समर्थक

Tuesday, December 09, 2014

मैया गई बुढ़ाय, बड़े ने आँख तरेरी-; चर्चा मंच-1822


मेरी माँ की गोद में, भैया तू मत बैठ |
छूता ज्यों भैया बड़ा, छोटू जाता ऐंठ |

छोटू जाता ऐंठ, बड़ा भी उसे धकेले |
मेरी मेरी बोल, रोज ही करे झमेले | 

मैया गई बुढ़ाय, बड़े ने आँख तरेरी |
छोटा रहा नकार, रहा बक तेरी-मेरी || 


akanksha-asha.blog spot.com 


8 comments:

  1. सुप्रभात
    सूत्र और संयोजन दोनो ही उम्दा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  2. रंग-बिरंगी और विविध आयामी सुन्दर चर्चा।
    --
    आपका आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर संयोजन । आभारी है 'उलूक' रविकर जी सूत्र 'लिखे हुऐ को लिखे हुऐ से मिलाने से कुछ नहीं होता है' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा सूत्र ...
    शुक्रिया मेरी रचना को आज की चर्चा में शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  6. लाजबाव चर्चा

    ReplyDelete
  7. सुंदर चर्चा..मेरी कवि‍ता को शामि‍ल करने का शुक्रि‍या

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin