समर्थक

Wednesday, December 24, 2014

किसी गरीब की किस्मत से निवालों जैसे ...; चर्चा मंच 1837



SANDEEP PANWAR 


GYanesh Kumar 


राजीव कुमार झा 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

बैठ मजे से मेरी छत पर,
दाना-दुनका खाती हो!

उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!


ममता त्रिपाठी 

सुशील कुमार जोशी 
अल्पना वर्मा
udaya veer singh 
Kajal Kumar 

8 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्स|
    कार्टून मजेदार |

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा रविकर जी।
    --
    हृदय से आभार आपका।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत चर्चा । आभार 'उलूक' का सूत्र 'चाय की तलब और गलत समय का गलत खयाल' को जगह देने के लिये रविकर जी ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया लिंक्स-सह-चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  6. लगभग सभी लिंक्स देखली . रचनाएँ अच्छी हैं . मेरी कहानी को शामिल करने के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  7. सुन्दर सूत्र ..
    आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने का ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin