समर्थक

Monday, July 21, 2014

"टारगेट इंटरवेंशन की जरूरत ही क्यों ...?" { चर्चामंच - 1681 }

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
प्रिय ब्लॉगर मित्रों , चर्चामंच के इस अंक में मैं आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ व ईश्वर से आप सबके व मेरे लिए सद बुद्धि व सफल मार्ग की कामना करता हूँ - क्योंकि -
" जो क्षण हम ईश्वर के लिए व्यय करते हैं , वे व्यय न होकर , इस जीवन की ही नहीं , बल्कि आने वाले अनेकों जन्मों के जीवन की निधि बन जाते हैं। "

                                                 ~ दिव्य शक्ति माँ श्रद्धेया जी ~
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
                     अब चलते हैं चर्चा की ओर ....
_______________________________________________



कुछ दिनों पहले जब देश के स्‍वास्‍थ्‍यमंत्री डा. हर्षवर्द्धन ने नवआधुनिक समाज और मेट्रो कल्‍चर में आम होती जा रही प्रिमेराइटल यौन संबंध स्‍थापित करने की प्रवृत्‍ति पर लगाम लगाने की  बात  की थी, किशोर वर्ग को यौन शिक्षा देने  की बजाय उन्‍हें तन और मन से दृढ़ बनाने की बात  की थी तथा शादीशुदाओं से अपने ही साथी से संबंध बनाने को ही सुरक्षित बताया था,

                                    अब छोड़ो भी
_______________________________________________

               सीली यादें - श्री पारुल चंद्रा जी की प्रस्तुति


तुम्हारी यादें सहेज रखी है मैंने , मन के गागर से छलकती जा रही है।
कुछ तो बहुत गर्म हैं... , ठंडी आहों जैसी , और कुछ सीली पड़ी हैं......

                              कुछ ख़याल मेरे
_______________________________________________

         हाइकु - श्री विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति


             धरा संवरी , मेघों सी काली साड़ी ,बूंदों के बूटे।
             बूंदों के बूटे , भुट्टे की धानी साड़ी ,भू सज बैठी।

                               " सोच का सृजन "
_______________________________________________


मेरा फोटो

( असभ्य शब्दों को प्रयोग करने हेतु क्षमस्व ! मैंने भरसक प्रयत्न किया मर्यादा में रहने का ,
किन्तु स्वयम को असमर्थ पाया )
''उत्तर प्रदेश '' !!!!!!
थूकता हु आपके प्रशाषन पर !!!
घटिया जाहिल कुत्सित मानसिकता के लोग ! बलात्कारो का गढ़ !

                                    छद्मलेखक !
_______________________________________________


My Photo

        अदब कायदा खूब सिखाओ शेख कुएं औ खाई को !
        गिरना है वो गिर के रहेगा , देगा दोष खुदाई को !

       सारे फ़र्ज़ निभाए हमने,अब जाने का वक्त हुआ !
          दरवाजे पर कौन खड़ा है,इतनी रात बधाई को !

                                      मेरे गीत !
_______________________________________________

                   भीड़ - श्री प्रीती जैन जी की प्रस्तुति


  भीड़ अब व्यथित नहीं , लज्जित भी नहीं ,रोज ही ओधें मुँह
       निर्वस्त्र पड़ी स्वतंत्रता भी , नहीं खींच पाती ध्यान

_______________________________________________


मेरा फोटो

   लचकती डाल से इमली गिरी है कहीं पे आज फिर बिजली गिरी है
   वहाँ भवरों की हलचल है अभी तक जहाँ कच्ची कली जंगली गिरी है
    सितारों में तुम्हारा अक्स होगा खनकती सी हंसी उजली गिरी है

                                       स्वप्न मेरे........
_______________________________________________

            मुनिया की मौत - श्री स्मिता सिंह जी की प्रस्तुति


                     इस गांव की हवेलियों के पीछे
                       एक चमारों की बस्ती है
             रहती हैं जहां मुनिया, राजदेई और जुगुरी
             अपनी चहक से मिटाती हैं गरीबी का दंश

                                  बेपरवाह लहरें
_______________________________________________

     फैलते कंक्रीट के जंगल - श्री रेखा जोशी जी की प्रस्तुति

My Photo

ढलती शाम में जब सूर्य देवता धीरे धीरे पश्चिम की ओर प्रस्थान किया करते थे तब नीतू का मन अपने फ्लैट में घबराने लगता । वह अपने बेटे के साथ अपने फ्लैट के सामने वाले पार्क में टहलने आ जाया करती थी ।

                                 Ocean of Bliss
_______________________________________________

सब इनका किया कराया है फोटो लगा रहा हूँ इनको ढूँढ...  - श्री सुशील कुमार जोशी जी की प्रस्तुति


                                     एक मित्र जब 
                                    दूर देश से आकर 
                                      मेरे घर पहुँचे 
                                     अपनी जिज्ञासा 
                                      को शांत करने 
                                    के लिये पूछ बैठे 
                                    भाई ये रोज रोज 
                                 लिखने लिखाने की 
                              बात आपके दिमाग में 
                             कब से और कैसे है आई 
                             कुछ काम धन्धा नहीं है

                                उलूक टाइम्स
_______________________________________________


अहम् Profile

प्रश्न यह नहीं है कि सावित्री कितनी प्रासंगिक है या कितनी हानिकारक है। प्रश्न यह भी नहीं है कि वह आज के मानकों पर खरी उतरती है या नहीं। प्रश्न यह है कि आप अपनी समस्त प्रगतिशीलता और बौद्धिक प्रखरता के होते हुये भी उसके समान आदर्श गढ़ नहीं सके!

                            एक आलसी का चिट्ठा
_______________________________________________

            कर्मफल - श्री कालीपद प्रसाद जी की प्रस्तुति

My Photo

*जानता हूँ मैं ,पाप-पुण्य नाम से ,जग में कुछ नहीं है |* *कर्म तो कर्म है ,कर्म-फल नर, इसी जग में भोगता है |* *कर्मक्षेत्र यही है, ज़मीं भी यही है, कोई नहीं अंतर ,* *उद्यमी अपने उद्यम से ,बनाते हैं बंजर ज़मीं को उर्बर |

                            मेरे विचार मेरी अनुभूति
_______________________________________________

           टूटे हुए शायर का अरमां - मेरी प्रस्तुति जी


    एक टूटे हुए शायर का अरमां अभी कुछ बाकी है********
     जो पूरे ना हो सके उन सपनों का ख़वाब अभी कुछ बाकी है।

      हम लिख न सके ऐसी शायरी है जिन्दगी********
        कोरे पन्नों में कैद अरमां अभी कुछ बाकी हैं।

                   Information and solutions in Hindi
_______________________________________________

‘‘चारों ओर भरा है पानी’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) जी की प्रस्तुति

खटीमा में बाढ़ के ताज़ा हालात
जब सूखे थे खेत-बाग-वन,
तब रूठी थी बरखा-रानी।
अब बरसी तो इतनी बरसी,
घर में पानी, बाहर पानी।।
बारिश से सबके मन ऊबे,
धानों के बिरुए सब डूबे,
अब तो थम जाओ महारानी।
घर में पानी, बाहर पानी।।


                                      उच्चारण
_______________________________________________

अब आप सबसे आज्ञा _/\_ चाहता हूँ , ईश्वर की कृपा से अगर सही सलामत रहा तो अगले सोमवार , एक बार फिर धावा बूलूँगा , घबराने की ज़रुरत नहीं - क्योंकि - सिर्फ आपकी मेहनती पोस्ट्स का लिंक चर्चामंच पे देने के लिए , ओ के ! धन्यवाद !
_______________________________________________

24 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा सूत्र
    और उनका संयोजन

    ReplyDelete
  2. चर्चा की बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    कुछ लिंक देखने अभी बाकी हैं। दिन में सभी की पोस्ट पर जायेंगे।
    आपका आभार आशीष भाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ. बस यूं ही आशीर्वाद सदः मिलता रहे ! धन्यवाद !

      Delete
  3. बेहतरीन लिंलों के चयन के साथ बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति। आपका आभार आशीष भाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेन्द्र भाई धन्यवाद !

      Delete
  4. शुभ प्रभात
    चर्चा की उम्दा प्रस्तुती
    स्नेहाशीष .... शुक्रिया
    शुभ दिवस

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ. बहुत-बहुत धन्यवाद !

      Delete
  5. सटीक, सामयिक लिंक्स ! उत्तम संयोजन ! धन्यवाद, आशीष भाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रीती जी बहुत-बहुत धन्यवाद !
      || जय श्री हरिः ||

      Delete
  6. सुंदर सूत्रों के लिए धन्यवाद ! सोमवारीय चर्चा सत्र में मेरी ब्लॉग पोस्ट ' मै तुम्हारी ही बात कर रहा हु नराधमो ! ' को स्थान देकर मुझे प्रोत्साहित करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. अतिसुन्दर: ! , हमारे न्यू ब्लॉगर मित्र देवेन भाई की जय हो व मेरी तरफ से इनको भी धन्यवाद !

      Delete
  7. बहुत सुंदर चर्चा आशीष । 'उलूक' के सूत्र 'सब इनका किया कराया है ....' को जगह देने के लिये आभार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुशील सर आपको भी धन्यवाद !

      Delete
  8. सुंदर चर्चा ! आशीष भाई.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजीव भाई बहुत-बहुत धन्यवाद !

      Delete
  9. बेहतरीन चर्चा आभार

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर चर्चा ,बढ़िया लिंक्स ,मेरी रचना को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार आशीष जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद !

      Delete
  11. अच्छे लिंक्स।।।
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनुषा जी !

      Delete
  12. सार्थक सूत्र सुंदर चर्चा !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ. बहुत-बहुत धन्यवाद जो आपका आगमन हुआ !
      || जय श्री हरिः ||

      Delete
  13. खूबसूरत चर्चा बोलबाल ...
    शुक्रिया मुझे शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  14. खूबसुरत चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin