चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, July 29, 2015

आप सही अर्थों में सेकुलर थे , न हिन्दू न मुसलमान ,एक हर दिल अज़ीमतर इंसान :2051




रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 


अनुपमा पाठक 
अनुशील 
--

जय कलाम 

आज मेरी कलम भी कुछ लिखना चाहती है तुम्हारे बेदाग चरित्र पर। तुम जैसे पथ प्रदर्शक पंडित और ज्ञानी नहीं आयेंगे बार बार। देखो आज तो ये बच्चे भी नहीं खेलना चाहते खिलौनों से बस रोना चाहते हैं... 
मन का मंथन  पर kuldeep thakur 



chandan bhati 



Kunwar Kusumesh 


 

Virendra Kumar Sharma 


 


चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 



Tushar Rastogi 

Gopesh Jaswal
Rajesh Kumari

सुशील कुमार जोशी 


 

shashi purwar 


--
...अभी बहुत दिन हुए नहीं ; इसी साल  की फरवरी के अंत में  अपने एक  सहकर्मी भौतिक विज्ञान के  प्राध्यापक  की किताब 'Special Theory of Relativity and Relativistic  Electromagnetism'  के लिए कुछ लिखा था। हालांकि उस लिखे में अपना लिखा कुछ  खास था नहीं। अपने साथी से मैंने यह भी कहा था कि फिजिक्स की  एकेडेमिक किस्म की किताब  में हिन्दी के इस मास्टर के लिखे का  भला क्या मतलब ? लेकिन , भाई का प्रेम और सतत आग्रह सो अंग्रेजी में  अपना हाथ बेहद तंग होते हुए भी कुछ  घसीट दिया था या यों कहें कि  अपनी रुचि के मुताबिक आईंस्टीन  के कहे पर गढ़े - पढ़े  कुछ कविता जैसे 'मैटर' को बस एक साथ संकलित करने जैसा कुछ कर  - सा दिया था ;  लीजिए ,वही ' आमुख' आज यहाँ  सबके साथ साझा है :... 
Was Albert Einstein a poet? Can we find his name in the long list of poets of the world? Answer of this type of quarry may be NO. But, he is a poet. We can remember his famous photograph with  Rabindra Nath Tagore. Though, there are various schools of thoughts to define the poetry but for people like us , poetry itself  is nothing but an art to see and show the feelings , heartfelt situations and ideas in the form , frame and even in fragmentations of verse. If we can seriously see the ‘stories’ and sayings of  this man we may be able to convince our self and others also that Einstein  was a ‘poet’... 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin