समर्थक

Saturday, February 01, 2014

"मधुमास" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1510

 आजकल
सुबह की चाय की तरह
दिन की शुरुआत से ही
होने लगती है तुम्हारी तलब
स्वर का आरोह
सात फेरों के मंत्र-सा
उचरने लगता है तुम्हारा नाम
ज़रूरी-ग़ैरज़रूरी बातों में
शिक़वे-शिक़ायतों में
ज़िन्दगी की छोटी-बड़ी कठिनाइयों में
उसी शिद्दत से तलाशती हूँ तुम्हें
तेज़ सिरदर्द में जिस तरह
यक-ब-यक खोलने लगती हैं उंगलियाँ
पर्स की पिछली जेब
और टटोलने लगती हैं
डिस्प्रिन की गोली
ठीक उसी वक़्त
बनफूल की हिदायती गंध के साथ
जब थपकने लगती हैं तुम्हारी उंगलियाँ
टनकते सिर पर
तब अनहद नाद की तरह
गूंजने लगती है ज़िन्दगी
और उम्र के इस दौर में पहुँचकर
समझने लगती हूँ मैं
मधुमास का असली अर्थ
(साभार : अलका सिन्हा)    
 नमस्कार  !
मैंराजीव कुमार झा
चर्चामंच चर्चा अंक : 1510 में
कुछ चुनिंदा लिंक्स के साथ, 
आप सबों  का स्वागत करता हूँ.  
--
एक नजर डालें इन चुनिंदा लिंकों पर...
अक्सर जब किसी की मृत्यु हो जाती है तो उसे हम कहते हैं कि उसने देह त्याग दी. लेकिन यह सच नहीं हैदेह का साथ आत्मा छोड़ देती है और शरीर निर्जीव हो जाता है, उसकी सारी इन्द्रियाँ काम करना बंद कर देती हैं और ऐसी स्थिति में हम उस शरीर को निर्जीव कह देते हैंजो कि स्वाभाविक भी है. लेकिन किसी भी स्थिति में उसे देह त्याग नहीं कह सकते. गतांक से आगे .....!!! 

चमचमाती फ़्लैशलाईटें
बना देती हैं चमकदार  
प्रभात रंजन  

डीपीएस पुणे में कक्षा छह में पढ़ने वाले अमृत रंजन ने हमें अपनी कवितायें भेजी तो मैं थोड़ा विस्मित हुआ। 11 साल का लड़का सुंदर भाषा में ऐसी कवितायें लिखता है जिसमें सुंदर की संभावना दिखाई देती है। 

                                                              सरिता भाटिया   
पूस की वो रात 
ठिठुरते हुए तारे 
 शांत माहौल 
आँख मिचौली खेलता  
 चलते चलते बातें सेहत की
वीरेन्द्र कुमार शर्मा  
Red Raspberry Fruit Stock Photo

Eating high levels of flavonoids including anthocyanins and other compounds (found in berries ,tea ,and chocolate )could offer protection from type 2 diabetes .
प्रीति टेलर      
 मेरा फोटो
कुछ कहने की कोशिश का कोहरा ,
शब्द निशब्द ,ख़ामोशी का मोहरा ,
 
उन्नीस सौ उन्नीस में अमेरिका के मेनहट्टन प्रान्त में मई दिवस के दो दिन बाद के दिन पेट सीगर का जन्म हुआ था और वे इस जनवरी महीने के आखिरी दिनों में इस दुनिया के विरोध प्रदर्शनों में गाये जाने के लिए एक बेहद खूबसूरत गीत छोड़ गए हैं. हम होंगे कामयाब एक दिन.
शब्दहीन संवाद -आंसू और मुस्कान  
मदन मोहन बाहेती 'घोटू'        
काव्य संसार

मन की पीड़ा ,दिल का दर्द उमड़ आता है ,
बिना कहे  ही ,कितना कुछ कह देते आंसू 
ये पानी की बूँद छलकती जब   आँखों में ,
पलक द्वार को तोड़ ,यूं ही बह लेते  आंसू 
सुमन          
मेरा फोटो
I can't sleep mom  I can't "  एक सैड स्माईली के साथ अभी कुछ दिन पहले वॉट्सअप पर मेरे बेटे का यह मेसैज था मेरे लिए ! जिस बच्चे की नींद खो गयी हो उसकी माँ चैन से कैसे सो सकती है भला ?? 

Rajeev Kumar Jha    

He walked down from
The mountain heights
And saw dark strife
Grappling with the world
THE PEN ON PAPER..........
Aparna Bose     


The pen on paper
echoing the unconscious
or the subconscious
etches all


  अजय कुमार झा   
 
किसी के रूठने ,मनाने किसी के उतरने चढने का ये मौसम है ,
हमसे खुशबू आने लगी है कागज़ों की , पढने का ये मौसम है ....

भारतीय सिनेमा के दामन में चाँद-सितारों के साथ कुछ दाग़ भी सामानांतर रूप से सदा रहे हैं.

 Hitesh Rathi
     

डॉ. जेन्नी शबनम     
My Photo

'मैं तेज़ाब की 
एक नदी हूँ 
पल-पल में 
सौ-सौ बार 
खुद ही जली हूँ

My Photo
सुबह सुबह आज भी
सुनाई दिया जो
रोज सुनाई देता था
आप सोच रहे होंगे 
           तुषार राज रस्तोगी          
रात के आगोश में 
छा रही मदहोशियाँ 
धीमी सरसराहटें 
      राकेश श्रीवास्तव          
गुजरे हुए वक्त के साये से, डर लगता है,
तेरे बदले हुए तेवर से, डर लगता है,
तुम किसी और के हो जाओगे , ये मालुम नहीं!
मुझको अपने तकदीर से, डर लगता है। 

तुम नहीं होते तो ग़म भड़ जाता है,
ये मर्ज़ ऐसा है जो न नज़र आता है। 
Tum nahin hote to gham bhad jata hai,
Yeh marz aisa hai jo na nazar aata hai.

"आसमान में बादल छाया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
उच्चारण
मौसम ने है बहुत रुलाया।
आसमान में बादल छाया।।

सूरज ने अवकाश लिया है,
सर्दी फिर से वापिस आयी।
पीछा नहीं छोड़ती अब भी,
कम्बल-लोई और रजायी।
ऊनी कपड़ें में भी अब तो,  
काँप रही ठिठुरन से काया।
धन्यवाद !
आगे देखिए
"अद्यतन लिंक"
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
आया वसंत 

पीले लाल रंगबिरंगे पुष्प 
सजे वृक्षों पर रंग वासंती 
छाया धरती की चूनर पर ...
Akanksha पर Asha Saxena 
--
कहीं नहीं है आईना 

एक कविता भी है और  इसे  पढ़ने की  सुविधा के लिहाज से 
अलग- अलग पाँच कवितायें भी कह सकते हैं।...
अकथ कथ : कुछ छवियाँ
०१-
बोलते हैं बतियाते हैं
अव्यक्त को
व्यक्त में छापते
छिपाते।
साथ - साथ चलते हैं
राह
नहीं  किन्तु पाते।...
कर्मनाशा पर siddheshwar singh 
--
मंदमति मैमना और मेधावती बकरी 
आज मैमना फिर गलती करके लौटा था। पहले तो इसने एक गढ़ा हुआ मुर्दा खोदा और फिर मुर्दे के हत्यारों के बारे में कहा -हो सकता है इस हत्याकांड में कुछ लम्बे "हाथ "वाले भी शामिल रहे हों। लेकिन बाकी तमाम हाथ दंगा रोकने में मशगूल थे। इसलिए मुर्दे के रिश्ते नातों से मेरे मुआफी मांगने का सवाल ही कहाँ पैदा होता है...
आपका ब्लॉग पर 

Virendra Kumar Sharma -
--
मौन का दर्पण 

निस्पंद जलनिधि , मौन पर्वत , नीरव पवन , विवर्ण गगन , क्लांत, शिथिल निस्तेज अस्ताचलगामी भुवन भास्कर सभी जैसे साँस रोके जोहते हैं राह उस एक पल की जिस पल में जड़ हो चुकी सृष्टि किसी जादू से सहसा ही प्राणवान हो जाये और अन्यमनस्क रत्नाकर के उमंगहीन ह्रदय में आल्हाद की उत्ताल तरंगें उठने लगें ...
Sudhinama पर sadhana vaid
--
क्षणिकाएँ ---  
उगते सूरज की किरणे 

क्षणिकाएँ 
१ 
प्रतिभा --

नहीं रोक सके,
काले बादल
उगते सूरज की किरणें।


सपने --

तपते हुए रेगिस्तान
की बालू में चमकता हुआ
पानी का स्त्रोत, औ
जीने की प्यास. ...

सपन पर shashi purwar 
--
कार्टून :- 'आप' को तो OLX पे बेच के मानूंगा ... 

काजल कुमार के कार्टून

16 comments:

  1. वासंती रंग में रंगी चर्चा आज की |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. sabhi parijano aur mitro ko pranam , sabhi links bahut ache lage , hamen bhi shamil karne hetu tahe dil se abhaar

      Delete
  2. पोस्ट को मान व स्थान देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया और आभार राजीव भाई

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत आभार राजीव जी,
    बहुत सुन्दर लिंक्स दिए है आभार आपका !

    ReplyDelete
  4. आदरणीय, ये मेरे लिए हर्ष की बात है कि मेरी लिखी हुई कविता आपके मंच पर साझा की गई। पर इस बात से बहुत आहत भी हूं कि मेरी कविता का टाइटल और उसके शब्दों में थोड़ा सा हेर-फेर कर 'सरिता भाटिया' ने अपने नाम से अपने ब्लॉग पर पोस्ट किया। जिसे आपने अपने मंच पर जगह दी।
    http://theparulsworld.blogspot.in/2014/01/blog-post.html

    ReplyDelete
  5. एक खूबसूरत चर्चा ! उल्लूक के "आज के दिन अगर तू नहीं मारा जाता तो शहर का साईरन कैसे टेस्ट हो पाता" को स्थान दिया आभार !

    ReplyDelete
  6. देहांत का मतलब है देह का अंत। जीवांत कभी नहीं होता है। जीव (आत्मा )देह-अंतरण करता रहता है कर्मों के अनुसार। कृष्ण के चरणों में भक्ति और कृष्ण की जिस पर कृपा होती है वह वैकुण्ठ को जाता है कृष्ण के गोकुल में वास करता है देहांतरण से परे हो जाता है। बढ़िया विचार मंथन बढ़िया पोस्ट है।

    आत्महत्या पर आत्मचिन्तन...3
    केवल राम

    अक्सर जब किसी की मृत्यु हो जाती है तो उसे हम कहते हैं कि उसने देह त्याग दी. लेकिन यह सच नहीं है, देह का साथ आत्मा छोड़ देती है और शरीर निर्जीव हो जाता है, उसकी सारी इन्द्रियाँ काम करना बंद कर देती हैं और ऐसी स्थिति में हम उस शरीर को निर्जीव कह देते हैं, जो कि स्वाभाविक भी है. लेकिन किसी भी स्थिति में उसे देह त्याग नहीं कह सकते. गतांक से आगे .....!!!

    ReplyDelete
  7. बड़े जतन से सजाई है चर्चा मनोहारी अर्थपूर्ण सेतुओं के संग। आभार हमारे सेतु समायोजन के लिए।

    ReplyDelete
  8. बिजली करती आँख-मिचौली,
    हीटर पड़े हुए हैं ठण्डे।
    बाजारों से लकड़ी गायब,
    नहीं सुलभ हैं उपले-कण्डे।


    चमक-चमककर, कड़क-कड़ककर,
    घनचपला ने बहुत डराया।


    आसमान में बादल छाया।।


    सुन्दर बिम्ब सांगीतिक स्वर हैं रचना के।

    "आसमान में बादल छाया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

    ReplyDelete
  9. पानी मिला हुआ
    ही तो होता है
    पानी के नल में ही
    क्यों नहीं दे
    दिया जाता है
    बाकी सब वही
    होना था रोज रोज
    का जैसा रोना था

    सुन्दर परिकल्पना है बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया links

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ...आभार!

    ReplyDelete
  12. नेट की स्लो स्पीड मुश्किल से खोलती है ब्लॉग को। बहुत आभार आपका !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin