Followers

Monday, June 08, 2015

"बरफ मलाई - मैग्‍गी नूडल से डर गया क्‍या" (चर्चा अंक-2000)

मित्रों।
चर्चामंच का आज 2000वाँ अंक है।
सोमवार की चर्चा के अंक में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक
और आज तक का लोखा जोखा-
--
चर्चा मंच के चर्चाकार 
और उनके द्वारी की गयी चर्चाएँ-
1-ललित शर्मा कुल चर्चाएँ-7
2- सरिता भाटिया-10
3- कमल सिंह नारद-23
4- मनोज कुमार-64
5-राजीव उपाध्याय-5
6- राजीव कुमार झा-36
7- चन्द्र भूषण मिश्र ग़ाफ़िल - 80
8-रावेन्द्र कुमार रवि - 15
9- संगीता स्वरूप - 40
10- अरुणेश सी.दवे - 17
11- आशीष भाई - 7
12- ई.प्रदीप कुमार साहनी - 21
13- अपनी माटी-1
14- राहुल मिश्रा-7
15- एस.एम.मासूम -7
16- दीपक मशाल -3
17- ई.सत्यम् शिवम-20
18-अरुण शर्मा अनन्त-33
19- यशोदा दिग्विजय अग्रवाल-5
20- पं. डी.के. शर्मा वत्स-15
21- डॉ.नूतन गैरोला-12
22- ज्योति खरे-1
23- अनामिका-9
24- श्रीमती राजेश कुमारी-52
25- माणिक-1
26- अतुल श्रीवास्तव- 19
27- शशि पुरवार- 10
28- अभिलेख द्विवेदी- 1
29- अभिषेक कुमार अभी-12
30- श्रीमती विद्या- 20
31- धर्शन कौर धनोए- 5
32- श्रीमती वन्दना गुप्ता- 82
33- शिखा कौशिक-3
34- अदा- 5
35- डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक- 768
36- दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर-300
37- दिलबाग विर्क-201
38- राजेन्द्र कुमार- 68
39- अनूषा जैन-3
---------------

बरफ मलाई 

Fulbagiya पर डा0 हेमंत कुमार 
--
--
--

आपदायें 

आपदायें तोड़ने ही नहीं 
जोड़ने भी आती है 
मानवीयता के अर्थ और पीड़ा के 
अभिप्राय समझाने के प्रयोजन से 
प्रकृति भी खेलती है कई असह्य खेल... 
परिसंवाद पर डॉ. मोनिका शर्मा 
--

ग़ज़ल 

"सुराखानों में दारू के नशीले जाम ढलते हैं" 

वही साक़ी वही मय है, नई बोतल बदलते हैं
सुराखानों में दारू के नशीले जाम ढलते हैं

कोई गम को भुलाता है, कोई मस्ती को पाता है,
तभी तो शाम होते ही, यहाँ अरमां निकलते हैं... 
--

अच्छा नहीं लगा 

हिन्दी का सम्मेलन ,अंगरेजियत का पैगाम 
अच्छा नहीं लगा -
आए थे श्रद्धांजलि सभा में जन्मदिन का बयान
अच्छा नहीं लगा... 
उन्नयन  पर udaya veer singh 
--

कहानी मैगी से आगे भी है, 

जो अनसुनी है 

मैगी पर देश भर में बैन लग जाने के बाद ये लग रहा है मानों पूरे देश में खाद्य पदार्थ पूरी तरह से सुरक्षित हो गए हैं लेकिन सच इससे परे है... 
अग्निवार्ता पर Ashish Tiwari 
--

इक अजनबी 

अग्निशिखा :पर SHANTANU SANYAL 
* शांतनु सान्याल * শান্তনু সান্যাল 
--

राष्ट्रीय विभूतियों पर 

कब्जा जमाने की संघी कवायद 

...कुछ विभूतियों की भूमिका को बढ़ाचढ़ा कर प्रस्तुत करने और कुछ की छवि बिगाड़ने के खेल में आरएसएस पुराना उस्ताद है,यद्यपि अन्य राजनैतिक समूह भी ऐसा करते रहे हैं। संघ की मशीनरी, कुछ नेताओं का महिमामंडन, कुछ को नजरअंदाज करने और कुछ को बदनाम करने का काम दशकों से करती आई है... 
लो क सं घ र्ष ! पर Randhir Singh Suman 
--
--
--

सीमा विवाद 

amar shahid के लिए चित्र परिणाम
सीमा पर आये दिन
हादसे होते रहते है
माँ की ममता लिपटी ध्वज में
चिर निद्रा में सो जाती  |
एक तमगा मरणोपरांत
सैनिक को मिलता है
परिवार को भेट किये जाते है
चन्द सिक्के उसके बाद... 
Akanksha पर Asha Saxena 
--
--

जूही बेला मोंगरा की कली 

जूही बेला मोंगरा की कली 
खिलती बाबुल के अँगना 
महकती महकाती 
संवारती घर पिया का 
गाती गुनगुनाती . 
पीर न उसकी जाने कोई 
दर्द सबका अपनाती 
खुद भूखी रह कर भी 
माँ का फ़र्ज़ निभाती... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 
--
--
--
हम विषपायी जन्म के... 
आजकल भगवान भास्कर पाँच बजे ही निकलूँ-निकलूँ हो जाते हैं |  अभी बरामदे में खड़े आँखों पर पानी के छींटे मार ही रहे थे कि पोलीथिन बीनने वालों जैसा एक बड़ा सा कट्टा कंधे पर रखे तोताराम जयपुर रोड़ की तरफ से आता हुआ दिखाई दिया | हमने हँसते हुए पूछा- क्यों, यह काम कब से शुरू कर दिया... 
झूठा सच - Jhootha Sach
--
--
सूरज ढूढ़ रहे अंधों में 
स्वार्थ दृष्टिगत संबंधों में,
जीवन बीता अनुबंधों में,
ढक कर सर पर बोरे डाले,
सूरज ढूँढ़ रहे अंधों में... 

न दैन्यं न पलायनम्
--
बस कुछ नमी हो...! 

झिलमिल आँखों की नमी
नम करती रही मन प्राण अंतर

जीवन चलता रहा समानांतर...!

दुःख की रागिनी गाती रही
सुख के स्वप्न दिखाती रही... 

अनुशील

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...