये प्रश्न पर यही जवाब दिया जा रहा है" भी दिखाई दिया बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर और रोचक सूत्र ..

    ReplyDelete
  5. बढ़िया लिंक्स व प्रस्तुति , मंच को धन्यवाद
    नया प्रकाशन --: अपने ब्लॉग या वेबसाइट की कीमत जाने व खरीदें बेचें !

    ReplyDelete
  6. शुभप्रभात
    तहे दिल से आभार और धन्यवाद
    सादर

    ReplyDelete
  7. हड़प्पा को यहाँ स्थान देने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा-
    प्रभावी लिंक्स-
    आभार दीदी-

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सौद्देश्य प्रस्तुति।

    राह कठिन है, पथ दुर्गम है, तुम साथ क्या निभाओगे?
    पथरीली राहों पर चलते-चलते, तुम थक जाओगे।।

    मेरे साथ नही मस्ती है, विपदाओं से कुश्ती है,
    आँधी और तूफानों से, तुम निश्चित ही डर जाओगे।
    उच्चारण

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रोमांचक प्रस्तुति ।आस लिए जीवन की उजास लिए।

    दिवस है प्यार करने का,
    नही इज़हार करने का,
    करोगे इश्क सच्चा तो, दुआएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

    सुलगते प्यार में, महकी हवाएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

    चटककर खिल गईं कलियाँ,
    महक से भर गईं गलियाँ,
    सुमन की सूनी घाटी में, सदाएँ आने वाली है।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।
    काग़ज़ की नाव (मेरे गीत)

    ReplyDelete
  11. चढ़े देह पर *देहला, देहात्मक सिद्धांत |
    लेशन लिव-इन-रिलेशनी, जीने के उपरान्त |

    जीने के उपरान्त, सोच क्या खोया पाया |
    हरदम रहे अशांत, स्वार्थ सुख आगे आया |

    त्याग समर्पण छोड़, ओढ़ ले चादर रविकर |
    है समाज का कोढ़, वासना चढ़े देह पर ||

    बहुत खूब प्रस्तुति सशक्त भावों की उन्मुक्त उड़ान .

    मारक धारा का कहीं, दुरुपयोग ना होय-
    रविकर at "लिंक-लिक्खाड़" -

    ReplyDelete
  12. राजनीति के मुहरों के रंग,देख लिए हैं,जनता ने !
    केवल बच कर रहना होगा, इतने बदबूदारों से !

    नेता एक दमदार चाहिए ,मोदी सा किरदार चाहिए ,

    आगे बचके चलना होगा रिमोटिया सरदारों से।

    राजनीति के मुहरों के रंग,देख लिए हैं,जनता ने !
    केवल बच कर रहना होगा, इतने बदबूदारों से !

    नेता एक दमदार चाहिए ,मोदी सा किरदार चाहिए ,

    आगे बचके चलना होगा रिमोटिया सरदारों से।

    घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं -सतीश सक्सेना
    सतीश सक्सेना at मेरे गीत

    ReplyDelete
  13. BAHUT BAHIYA RACHNAYEN PESH KEE HAIN JI AAPNE !! DHANYWAAD !!
    " आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
    BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
    प्रिय मित्रो , सादर नमस्कार !! आपका इतना प्रेम मुझे मिल रहा है , जिसका मैं शुक्रगुजार हूँ !! आप मेरे ब्लॉग, पेज़ , गूगल+ और फेसबुक पर विजिट करते हो , मेरे द्वारा पोस्ट की गयीं आकर्षक फोटो , मजाकिया लेकिन गंभीर विषयों पर कार्टून , सम-सामायिक विषयों पर लेखों आदि को देखते पढ़ते हो , जो मेरे और मेरे प्रिय मित्रों द्वारा लिखे-भेजे गये होते हैं !! उन पर आप अपने अनमोल कोमेंट्स भी देते हो !! मैं तो गदगद हो जाता हूँ !! आपका बहुत आभारी हूँ की आप मुझे इतना स्नेह प्रदान करते हैं !!नए मित्र सादर आमंत्रित हैं !!HAPPY BIRTH DAY TO YOU !! GOOD WISHES AND GOOD - LUCK !! प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is - www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :- www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
    www.pitamberduttsharma.blogspot.com
    मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
    मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
    आपका प्रिय मित्र ,
    पीताम्बर दत्त शर्मा,
    हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
    R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
    जिला-श्री गंगानगर।

    Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...आभार

    ReplyDelete
  15. उत्कृष्ट संयोजन ...हमें भी प्रोत्साहन हेतु बहुत आभार आपका |
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुन्दर और रोचक चर्चा.

    ReplyDelete
  17. सुन्दर और रोचक उत्कृष्ट सूत्र ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  18. संध्याकालीन अभिवादन !
    संयोजन अच्छा है !

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बढ़िया चर्चा ...सभी लिंक्स पढ़े...एक से बढ़ कर एक..
    हमारी रचना को शामिल करने का शुक्रिया.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  20. आकर्षक लिंक प्रदान करने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  21. चर्चामंच पर उपस्थिति के लिए आप सभी का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर चर्चा बहन राजेश कुमारी जी।
    चर्चा मंच के 1450वें अंक की बहुत-बहुत बधाई हो।
    आभार।

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर चर्चा दी

    ReplyDelete
  24. सुन्दर चर्चाएँ लिए आया चर्चा मंच,
    अभिवादन जो सजाते सुन्दर लिंक-प्रसंग |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...