Followers

Sunday, October 26, 2014

"मेहरबानी की कहानी” चर्चा मंच:1778

कहूं क्या मेहरबानी की कहानी
फटी आँखों में पानी की कहानी

कलेजा और फुरसत हो तो बोलो
सुनाऊं जिंदगानी की कहानी

नसों को मल रहा हूं याद करके
लहू की द्रुत रवानी की कहानी

इस ऐंठी जीभ से संभव नहीं है
सुनाना नागरानी की कहानी

बुढ़ापे की जहाँ शुरुआत होती
वहीँ पूरी जवानी की कहानी

यूँ परिभाषित करूं मैं जिंदगी को
कहूं किससे परेशानी की कहानी

(साभार : केशव शरण)
--------------------
नमस्कार ! रविवारीय चर्चा में 
राजीव कुमार झा का अभिवादन.
--------------------
आज की चर्चा में शामिल लिंक्स हैं.......
--------------------
डॉ. अरविन्द मिश्र 
मेरा फोटो
दीवाली की अनेक यादें हैं। इस बार अपने पैतृक निवास जा नहीं पाया तो यादें और भी सघन हो मन में उमड़ घुमड़ रही हैं। हमारे लिए दीवाली का मतलब ही होता था पटाखों और फुलझड़ियों का प्रदर्शन। एक माह पहले से ही छुरछुरी ( पूर्वांचल में फुलझड़ियों को इस नाम से भी पुकारते हैं ) इकट्ठी करना शुरू हो जाता था जिसमें किशोरावस्था की देहरी पर खड़े समवयी हम कुछ बच्चे बड़े बुजुर्गो से आँख बचा बचा कर एक गोपनीय संग्रह करते जाते थे. 
----------------------
अशोक पाण्डे
मैं भटकता हूँ
जीवन के नाले में
किसी पुराने तिरपाल के थैले की तरह लिए अपनी स्मृति,
टपकते हुए फ़रिश्ते
----------------------
अरुण देव 
ग़ज़ल कविता का ऐसा ढांचा है जो ब-रास्ते फारसी से होते हुए दुनिया की अधिकतर भाषाओँ में मकबूल है.

बात रुक-रुक कर बढ़ीफिर हिचकियों में आ गई
फोन पर जो हो न पायीचिट्ठियों में आ गई


सुब्‍ह दो ख़ामोशियों को चाय पीते देख कर
गुनगुनी-सी धूप उतरीप्यालियों में आ गई
------------------------
वंदना गुप्ता 

रंगों को नाज़ था अपने होने पर
मगर पता ना था
हर रंग तभी खिलता है
जब महबूब की आँखों में
----------------------
बी.एस. पाबला 
email-read-bspabla
मेरी चुप्पी भांप उन्होंने एक तकनीकी जिज्ञासा जाहिर की. उन्होंने एक संवेदनशील ई मेल अपने किसी सहयोगी को भेजी थी और उत्तर की हफ्तों प्रतीक्षा करने के बाद उस संदर्भ में बात की तो वह सहयोगी साफ़ मुकर गया कि ऎसी कोई ई मेल उसे मिली है. 
-----------------------------
कुलदीप ठाकुर 
कुलदीप ठाकुर...
हर उत्सव,  त्योहारों पर,
होती थी मेरी पूजा,
हर पूजा, यज्ञ   के भोग का,
प्रथम अंश मुझे खिलाते थे...
-----------------
विजयलक्ष्मी
वो कोई और होंगे चेहरे पे गजल कहने वाले ,
उजला मन चांदनी छलकी तब गजल बनती है
---------------------------
Krishan Veer Singh
Bhai-dauj
भैया दूज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाए जाने वाला हिन्दू धर्म का पर्व है जिसे यम द्वितीया भी कहते हैं। भारतीय समाज में परिवार सबसे अहम पहलू है।
-----------------------
यज्ञ-हवन करके बहन, माँग रही वरदान।
भइया का यमदेवता, करना शुभ-कल्याण।।
----------------------
अमित मिश्र 
नव अंशु
देहक डिबियामे साँसक तेल अजब
अन्तिम गति बुझितो नेहक मेल अजब
---------------------
राजीव कुमार झा 
undefined
बचपन में माँ की डायरी में पढ़ी लोकगीत की एक कड़ी,आज अनायास ही याद आ गई है. .......
“महल पर कागा बोला है री”
---------------------
---------------------
शरारती बचपन पर sunil kumar
---------------------

मेरे दोहे .... 

Kunwar Kusumesh

---------------------

भारतीय मूल की दो बेटियों ने 

चिकित्सा क्षेत्र में किया कमाल 

शब्द-शिखर पर Akanksha Yadav
---------------------

आओ! जाने क्या है ‘भर्तृहरि-नीति‘ ? 

rishi1.jpg
Sanjay Kumar Garg 
---------------------

अम्बर तो श्वेताम्बर ही है 

गों को नाज़ था अपने होने पर 
मगर पता ना था हर रंग तभी खिलता है 
जब महबूब की आँखों में 
मोहब्बत का दीया जलता है.. 
vandana gupta 
---------------------

कार्टून :-हाफ़ स्‍वेटर वाले मंत्री जी 

---------------------

खोज सुख की 

प्रेम की पिपास अन्तर्निहित है जो,
घूमते चहुँ ओर उसके कर्म सारे ।
दे सके जो हर किसी को प्रेम तृप्ति,
बिका उसको कौड़ियों के मूल्य जीवन... 
न दैन्यं न पलायनम् पर प्रवीण पाण्डेय 
---------------------

हम दीपावली क्यों मनाते हैं ? 

Shabd SetuपरRAJIV CHATURVEDI 
---------------------
Rafi Ahmed Kidwai was a politician, an Indian independence activist and a socialist, sometimes described as an Islamic socialist.He hailed from Barabanki District of United Provinces, now Uttar Pradesh.He was born on 18 February 1894 in the village of Masauli, in Barabanki district, United Provinces, India, the eldest of four sons of Imtiaz Ali Kidwai, a middle-class zamindar (or landowner) and government servant, and his wife, Rashid ul-Nisa, who died during his early childhood. He received his early education from a tutor at the home of his uncle, Wilayat Ali, a politically active lawyer, and in the village school. He attended the Government High School, Barabanki, until 1913. He then attended the Mohammadan Anglo-Oriental College, Aligarh, where he graduated BA in 1918. He began work towards the degree of LLB, but, swept up by the khilafat and non-co-operation movements in 1920–21 (the first of Mahatma Gandhi's major all-India satyagraha, or non-violent civil resistance, movements) and jailed for his participation, he never completed it. He married Majid ul-Nisa in 1919. They had one child, a son, who died at seven years of age. Late Rafi Sahab had five brothers, he himself was the eldest. other brothers were Late Shafi Ahmad Kidwai, Late Mehfooz Ahmad Kidwai, Late Ali Kamil Kidwai and Late Hussain kamil Kidwai.Now Fareed Kidwai s/o late Mehfooz Ahmad Kidwai is a MOS in UP govt. Other surviving nephews are Rishad Kamil Kidwai s/o Late Mehfooz Ahmed Kidwai, Mumtaz Kamil Kidwai s/o Late Ali Kamil Kidwai and Hasan Javed Kidwai s/o Husain kamil Kidwai.Kidwai suffered heart failure, precipitated by an attack of asthma, in the midst of a speech at a public meeting in Delhi and died shortly thereafter, on 24 October 1954. He was buried in his home village, Masauli, where a Mughal-style mausoleum was built over his grave. A formidable fund-raiser for Congress movements and elections, he distributed his largesse to all and sundry, but died in debt, leaving behind only a decaying house in his home village.
....मेरे लिए यह गर्व का विषय है कि मेरा संबंध रफ़ी साहब के ज़िला बाराबंकी (दरियाबाद ) से है और मैं भी अपने बाबा जी, बाबू जी व नाना जी की भांति ही आज भी ईमानदारी के मार्ग पर चल कर पग-पग पर काँटों का सामना कर रहा हूँ। 24 अक्तूबर रफ़ी अहमद किदवई साहब का स्मृति दिवस है तो  हमारे पिता जी स्व.ताजराज बली माथुर साहब का जन्मदिन है ।
विजय राजबली माथुर
--------------------- 
व्यंग: 
दीपावली की आधुनिकता और प्रभु की दुविधा 

Vikram Pratap singh 
---------------------

 

छोट-बड़े का भेद तज, हों सब आज समीप !

भेद-भाव को त्याग कर, साथ जलायें दीप !!

देवदत्त प्रसून 
-----------------------
पंकज गोयल 
Ahmad Faraz (अहमद फ़राज़)
जानाँ दिल का शहर, नगर अफ़सोस का है
तेरा मेरा सारा सफ़र अफ़सोस का है

किस चाहत से ज़हरे-तमन्ना माँगा था
और अब हाथों में साग़र अफ़सोस का है
----------------------------
अभिमन्यु भारद्वाज 
undefined
 आईये जानते हैं एंड्राइड मोबाइल के वो टिप्स और ट्रिक्स जिनसे आप अपने एंड्रॉयड एंड्राइड मोबाइल को और भी बेहतरीन तरीके से यूज कर सके और उसका भरपूर फायदा उठा सकें - 
--------------------
अल्पना वर्मा 
स्त्री! तुम्हारी पीठ की लकीर रखनी  होगी 
तुम्हें हमेशा सीधी!
क्योकि यही करेगी  तुम्हारे काँधे के बोझ का संतुलन  
और यही रखेगी तुम्हारा सर ऊँचा !
--------------------------
आशीष अवस्थी 
--------------------------

धन्यवाद !


10 comments:

  1. शुभ प्रभात
    उम्दा लिंक्स |

    ReplyDelete
  2. चर्चा का आरंभ सुंदर कविता से किया गया...
    सभी रचनाएं लाजवाब है...मुझे भी स्थान दिया।
    आभार।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचनाओं का संकलन

    कहूं क्या जिंदगानी की कहानी
    हर सुबह हर शाम आती है सुनामी
    कलेजा थाम कर अक्सर बैठ जाता हूं
    खूँ से लथपथ है कफ़े-गुलचीं की कहानी

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति...
    आभार।

    ReplyDelete
  5. आदरणीय शास्त्री जी व झ साहब को धन्यवाद एवं आभार मेरे ब्लाग-पोस्ट को शामिल करने हेतु ।
    शास्त्री द्वारा लगाया 'हवन' का चित्र व दोहा अति उत्तम है।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा।
    मुझे शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  7. सुंदर लिंक्स व प्रस्तुति , आदरणीय राजीव सर व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर चर्चा सुंदर सूत्रों के साथ राजीव ।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...
    आभार!

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...