Followers

Friday, January 02, 2015

"ईस्वीय सन् 2015 की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा-1846)

मित्रों।
सबसे पहले आप सबको
नव वर्ष आपके जीवन में 
ढेर सारी खुशियों के लेकर आये 
यही कामना करता हूँ।
--
पिछले दो वर्ष ब्लॉगिंग के लिए 
अच्छे नहीं रहे हैं।
क्योंकि लगभग सारे के सारे ब्लॉगर
ब्लॉगिंग की बजाय फेसबुक पर
अपनी पोस्ट लगाने लगे थे।
मगर आज मुझे फिर से आभास हो रहा है कि
यह वर्ष ब्लॉगिंग के दृष्टिकोण से
बहुत अच्छा रहेगा।
जिसका प्रमाण साल के पहले ही दिन 
ये ढेर सारे लिंक हैं।
नहीं तो लिंक खोजने में तो 
नानी याद आ जाती थी
और टिप्पणियों का तो
ब्लॉग पोस्टों पर अकाल सा पड़ गया था।
--
देखिए नये साल में 
मेरी पसन्द के निम्न लिंक... 
--
--

"नये साल का सूरज"

मैं नये साल का सूरज हूँ,
हरने आया हूँ अँधियारा।
 मैं स्वर्णरश्मियों से अपनी,
लेकर आऊँगा उजियारा... 
--

बात करें हम कल ही की... 

नए साल में कल की बात क्यों ना करें , 
कल से ही तो आज है.... 
नयी उड़ान + पर Upasna Siag 
--
--

"नया वर्ष स्वागत करता है पहन नया परिधान" 

नया वर्ष स्वागत करता है पहन नया परिधान ।
सारे जग से न्यारा अपना है गणतन्त्र महान ॥
ज्ञान गंग की बहती धारा ,
चन्दा सूरज से उजियारा ।
आन -बान और शान हमारी -
संविधान हम सबको प्यारा ।
प्रजातंत्र पर भारत वाले करते हैं अभिमान... 
--
--
--

"काव्य की आत्मा? ...." 

*♥ रस काव्य की आत्मा है ♥* 
*सबसे पहले यह जानना आवश्यक है कि 
रस क्या होता है?* 
*कविता पढ़ने या नाटक देखने पर 
पाठक या दर्शक को जो आनन्द मिलता है 
उसे रस कहते हैं।* 
*आचार्यों ने रस को 
काव्य की आत्मा की संज्ञा दी है।*... 
--

चल मन अब उठ 

निविया पर नीलिमा शर्मा 
--
--
--
--

2015 मंगलमय हो 

मेरी भावनायें...पर रश्मि प्रभा... 
--

मेरे हमनशीं ,मेरे हमनवां 

मेरे हमनशीं ,मेरे हमनवां , 
तुझसे ही है मेरा जहां 
मेरे बेबसी के हमसफ़र , 
तुझसा न कोई मेहरबां 
मेरे हमनशीं ,मेरे हमनवां ... 
कविता-एक कोशिश पर नीलांश 
--
--
--
--

लिखते रहना है 

बिखरे हुए हैं अनेकों दृश्य जीवन के ....  
कहीं बहता पानी ऊंचे पहाड़ मैदान 
उगते डूबते सूरज चाँद .... 
अमीरी गरीबी उठने गिरने की 
सैकड़ों कही अनकही कहानी कविता और गीत 
सरगम की धुन भक्ति विरक्ति शक्ति और 
संघर्ष की गाथाओं से भरा पूरा इतिहास... 
Yashwant Yash 
--
--

काँटों से ज़ार एक फूल के नाम 

एक जनवरी। रात के साढ़े बारह बजे हैं। नए साल के जश्न का तेज़ शोर बंद खिड़कियों के पार से सुनाई दे रहा है। व्हॉट्स ऍप पर नया साल मुबारक के संदेश लगा तार बजे जा रहे हैं। सो जाने की मेरी कोशिश असफल हो गयी है। सर्द सियाह रात की तन्हाई में मेरी रूह पीड़ा के अथाह सागर में उतरती चली जा रही है। जीवन ने एक पाठ बड़ी अच्छी तरह पढ़ाया है --कि पीड़ा आस्था और तर्क दोनों से ही नहीं मिटायी जा सकती ;उसे मानस छलना से बस भुलाया भर जा सकता है। कुछ यूँ कि जैसे जेठ की दुपहरी में काँटों की चुभन भुला कर मन को नागफणी के एक्के-दुक्के पर बेपनाह खूबसूरत सुर्ख फूलों के सौंदर्य में ही टाँग लिया जाये... 
parmeshwari choudhary 
--
--
--

आ रे … 

Pratibha Katiyar 
--

जाते जाते आने वाले को 

कुछ सिखाने के लिये 

कान में बहुत कुछ 

फुसफुसा गया 

एक साल 

उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी 
--

--

स्वागत नववर्ष 

Maheshwari kaneri 
--

आशा के फूल ! 

--

राहें थीं जानी-पहचानी 

Tere bin पर 
Dr.NISHA MAHARANA 
--
और अन्त में...

"मुक्त छन्द-नये वर्ष में आप हर्षित रहें"

21 comments:

  1. आप सभी को नववर्ष पर हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    आज लगा काफी सूत्र हैं पढ़ने के लिए |बाकयी में दिनोदिन
    ब्लॉग सूने हो रहे
    बिना टिप्पणियों के
    फेस बुक महक रहा नयी नयी रचनाओं पर like से |

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष का स्वागत सत्कार करता बहुत ही आकर्षक चर्चामंच आज का ! शास्त्री जी आपको तथा चर्चामंच के सभी पाठकों को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. आप सभी को नववर्ष पर हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. नव वर्ष की शुभकामनाएं !
    बहुत सुंदर चर्चा.
    'देहात' से मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  6. नव वर्ष मंगलमय हो सभी ब्लागर्स और पाठकों के लिये । सुंदर ढेर सारे सूत्र लेकर आये हैं आज बड़ी मेहनत से आदरणीय शास्त्री जी । 'उलूक' भी खुश है सूत्र 'जाते जाते आने वाले को कुछ सिखाने के लिये कान में बहुत कुछ फुसफुसा गया एक साल" को स्थान मिला ।

    ReplyDelete
  7. सुंदर प्रस्तुति.
    नववर्ष की बधाई।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर व सार्थक चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत धन्यवाद सर!
    नव वर्ष 2015 आप सब को सपरिवार शुभ एवं मंगलमय हो।

    सादर

    ReplyDelete
  10. मेरी रचना को स्थान देने के लिये मयंक सर एवं मंच के सभी व्यवस्थापकों का आभार...... नववर्ष पर मेरी हार्दिक शुभकामना है कि -

    नववर्ष चर्चा मंच के लिए अत्यंत मंगलमय हो
    ये वर्ष इस परिवार के लिए विशेष उन्नति्मय हो,
    योजनायें जितनी भी हों सभी सुखदायी आकार लें
    आपको यश - कीर्ति का स्वप्निल नव संसार दें !!

    ///// हार्दिक बधाई सहित /////

    ReplyDelete
  11. waah ji !! itni shubhkaamnaon ke saath naya warsh shubh hoga hi hoga ! dhanywaad ! sabhi mitron kaa !!

    ReplyDelete
  12. bahut sundar ..dhanyavad n aabhar ....

    ReplyDelete
  13. नव वर्ष का स्वागत करता बहुत ही आकर्षक चर्चामंच आज का ! नव वर्ष मंगलमय हो सभी ब्लागर्स और पाठकों के लिये । सुंदर ढेर सारे सूत्र लेकर आये हैं आदरणीय शास्त्री जी
    मेरी रचना को स्थान देने के लिये मंच के सभी व्यवस्थापकों का आभार....

    "VMW Team "

    ReplyDelete
  14. meri rachna shamil karne ke liye aapka dhanywaad....happy new year to you all.

    ReplyDelete
  15. मेरी रचना को स्थान देने के लियेआभार.......नववर्ष पर मेरी हार्दिक शुभकामना

    ReplyDelete
  16. सुन्दर चर्चा मंच ...........नववर्ष पर हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद ! मयंक जी ! मेरी रचना ''पूर्ण सहर्ष करें मन से तेरा स्वागत नववर्ष ॥ '' शामिल करने हेतु एवं
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  18. आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.
    मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार.

    ReplyDelete
  19. sundar charcha , nav varsh ki hardik shubhkamnayen , mujhe shamil karne hetu hardik dhanyavd

    ReplyDelete
  20. यह भी अद्भुत है। आपका जज्‍बा और जोश काबिलेतारीफ है।

    ReplyDelete
  21. जो चला गया उसका जिक्र क्या,
    जो आ रहा है उसकी फ़िक्र क्या,
    सालो से, साल हर साल आतें हैं ,
    कभी उनको भी रही हमारी फ़िक्र क्या ?
    जो आ रहा है उसकी ख़ुशी क्या ?
    जो चला ही गया उसका गम भी क्या ?
    हमारे गम और हमारी खुशी के वक्र ,
    बता ऐ साल कभी सुधरेंगे क्या?
    फिर भी सब को नव वर्ष की बधाई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...