चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, April 22, 2015

मुखरित अब अधिकार हो गये; चर्चा मंच 1953


डा. मेराज अहमद 



ब्लॉ.ललित शर्मा 



rohitash kumar 



Shalini Kaushik 



सुशील कुमार जोशी



udaya veer singh 



ज्योति-कलश 



Virendra Kumar Sharma



अभिषेक मिश्र 

3 comments:

  1. सुंदर बुधवारीय अंक रविकर जी। चर्चा 1853 की जगह 1953 कर लें । आभारी है 'उलूक' सूत्र 'कभी तो लिख यहाँ नहीं तो और कहीं दो शब्द प्यार पर भी झूठ ही सही' को आपकी आज की चर्चा में स्थान मिला ।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया चर्चा प्रस्तुति।
    आदरणीय रविकर जी आपका आभार।
    --
    आदरणीय सुशील कुमार जोशी
    चर्चा 1853 की जगह 1953 कर दी गयी है।
    याद दिलाने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  3. सुप्रभात
    उम्दा चर्चा |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin