Followers

Thursday, April 03, 2014

मूर्खता का महीना ( चर्चा - 1571 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
APRIL FOOL ------- 1 अप्रैल को मूर्ख दिवस मनाया जाता है लेकिन इस वर्ष इसकी अवधि एक दिन से बढा दी गई , ठीक वैसे ही जैसे हिंदी दिवस के साथ साथ हिंदी सप्ताह, हिंदी पखवाड़ा ............ इस बार मूर्खता का महीना मनाया जा रहा है ............. वैसे आप अगर मूर्ख नहीं तो आपको पता होगा हर बार चुनाव के समय यह महीना मनाया जाता है ..........हमें गर्व है अपने आप पर कि हम हर बार मूर्ख बनते हैं | क्यों , ऐसा नहीं है क्या ? दिल पर हाथ रखकर पूछो तो खुद से |
चलते हैं चर्चा की ओर
ज़ख्म…जो फूलों ने दिये
आपका ब्लॉग
My Photo
 
My Photo
मेरा फोटो
Photo
विजय कुमार  : VIJAY  KUMAR
मेरा फोटो
और 
आभार 
"अदयतन लिंक"
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
हौसला
चाहे जितना आजमा लो तुम हमें 
हर कसौटी पर खरे उतरेंगे हम...
Sudhinamaपरsadhana vaid 
--

माया 

माया तो कुछ भी नहीं 
लोलुपता का महा-काव्य है 
खुद से छल, अनुरक्त से विरक्ति लोभ -प्रपंच से सिक्त 
निकृष्ट प्रेम का झूठा प्रलाप है...
--

ग़ज़ल - उसके इश्क़ में बेशक मैनें.... 

--
समझाने वाले की बात को समझना 
जरूरी समझा जाता है 
उलूक टाइम्स
उलूक टाइम्सपरसुशील कुमार जोशी
--

अंजान नहीं, हम जान गये 

हर चेहरे को पहचान गये। 
शास्त्रि से देशभक्त आज भी हैं, 
वो बेवजह ही बदनाम हो गये... 
--

हमारी बेज़ुबानी रास आ जाए तुम्हें शायद 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
--
"भारत माँ के मधुर रक्त को कौन राक्षस चाट रहा"

आज देश में उथल-पुथल क्यों,
क्यों हैं भारतवासी आरत?
कहाँ खो गया रामराज्य,
और गाँधी के सपनों का भारत?

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर और श्रम से लगायी गयी चर्चा।
    सुप्रभात...।
    --
    आप सब का दिन मंगलमय हो।
    --
    आभार भाई दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर सूत्र संयोजन दिलबाग का । 'उलूक' का आभार । सूत्र 'समझाने वाले की बात को समझना
    जरूरी समझा जाता है' शामिल किया ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर पठनीय लिंकों के साथ बहुत ही बेहतरीन चर्चा,आभार आपका।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा व अच्छे सूत्र विर्क साहब व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिन्दी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा व अच्छे सूत्र

    ReplyDelete
  6. सुन्दर लिंक्स से सुसज्जित चर्चा

    ReplyDelete
  7. उम्दा चर्चा |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुंदर सार्थक पठनीय सूत्र ! मेरी रचना को सम्मिलित किया आभारी हूँ !

      Delete
  8. सुंदर लिंक्‍स..;मेरी रचना को शामि‍ल करने का आभार..

    ReplyDelete
  9. उम्दा चर्चा..........मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...