Followers

Friday, April 08, 2016

"नैनीताल के ईर्द-गिर्द भी काफी कुछ है देखने के लिये..." (चर्चा अंक-2306)

मित्रों!
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

गीत  

"गया अँधेरा-हुआ सवेरा"  

...गया अँधेरा-हुआ सवेरा,
उखड़ गया है तम का डेरा,
सूरज की किरणों को पाकर,
कितना सुन्दर प्रात बन गया।
चाँदी की संगत में आकर,
लोहा भी इस्पात बन गया।।... 
--
--
--

विरक्ति 

Sudhinama पर sadhana vaid 
--

रहिमन पानी राखिए... 

काथम पर प्रेम गुप्ता `मानी' 
--
--
--
--
--
--
--
--
--

सिर्फ प्यार ही नही था हमारे बीच... 

कुछ ऐसा है...  
जो सांसो को हमारी जोड़ता है,  
तुम्हारी वो दोनों आँखे,  
जिनमे सारा दिल बसता है... 
'आहुति' पर Sushma Verma  

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...