चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, February 17, 2016

नमन हे अविनाश वाचस्पति-; चर्चा मंच 2255


नमन हे अविनाश वाचस्पति-

रविकर 
श्यामल सुमन 

मेरी ग़ज़ल जय विजय ,बर्ष -२ , अंक ५ ,फ़रबरी २०१६ में

Madan Mohan Saxena 
रोके अपनी बहन को, दकियानूसी भाय |
ऊँची शिक्षा के लिए, शहर नहीं ले जाय |

शहर नहीं ले जाय, भाय खुद जाय कमाया |
घर भी लिया बसाय, बाप बनने को आया |

होय प्रसव का दर्द, मर्द-डाक्टर को टोके |
महिला डाक्टर खोज, रहा कब से रो रो के ||

हमिंग बर्ड - मुकेश कुमार सिन्हा

shashi purwar 

जब भाषा दरबारी ,दैवीय....

udaya veer singh 

नयी-नयी पोशाक बदलकर, मौसम आते-जाते हैं,

yashoda Agrawal 

गीत "पात झर गये मस्त पवन में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin