समर्थक

Tuesday, July 08, 2014

अच्छे दिन हैं दूर, कीजिये काँय काँय-काँ ; चर्चा मंच 1668

काँय-काँय कौवे करें, झाँय-झाँय मक्कार । 
ठाँय ठाँय कर नकसली, हिला रहे सरकार ।

हिला रहे सरकार, मचाते लूट-मार वे । 
विगड़ रहे आसार, व्यवस्था दे नकार वे । 

मँहगाई भरपूर, बिगाड़े इधर जायका । 
अच्छे दिन हैं दूर, कीजिये काँय काँय-काँ ॥

किताबों की दुनिया - 96

नीरज गोस्वामी

अब

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

बारिश

देवेन्द्र पाण्डेय 

"गीत-खिलने लगा सूखा चमन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

घिर गये बादल गगन में, चल पड़ी पुरवा पवन।
पा सुधा की बून्द को, खिलने लगा सूखा चमन।।
देखकर काली घटा,
सूरज गया छुट्टी मनाने,
बया ने भी बुन लिए थे,
कुछ निरापद आशियाने,
इन जुलाहों की कला को, सभी करते हैं नमन।
पा सुधा की बून्द को, खिलने लगा सूखा चमन।।
--

आता रहे कोई 

अगर बस प्रश्न पूछने के लिये आता है 

उलूक टाइम्स
उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी

9 comments:

  1. बहुत सुंदर चर्चा. मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन लिंकों के साथ बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति आदरणीय।

    मत खुश हो मन देखके, यह सेंसेक्स उछाल
    मरते हैं इस देश के, भूख से अब भी लाल।

    ReplyDelete
  3. bahut badhiya shuruaat ki hai aaj ki charcha ki !! sundar sankalan !! gyanvardhak bhi hai ! meri post ko shamil karne par aapka dhanywaad !!

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , आ. रविकर सर , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..
    आभार!

    ReplyDelete
  6. मस्त चर्चा ... नए सूत्र ..
    आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  7. रंगीन चर्चा के लिए बधाई स्वीकार करें रविकर जी, आभार !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर संकलन ! लगभग हर विधा को आपने चर्चा मंच में स्थान दिया है ! श्री दिगंबर जी की ग़ज़ल , मनु त्यागी का अंडमान संस्मरण , ग़ाफ़िल साब , राजीव जी , बहुत सटीक संकलन

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा आदरणीय रविकर जी।
    आभारी हूँ आपका।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin