Followers

Saturday, March 01, 2014

"सवालों से गुजरना जानते हैं" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1538

 सब सवालों से गुजरना जानते हैं
हम भी शीशे में उतरना जानते हैं

कौन रोकेगा भला उनकी उड़ानें
वो सभी के पर कतरना जानते हैं

खैंचते रहिए लकीरें जा-ब-जा
हम किसी हद से गुजरना जानते हैं

इसलिए लम्बे सफ़र पे चल सके
आप चल-चलकर ठहरना जानते हैं

खूब वादों के पिटारे खोलिए
आप वादों से मुकरना जानते हैं

गैर मुमकिन है समेटे जा सकें
टूटने वाले बिखरना जानते हैं 
(साभार : देवेन्द्र गौतम)    
 नमस्कार  !
मैंराजीव कुमार झा
चर्चामंच चर्चा अंक : 1538  में
कुछ चुनिंदा लिंक्स के साथ, 
आप सबों  का स्वागत करता हूँ.  
--
एक नजर डालें इन चुनिंदा लिंकों पर...
 सबद - भेद : कविता में वसंत और प्रेम : ओम निश्चल 
अरूण देव 
 
'मिलकर वे दोनों प्राणी 
दे रहें खेत में पानी'. (त्रिलोचन)

जैसी प्रेम, दाम्पत्य और वासंती बयार की अनगिन अभिव्यक्तियाँ कविता में बिखरी पड़ी है. नवगीत की एक मजबूत धारा हिंदी में रही है. ऋतुओं और रोमांस की संधि बेला में खिले ऐसे ही  मनोहर पुष्पों को संजो कर यह  लेख तैयार किया गया है. 
सीले उलाहने, देर, बहुत देर बाद
पूजा उपाध्याय       

तुमने मुझे आखिरी चिठ्ठी कब लिखी थी? क्या कहा, सुसाईड लेटर? बेईमान कहीं के...उसमें तो सबका नाम था...तुम्हारी मां का, बहन का, एक आध पुरानी प्रेमिकाओं का भी कि तुम शादी का वादा नहीं निभा पाये
माधवी शर्मा गुलेरी 

जैसे चींटियां लौटती हैं बिलों में
कठफोड़वा लौटता है
काठ के पास

                                                    नीरज कुमार नीर     
आँख धरती की भरी होने लगी 
बादलों को तिश्नगी होने लगी. 

 आरोग्य समाचार
वीरेन्द्र कुमार शर्मा  

 )स्ट्राबेरीज में मौज़ूद रहता है एक पिगमेंट (रंजक )एंथोसायनिंस (anthocyanins ).बहुत उपयोगी साबित होता है यह रंजक एलडीएल कोलेस्टेरोल (दिल के मुफीद न आने वाला बैड  कोलेस्टेरोल ),ट्राइग्लिसराइड्स को असरदार तरीके से कम करने में। 
Reenu Talwar       
 
तुमसे बात करता हूँ मैं शहरों के पार 
मैदानों के पार तुमसे बात करता हूँ मैं 
मेरे होंठ तुम्हारे तकिये पर हैं 
दीवार की दोनों सतहें किये हुए हैं अपना मुख 
 Tea Garden
दार्जिलिंग में सुबह सवेरे जब हम टाइगर हिल पर पहुंचे तो वहां पर हमें कंचनजंगा का नजारा तो देखने को नही मिला पर और कई रोचक बाते देखने को मिली जैसे सुबह के 4 बजे जब हम टाइगर हिल जा रहे थे तो रास्ते में कई जगह औरते मिली जो कि गाडियो को हाथ भी दे देती थी ।
दमित इच्छा 
दीप्ति शर्मा           
My Photo

इंद्रियों का फैलता जाल 
भीतर तक चीरता 

मीनाक्षी मिश्रा तिवारी            
My Photo
सब कुछ साबुत जब दिखता है ऊपर से ,
बहुत कुछ टूटा होता है अन्दर !!
Rajeev Kumar Jha    

The old man
on the seashore 
fathoming
the depth of life.
My Photo
कितनी कथाऐं
कितनी कहाँनियाँ
शिव सुनी थी
तेरे बारे में 
My Photo 
जिनको माँ घर में बोझ लगे, वे नाकारा क्या समझेंगे !
पशुओं कि तरह मारे फिरते, वे आवारा क्या समझेंगे !

अज़मे सफ़र सरों पे उठाना है दूर तक

ले ज़िन्दगी को साथ में जाना है दूर तक

मिश्रा राहुल   
     

विभा रानी श्रीवास्तव      

चक्की जोहती 
खनकती चूड़ियाँ
दाल दरती ।

कितने दिलकश होते हैं वो 
उडी नींदों भरी रातें और बेचैनी भरे रंगीले दिन 
नजरो से नजरो की मुलाकातों भरे नशीले दिन 
खामोशियों में भी बेइंतहा बातों भरे सजीले दिन

 पारूल चंद्रा  

बचपन में पिता की बात मानती

और बाद में पति का कहा सुनती

क्या खुद की कभी सुन पाई है?

      ज्योति-कलश            
My Photo
आवाजाही जारी है ,
फिर हंगामा तारी है 
माँ
संगीता 

संदेह के बादलों से
भय की हो रही है बारिश
चू रही है छत
सील रहा है सब कुछ

"मनुजता की चूनरी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

ज़िन्दगी हमारे लिए
आज भार हो गई! 
मनुजता की चूनरी तो
तार-तार हो गई!! 
धन्यवाद !
आगे देखिए
"अद्यतन लिंक"
(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 
--
ये मेरी मज़बूरी है 

ये मेरी मज़बूरी है तुझे प्यार करना 
चाहे सबब मिले हमें इंतज़ार करना 
हालात-ए-बयाँ पर अभिषेक कुमार अभी 

--
आपकी मनोकामना पूरी होगी, 
ऐसा हमारा वरदान है 

Blog News पर DR. ANWER JAMAL

--
" थाली के बेंगन " 
लुढ़कने को तैयार हैं , 
बस टिकेट और मंत्री की कुर्सी देदो !! - 
पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक ) 

5TH Pillar Corruption Killer पर 

PITAMBER DUTT SHARMA 
--
पुराना स्कूल 

कितनों को बनाकर खुद टूट सा गया.....हर बार ये ख्याल मेरे जेहन मे आता जब भी मैं टूटे खंडहर मे रूककर अपने स्कूल के गेट को निहारता हूँ....खुद पर लाल रंग की परत ओढ़े....कराह रहा....
खामोशियाँ...!!! पर Misra Raahul
--
संदीप पवाँर की जीवनी-फ़रवरी २०१४ 

मार्च माह में आने वाले मुख्य त्यौहार व अवकाश निम्न है।
17 होली
18 रंगों की होली (दुल्हेन्ड़ी)
31 हिन्दी व तमिल नव वर्ष
जाट देवता का सफर/journey
--
बदले जो न ढंग.( दोहे ) 

 हाथ गुलाल लिए खड़े,मोहन बहुत उदास , 
राधा पहुँची डेट पर, और किसी के साथ...
काव्यान्जलि पर धीरेन्द्र सिंह भदौरिया 
--
वह दौर यह दौर 
मंजु मिश्रा
(माँ-बाप की तरफ से कुछ शब्द अपने बड़े हो गए बच्चों के लिए आजकल घर-घर में ये फिकरे आम हो गए हैं- "you don't know mom/dad  or you won't understand it"- बस उसी अनुभव से उपजी यह कविता हमें नादाँ समझते होऔर ये भूल बैठे हो 
हमीं ने उँगलियाँ थामीं तो तुमने चलना सीखा है 
सहज साहित्य पर सहज साहित्य 
--
"ग़ज़ल-नदी का काम है बहना" 
बहुत मज़बूत बन्धन है, इसे कमजोर मत कहना
बँधी जो प्यार की डोरी, बहुत अनमोल वो गहना

रिवाज़ों और रस्मों की, यहाँ परवाह है किसको
भले अवरोध कितने हों, नदी का काम है बहना...
--

14 comments:

  1. सुप्रभात।
    आपका दिन मंगलमय हो।
    शनिदेव सबकी रक्षा करें।
    --
    बहुत सुन्दर चर्चा।
    आभार आदरणीय राजीव कुमार झा जी।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर पठनीय लिंकों के चयन के साथ सार्थक प्रस्तुतिकरण,आभार राजीव कुमार जी।

    ReplyDelete
  3. सबसे पहले बहुत बहुत बधाई श्री राजीव जी और श्री डॉ मयंक जी।
    बहुत ही छानबीन के साथ आपने दोनों ने हर क्षेत्र के लिंक्स उठाये हैं और लाज़वाब जानकारियाँ प्रस्तुत किया है।
    लिंक्स में मेरी ग़ज़ल को स्थान देने के लिए हार्दिक आभारी हूँ।
    सादर

    ReplyDelete
  4. आज की सजी हुई सुंदर चर्चा में उल्लूक के सूत्र " बहुत कनफ्यूजन होता है शिव जब कोई तीसरी आँख की बात करता है" को स्थान दिया । आभार ।

    ReplyDelete
  5. bhayi saahib roop ji , saadar namaskaar !! aapka aashirwaad mujhe milta hi rahta hai . dhanywaad meri rachna shaamil karne heto . baaki ke mitron ne bhi sundar likha hai jise padh kar mera gyaan vardhan hua hai . charchaa manch kee kaamyabi isi tarah badhti jaaye yahi meri manokaamna hai !!
    आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

    जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
    " फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
    की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
    हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
    ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
    जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
    आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
    आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
    सधन्यवाद !!

    प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
    www.pitamberduttsharma.blogspot.com
    मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
    मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
    आपका प्रिय मित्र ,
    पीताम्बर दत्त शर्मा,
    हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
    R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
    जिला-श्री गंगानगर।
    " आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
    BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
    Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

    ReplyDelete
  6. बहुत ही श्रम से संजोयी हुई सूत्रों का संकलन ... आपकी मेहनत की खुशबू हम तक पहुच रही है .. आपका सादर आभार भाई राजीव जी.

    ReplyDelete
  7. बड़े ही सुन्दर और पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी चर्चा...सुन्दर और पठनीय लिंक्स संयोजन...इन्हें प्रस्तुत करने का अंदाज़ बहुत अच्छा लगा... मेरी रचना के चयन के लिए आपका बहुत-बहुत आभार..

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी चर्चा...सुन्दर और पठनीय लिंक्स संयोजन...
    मेरी रचना के चयन के लिए आपका बहुत-बहुत आभार और धन्यवाद ..

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छे लिंक्स ...मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार :-)

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...शुभ कामनाएं ..हृदय से आभार !!!

    ReplyDelete
  13. बढ़िया चर्चा, आप का शुक्रिया.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...