समर्थक

Saturday, December 27, 2014

"वास्तविक भारत 'रत्नों' की पहचान जरुरी" (चर्चा अंक-1840)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के निम्न लिंक।
--
--

मैरी क्रिसमस टू यू 

उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी 
--

फ़रेब ..... 

हर किसी को यहाँ मिलते हैं 
झूठे प्यार जिन्दगी के 
कुछ धोखे हैं 
कुछ मतलब हैं यहाँ 
सच्चे प्यार कहाँ मिलते हैं... 
आपका ब्लॉग पर इंतज़ार
--
--
--

Deewan 46 Qataat 

Junbishen पर Munkir 
--
१. मत छेड़ना इस राख को . . 
इसमें दबे  ज़ज्बात हैं . .
ज़ज्बात जाग गए गर तो , 
आग फिर लग जाएगी ।
२. उसके ख्यालों के क़र्ज़ मे दबे जाते हैं रोज़ाना,
 मोहब्बत! पूरे ब्याज़ के साथ उधार लेता है ।
 मेरी साँसें मेरी धड़कन सिर्फ अब मेरी न रही
     मोहब्बत! मिलकियत पर फ़क़त हिस्सेदार देता है...

कुमार शिवा "कुश" 

--

मेरे सुपुत्र कुमार शिवा "कुश" की रचना 

नहाकर नज्म निकली है, बालकोनी में आज अपनी ।
मेरी कलम को मिली वज्म , बालकोनी में आज अपनी.. 
"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर
--

मैं अकेला 

Akanksha पर Asha Saxena
--
--
--
--
--
--

479. एक सांता आ जाता... 

मन चाहता  

भूले भटके

मेरे लिए
दोनों हाथों में तोहफ़े लिए
काश ! 
आज मेरे घर  
एक सांता 
आ जाता... 
डॉ. जेन्नी शबनम 
--

ये दौरे-दहशत... 

न दिल रहेगा, न जां रहेगी 
रहेगी तो दास्तां रहेगी 
है वक़्त अब भी निबाह कर लें 
तो ज़िंदगी मेह्रबां रहेगी ... 
साझा आसमानपरSuresh Swapnil
--
--
--
--
--
--
--

"नयासाल-एक दोहा और गीत" 

आयेगा इस वर्ष भी, नया-नवेला साल।
आशाएँ फिर से जगीं, सुधरेंगे अब हाल।।
--
नव-वर्ष खड़ा द्वारे-द्वारे!
नव-वर्ष खड़ा द्वारे-द्वारे!
गधे चबाते हैं काजू,
महँगाई खाते बेचारे!!...

8 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा कमेंट्स पर्याप्त पढ़ने के लिए |बाबा आमटे को नमन |
    मेरी रचना शामिल करने के इए आभार सर |

    ReplyDelete
  2. शास्त्री जी, आपको भी नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाए... मेरी रचना शामिल करने के लए बहुत-बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  3. कार्टून को भी चर्चा में सम्‍मि‍लि‍त करने के लि‍ए वि‍नम्र आभार जी

    ReplyDelete
  4. सुंदर शनिवारीय चर्चा । 'उलूक' के सूत्र 'मैरी क्रिसमस टू यू' को जगह देने के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा -
    आभार आपका -

    ReplyDelete
  7. आद. मयंक जी मेरी रचना ''नवगीत (10) : फिर गये जब घूर के दिन ॥ '' को शामिल करने का धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. बहुत -बहुत आभार और तहे दिल से धन्यवाद मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin