चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, April 21, 2015

दोहे-"होना पड़ता सभी को, कभी न कभी अनाथ"-चर्चा मंच 1952

सादर-नमन 
----रविकर 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

Kailash Sharma 
vandana gupta 
जीवन और मैंप्रवीण पाण्डेय 
डॉ. कौशलेन्द्रम 

सु-मन (Suman Kapoor) 


Asha Saxena 


अनुपमा पाठक 


राजीव कुमार झा 


ब्लॉ.ललित शर्मा 


shashi purwar 


Shalini Kaushik 


सुशील कुमार जोशी 


डॉ. कौशलेन्द्रम 

4 comments:

  1. सुप्रभात
    पर्याप्त लिंक्स |उम्दा संकलन उनका |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार रविकर जी |

    ReplyDelete
  2. आदरणीय रविकर जी एक लम्बे अन्तराल के बाद आपकी चर्चा देखने को मिली।
    बहुत अच्छा लगा।
    आपका बहुत-बहुत आभार।

    ReplyDelete
  3. आदरणीय रविकर जी चर्चा को बाद में और पहले आप की उपस्थिति से चर्चामंच खिल उठा । बहुत सुंदर प्रस्तुति है इसीलिये मैंने भी आपका स्वागत करने के बाद में कहा ।'उलूक' के सूत्र 'अपने घर की छोटी बातों में एक बड़ा देश नजर अंदाज हो रहा होता है' को जगह दी दिल से आभार ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin