Followers

Wednesday, January 07, 2015

कैसे शब्द बचेंगे अपने ?? चर्चा मंच 1851




रुतबे जिनके बड़े-बड़े हैं,
देख रहे वो दिन में सपने।

Dr.pratibha sowaty 

7 comments:

  1. सुप्रभात
    सूत्र और सूत्र संयोजन दोनो ही उम्दा हैं |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात। सुन्दर सूत्र समायोजन।

    ReplyDelete
  3. सुंदर बुधवारीय अंक । आभार रविकर जी 'उलूक' के सूत्र 'चूहे मारने वाली बिल्लियों को कुत्तों की देखभाल करने के काम दिये जाते हैं' को भी शामिल करने के लिये ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर बुधवारीय अंक सजाया है आपने।
    आभार रविकर जी

    ReplyDelete
  5. आप सभी से प्रेरित हो कर हमने भी पहली बार लिखा है ..शायद आपको अच्छा लगे
    http://dharmraj043.blogspot.in/2015/01/blog-post.html

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...