Followers

Wednesday, May 14, 2014

"आया वापस घूमकर, देशाटन का दौर" (चर्चा मंच-1612)

आया वापस घूमकर, देशाटन का दौर । 
लोकतंत्र के पर्व है, मतदाता सिरमौर । 
मतदाता सिरमौर, गौर से दुनिया देखी । 

चिकित्सीय मिथक (मिथ )

चिकित्सा मिथ और यथार्थ २
Virendra Kumar Sharma

माँ : तुझे सलाम ! (1) 

मेरा सरोकारपर रेखा श्रीवास्तव

कौआ बहुत सयाना होता।
कर्कश इसका गाना होता।।

नन्हे सुमन
1.
पैसे ने छीने
रिश्ते नए पुराने
पैसा बेदिल ।
2.
पैसा गरजा
ग़ैर बने अपने
रिश्ता बरसा ।...

लम्हों का सफ़रपर डॉ. जेन्नी शबनम

5TH Pillar Corruption Killerपर 
PITAMBER DUTT SHARMA 

ओ इंसानियत के दुश्मनों 

सुना है दे दिया उन्होने 

तालिबानी हुक्म 

करो धर्मान्तरण 

वरना कर दिये जाओगे कत्ल 

और कर दिया धर्म परिवर्तन 

क्या वास्तव में 

इस तरह होता है धर्म परिवर्तन ?

तस्वीरें.... 

तस्वीरें
जो लटकी हैं
यूं ही दीवारों पर
याद दिलाने को
बीता कल...

जो मेरा मन कहे पर 

Yashwant Yash

प्यार इसी को कहते हैं 

मातृ दिवस पर बेटे सुयश से 
ये पीला कुर्ता उपहार मिला है 
और बेटी अदिति ने 
माचिस की डिब्बी से बनाकर 
ये ड्रेसिंग टेबिल उपहार दिया है ! 
पहली बार मैंने कुछ सीखा अपने बच्चों से...

ZEAL

मौका भी है दस्तूर भी 

ग़ाफ़िल की अमानतपर 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

भूल गए ऋतुराज मुझे क्यों 
अधर बन गए प्यासे गागर 
स्वप्न बीच जो भी सुन्दर था  
बन न सका प्रीति का सागर...
--
आप  के  इस  हुस्न को  हथियार  होना  चाहिए
नजर  जब  भी  उठे  ज़िगर के पार होना चाहिए 

समझा  दे  अपनी  यादों  को  रोज़ छुट्टी न मांगें
इश्क  के  तकवीम* में  न  इतवार  होना  चाहिए 

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर और इन्द्रधनुषी चर्चा।
    --
    आपका आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. मेरे ब्लॉग को शामिल करे- hindi-pc.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार!

    ReplyDelete
  4. "प्यार इसी को कहते हैं" में बच्चों की अपने माता-पिता के प्रति स्नेह की भावनाओं का बहुत ही सुन्दर चित्रण किया गया है. आज की चर्चा अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  5. शानदार सूत्रों का अनुपम संकलन.. सुन्दर चर्चा ... आभार.

    ReplyDelete
  6. चर्चा के खुलते ही पता चल गया था 'रविकर' लौट आया है :) सुस्वागतम । आपकी कमी चर्चा मंच पर खल रही थी । 'उलूक' का आभार सूत्र 'बहुत कुछ ऐसे वैसे भी कह दिया जाता है बाद में पता चल ही जाता है' को आज की चर्चा में स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  7. aapke is sankalan ko sabhi tarah ke rasaswadan se bhara huaa kah sakte hain !! meri rachna lagaane par aabhaar !!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढ़िया ब्लॉग सूत्र संकलन..... आभार |

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन बुधवारीय चर्चा , बेहतरीन लिंकों के साथ मेरे लिंक को भी स्थान देने हेतु , आ. रविकर सर व मंच को सदः ही धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  11. बढिया चर्चा रविकर जी।

    ReplyDelete
  12. बहुत बहुत धन्यवाद सर !

    सादर

    ReplyDelete
  13. "माँ तुझे सलाम " को स्थान देकर बहुत अच्छा किया क्योंकि सबके सँस्मरण अपने आप में एक अलग महत्व रखते हैं। धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...