Followers

Wednesday, December 16, 2015

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता ; चर्चा मंच 2192


श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता


"रविकर" 
शांता सुता दशरथ पिता है मातु कौशल्या रही।
श्रृंगी मिले पति रूप में पर है नहीं वर्णन कहीं ।
श्री राम की भगिनी मगर तुलसी महाकवि मौन हैं।
विद्वान-विदुषी पूछते अथ देवि शांता कौन है ।

समगोत्र थे माता-पिता, इक अंग टेढ़ा हो गया ।
ले गोद लेती वर्षिणी देती दिखा मौसी मया ।
जो अंग की रानी रही, औलाद नहिं कोई जिसे। 
परिवेश फिर पाई नया, वह अंग में जाकर बसे ॥ 
Sanjay Jha 

त्रिवेणी 

रश्मि शर्मा 

DR. ANWER JAMAL 
राजेश उत्‍साही 
अनुपमा पाठक 
udaya veer singh 
Ravishankar Shrivastava
Virendra Kumar Sharma 
सज्जन धर्मेन्द्र 
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 
सम्बन्धों के चक्रव्यूह में,
सीख रहा हूँ दुनियादारी।
जब पारंगत हो जाऊँगा,
तब बन जाऊँगा व्यापारी।।

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...