चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, August 18, 2014

भाग्य बनाए 'श्रीकृष्णजन्माष्टमी' चर्चामंच - 1709

*----------------------------------------------------------*
*----------------------------------------------------------------*
जय श्री कृष्ण , प्रिय ब्लॉगर मित्रों , चर्चामंच के इस अंक में मैं आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ , तथा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर , कुछ शब्दों के साथ , आपके पोस्ट व उनकी छुटपुट चर्चाएं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहाँ हूँ !
*----------------------------------------------------------*
बड़ी भाग्य से भाग्य हुई जो फिर खुशहाली लायी अष्टमी
फिर क्यों न हम सखी सखा सब मिलजुल के मनाये अष्टमी
****
कृष्ण कृष्ण की लहर में डूबो , क्योंकी साल भर में आए अष्टमी
मत चूंको , कहीं नाम जपन से , क्योंकी सद भाग्य बनाएं 'श्रीकृष्णजन्माष्टमी'

                                                     ~ आशीष ~
 *----------------------------------------------------------*
- अब बढ़ते हैं लिंक्स की ओर -
*----------------------------------------------------------*


मनमोहना
आनंदघन लीला
लल्ला गोपाला
जनम लिहले हो
अंगना मोरी
गाओ रे बधइयां
सोहर उठे

*----------------------------------------------------------*


कन्हिया आया
गोकुल गलियों में  
ले ग्वाल बाल |
धूम मचाई
दधि माखन खायो
मटकी फोड़ी |

*----------------------------------------------------------*

My Photo

देवकीनंदन  कृष्ण कन्हैया सभी  का प्यारा 
राधिका का मनमोहना गोपियों का भी दुलारा 
नाम तेरा ले कर पिया मीरा ने विष का प्याला 
नटखट मनमोहना यशोदा  की आँखों का तारा

*----------------------------------------------------------*
मनुहार - आ. श्री रेवा जी की प्रस्तुति


तेरे प्यार मे ओ कान्हा !
भूल गयी मैं आना - जाना
एकटक बस निहारती हूँ तुझको
जाने कैसे आकर्षण मे
बांध लिया है मुझको

~ Love ~
*----------------------------------------------------------*


मान्यता है कि त्रेता युग में  'मधु' नामक दैत्य ने यमुना के दक्षिण किनारे पर एक शहर ‘मधुपुरी‘ बसाया। यह मधुपुरी द्वापर युग में शूरसेन देश की राजधानी थी। जहाँ अन्धक, वृष्णि, यादव तथा भोज आदि सात वंशों ने राज्य किया।

*----------------------------------------------------------*


एक सपना जो पिछले कई वर्षों से मन में पल रहा था, वो अब जाके अपने सफ़ल होने के कगार पर है। 
जी हाँ ! 
मेरे सभी स्नेही मित्रों, शुभचिंतकों और गुरुजनों, ''पुस्तकाभारती प्रकाशन'' के नाम से प्रकाशन के क्षेत्र में क़दम रख रहा हूँ।
''पुस्तकाभारती प्रकाशन'' का पंजीकरण प्रमाण पत्र आज ही मेरे हाथ में आया है।
जहाँ तक प्रकाशित पुस्तकों की सूची है, तो वो पहले चरण में ''10 पाण्डुलिपियों'' का चयन पहले ही हो चूका है

*----------------------------------------------------------*
वह बात - आ. श्री अनीता जी की प्रस्तुति


एक बात जो दिल के करीब है
भिन्न-भिन्न शक्लें इख़्तियार कर लेती है
और घूम-घूम कर आ जाती है
हर बात में शामिल होने
जैसे गायक बार-बार गाता हो

*----------------------------------------------------------*

Gyan ki khoj

क्या खुब लिखा है किसी ने ...
"बक्श देता है 'खुदा' उनको, ... !
जिनकी 'किस्मत' ख़राब होती है ... !!
वो हरगिज नहीं 'बक्शे' जाते है, ... !
जिनकी 'नियत' खराब होती है... !!

*----------------------------------------------------------*

My Photo

तुम्हारे प्यार को मैंने
 पिंजरे में बंद कर
पाला चिड़िया की तरह
बरसों तक आशा के दाने ,
भ्रम का पानी पिलाती रही
कि तुम कभी तो आओगे

*----------------------------------------------------------*
प्रश्न ?????? - श्री परवीन जी की प्रस्तुति



जब सब लोग लिख रहे थे
स्वतंत्रता दिवस पर
लेख और रचना
मैंने भी लिखी थी चंद पंक्तियाँ

एहसास की लहरो पर ~
*----------------------------------------------------------*
फिल्म एक नजर में : लय भारी ( मराठी २०१४ ) - श्री देवेन पाण्डेय जी की प्रस्तुति



फिल्म एक नजर में : लय भारी ( मराठी २०१४ )
निर्देशक : निशिकांत कामत
निर्माता : जेनेलिया देशमुख ,झी टाकिज ,जितेन्द्र ठाकरे
कहानी : साजिद नडियादवाला
संगीत : अजय अतुल
रितेश देशमुख ने मराठी फिल्म निर्माण में अपने कदम रखे थे

छद्मलेखक ! ~
*----------------------------------------------------------*
दंगो का हवा महल - आ. श्री वीरेंद्र कुमार शर्मा जी की प्रस्तुति

Sonia alleged that incidents of communal clashes increased during the tenure of Modi government.

चुनावों में परिणाम आने से पहले राहुल गांधी ने एक भविष्यवाणी की थी कि यदि नरेंद्र मोदी प्रधानमन्त्री बनते हैं तो इतने व्यक्ति दंगों में मारे जाएंगे। वो संख्या हज़ारों में थी और निश्चित थी। ये बड़ी अजीब बात है कि राहुल गांधी ने ऐसी निश्चित संख्या घोषित की थी जैसे ये सारा काम उन्होंने अपने हाथों से करना था।

~ ram ram bhai ~
*----------------------------------------------------------*
क्या ये सच नहीं है - श्री अलोक जी की प्रस्तुति



क्या सच ये नहीं ?????
भारत गावों का देश है और यहाँ ज्यादातर गांव वाले ही रहते है |
मैं आपसे या आपके लिए नहीं कह रहा हूँ मैं जनता हूँ कि आप शहर में रहते है |
शहर में कूड़े से जमीन को पाट कर मकान बनाये जाते है |
कहते है जैसी नीव होती है वैसे ही ईमारत बनती है |

कानपुर यूनिवर्सिटी टीचर्स ब्लॉग असोसिएसन ~
*----------------------------------------------------------*
तनख्वाह में मिली इक लम्बी जुदाई है - आ. श्री मधु सिंह जी की प्रस्तुति

मेरा फोटो

मेरी  नौकरी  है इश्क की  मोहब्बत  कमाई है
 तनख्वाह  में   मिली   इक  लम्बी  जुदाई  है

खाव्बों  में   सही   उनसे   मुलाकात   हो गई
मेरे हाथो में जरा देख तेरी  नाज़ुक  कलाई है

बिस्तर  की  सलवटों  से  अहसास  हो  रहा है
मोहब्बत  नें   आज  अपनी   बरसी  मनाई है

~ Benakab ~
*----------------------------------------------------------*
समंदर जानता है ! - आ. श्री सुरेश स्वप्निल जी की प्रस्तुति

मेरा फोटो


वो  हमें  अच्छी  तरह  पहचानता  है
मानिए-वुस'अत  समंदर  जानता  है

राह  आसां  छोड़  कर  रूहानियत  की
ख़ाक  दर-दर  की  दिवाना  छानता  है

~ साझा आसमान ~
*----------------------------------------------------------*
“श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी की प्रस्तुति)

योगिराज श्रीकृष्णचन्द्र महाराज की जय हो!
फल की इच्छा मत करो, कर्म करो निष्काम।
कण्टक वृक्ष खजूर पर, कभी न लगते आम।।
sri_krishna
जन्म लिया यदुवंश में, कहलाये गोपाल। 
लीलाओं को देखकर, माता हुई निहाल।।
lord-krishna-govardhan-mountain

क्रूर कंस का नाश कर, कहलाए भगवान।।
jg04zd
जन, गण, मन में रम रहे, कृष्णचन्द्र महाराज।
गीता अमृतपान से, बनते बिगड़े काज।।

~ उच्चारण ~
*----------------------------------------------------------*
आओ श्याम बंसीधर - श्री कुलदीप ठाकुर जी की प्रस्तुति

[DSCN5675.JPG]

आहत यमुना तुम्हे बुलाए,
गायें     पीड़ा किसे सुनाएं,
आस है सब की तुम्ही पर,
आओ श्याम,  बंसीधर

~ मन का मंथन ~
*----------------------------------------------------------*
अब आप सबसे आज्ञा _/\_ चाहता हूँ , ईश्वर की कृपा से अगर सही सलामत रहा तो अगले सोमवार , एक बार फिर से --- मंच पर मिलूंगा कुछ नवीन रचनाओं के साथ , तबतक के लिए मंच व मेरी तरफ से आप सबको धन्यवाद !
 अरे - १ मिनट
 ' जय श्री राधे ' कहना तो भूल ही गया था , धन्यवाद ! 

14 comments:

  1. सुप्रभात
    बढ़िया चर्चा सूत्र|
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  2. 'जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर सुंदर चर्चा। कृष्ण लीला के सुंर चित्रों के साथ।

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात
    स्नेहाशिष और असीम शुभकामनायें
    बेहद खुबसूरत प्रस्तुती चर्चा मंच की

    ReplyDelete
  4. पावन पर्व जन्माष्टमी के अवसर पर सुन्दर रचनाओं का पुष्प गुच्छ चर्चा मंच की ,खुबसूरत प्रस्तुती,

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कृष्णमय चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सबको श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर
    सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की अनंत अनंत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. कमाल की चर्चा करते हैं भाई आशीश जी...
    इस चर्चा में मेरी रचना शामिल हुई धन्यवाद।
    आप सब को नयी पुरानीहलचलकवितामंच की ओर से, सबको श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा सूत्र, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. कृष्ण मयी आज की सुन्दर चर्चा के लिए बहुत बहुत बधाई आशीष जी..आभार !

    ReplyDelete
  10. मंगलप्रभात। मंगलवार मंगलमय हो।
    --
    बहुत सुन्दर और श्रम के साथ की गयी सार्थक चर्चा।
    --
    आभार आशीष भाई।

    ReplyDelete
  11. bahad sunder sutr...hamari rachna shamil karne ke liye bahut aabhaar...janamashtami ki shubhkamnaayein

    ReplyDelete
  12. इस चर्चा सत्र में केवल हमारी ही पोस्ट 'ऑफ़टॉपिक ' लग रही है ! कृष्णमय चर्चा सत्र ! मेरी समीक्षा 'लय भारी ' को स्थान देने हेतु धन्यवाद ! ओह यह भी ऑफ़ टॉपिक नहीं है ,क्योकि फिल्म भगवान 'विट्ठल 'की महिमा को दर्शाती है जो के कृष्ण के ही अवतार कहे जाते है ! धन्यवाद जी

    ReplyDelete
  13. बहुत ही प्यारा अंदाज खुबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin