चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, August 14, 2014

'जब रेप होता है तो धर्म कहाँ जाता है?'; चर्चा मंच 1705

प्रिय पाठक गण !!
आदरणीय दिलबाग जी के नेट समस्याग्रस्त है, सो पुन: हाजिर हूँ-रविकर 
रविकर 

अपना हो आवास इक, मुट्ठी में हो वित्त । 
स्नेह-सिक्त वातावरण, सही वात कफ़ पित्त । 

सही वात कफ़ पित्त, चित्त में हर्ष समाये । 
अपने पर विश्वास, सदा यश आयु बढ़ाये । 

रिश्तों से उम्मीद, आज-कल थोड़ी रखना । 
कह रविकर से वृद्ध,  जियो खुद जीवन अपना॥ 
सुशील कुमार जोशी 

सरिता भाटिया
सदा
Anita
Asha Saxena 


संजय भास्‍कर 

Jai Sudhir 

सज्जन धर्मेन्द्र 

Naveen Mani Tripathi
vandana gupta 

shashi purwar 

udaya veer singh
noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी) 


प्रतिभा सक्सेना 

काजल कुमार Kajal Kumar 

 

Virendra Kumar Sharma 

 


रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

 

16 comments:

  1. आभार आदरणीय रविकर जी। आज देहरादून में हूँ। सोलह को खटीमा वापसी होगी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय-
      आज शाम को लखनऊ के लिए निकल रहा हूँ-
      मंगलवार को धनबाद वापस आऊंगा-अर्थात आकर बुधवार की चर्चा करूँगा --
      सादर-

      Delete
    2. bahut sundar post , dhanyavad hamen bhi charcha me shamil karne hetu

      Delete
  2. सुप्रभात
    नई नई पोस्ट
    आज चर्चा मंच पर
    मुझे भी स्थान मिला
    धन्यवाद इस के लिए |

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा रविकर जी । आभार 'उलूक' का सूत्र ' गधा घोड़ा नहीं हो सकता कभी तो क्या गधा होने का ही फायदा उठा' भी दिखा कहीं :)

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात ! सुंदर चर्चा के लिए बधाई व आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  5. सुंदर चर्चा .........आभार

    ReplyDelete
  6. अच्छी कड़ियाँ मिलीं रविकर जी। शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन सूत्र

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन सूत्र, सुंदर चर्चा के लिए बधाई व आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  9. बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , आ. रविकर सर , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  10. सुंदर चर्चा के लिए बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  12. कुछ देखें हैं, कुछ देखते है। सुंदर चर्चा सूत्र।

    ReplyDelete
  13. बढ़िया बहुरंगी सूत्रों के लिए आपका आभार !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर चर्चा आदरणीय रविकर जी।
    हमारी स्वतन्त्रता और एकता अक्षुण्ण रहे।
    इसा कामना के साथ।
    स्वतन्त्रतादिवस की पूर्वबेला पर सभी पाठकों को
    आजादी के दिवस की बधायी हो।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin