Followers

Sunday, March 22, 2015

"करूँ तेरा आह्वान " (चर्चा - 1925)

मित्रों। 
भारतीय नववर्ष के साथ
नवरात्रों का शुभारम्भ हो चुका है।
शक्तिस्वरूपा माँ 
आप सबकी मनोकामनाएँ पूरी करें।
देखिए रविवासरीय चर्चा में 
मेरी पसन्द के कुछ लिंक
--

संवत दो हजार बहत्तर कीलक अभिधानी। 

नूतन नव संवत्सर बने जन जन सन्मानी। 
संवत दो हजार बहत्तर कीलक अभिधानी... 
स्व रचना पर Girijashankar Tiwari 
--

चहक-चहक मन मोहती 

शीराज़ा  पर हिमकर श्याम 
--

वैसा ही हूँ 

शून्य से चलकर 
शून्य पर पहुँच कर 
शून्य मे उलझ कर 
शून्य सा ही हूँ 
जैसा था पहले वैसा ही हूँ... 
Yashwant Yash 
--
--

तुझे नमन करने को आते 

तुझे नमन करने को आते 
जग के सारे भक्त-प्रवर 
मुझ जैसे मलीन जड़बुद्धि रहते 
खड़े ठगे से अक्सर... 

क्रिकेट विश्व कप 2015 

विजय गीत 

धोनी की सेना निकली 
दोहराने फिर इतिहास 
अब तो अपनी पूरी होगी 
विश्व विजय की आस... 
दिल की बातें पर Sunil Kumar 
--
ज़िन्दगी
-------------
जाने किन समीकरणों में
हल  ढूंढती है ज़िन्दगी 
मिलता नहीं जो चाहा 
अनचाहा मिल जाता है। 
काव्य वाटिका पर Kavita Vikas 
--
--
--
--
--
--

शैशव का वैभव 

Akanksha पर Asha Saxena 
--

 बुझता दिया 

मेरी बाती जल गई है, 
तेल चुक गया है, 
लौ मद्धिम हो गई है, 
फिर भी मुझमें आग है. 
मुझे कमज़ोर मत समझना... 
कविताएँ पर Onkar
--

... इज़्हार का मौसम ! 

अभी इज़्हार का मौसम नहीं है 
नई तकरार का मौसम नहीं है 
लगाएं क्या गले से हम किसी को 
विसाले-यार का मौसम नहीं है... 
Suresh Swapnil 
--
--
--

11 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा लिंक संयोजन
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  2. सुन्दर संयोजन. मेरी कविता को स्थान दिया. शुक्रिया

    ReplyDelete
  3. Sabse Acha laga aajki charcha me WorldCup Vijay Song

    Internet Ki Puri Jaankari Hindi Me www.HindiMeHelp.com Par.

    ReplyDelete
  4. सार्थक, सुन्दर, सोद्देश्य सूत्रों से सुसज्जित मंच ! सभी मित्रों व पाठकों को नवरात्रों की हार्दिक मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!
    नवरात्री की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया संकलन है. मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद सर!

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर संकलन सर ,मेरी रचना को स्थान देने केलिए आभार

    ReplyDelete
  9. चर्चामंच हमेशा की तरह आज भी बहुत पसंद आया।
    नव वर्ष की मंगलकामनाएं।
    मेरा ब्लॉग् शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  10. वासन्तिक नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएँ. सार्थक लिंकों के चयन के साथ सुंदर चर्चा, मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार आ. शास्त्री जी।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...