चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, April 16, 2016

अति राजनीति वर्जयेत् (चर्चा अंक-2314)

मित्रों
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

बाल कविता 

"खेतों में शहतूत लगाओ"  

हरे-सफेद, बैंगनी-काले।
छोटे-लम्बे और निराले।।

शीतलता को देने वाले।
हैं शहतूत बहुत गुण वाले।।
--
--
--
--
--
--
--
--
--
--

चन्द माहिया : क़िस्त 32 

:1:  
माना कि तमाशा है 
कार-ए-जहाँ यूँ सब फिर भी 
इक आशा है 
:2:... 
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक 
--
--
--

राम-नाम की महिमा व्यापक 

शशि-मुख के जैसे वे सुन्दर
समुद्र के तल सम वे गंभीर
धैर्यवान पृथ्वी की भांति
आदर्शवान थे श्री रघुवीर.
माता-पिता-भाई-गुरुजन
सेवक-भृत्य या कोइ प्रजाजन
कर्तव्य पालन वो करते हरदम
शुचितामय था उनका जीवन.
विश्वामित्र के संग गये थे
तप-संयम-सेवा किये थे... 
--
--
--

रवानी इश्क़ मेरा ... 

किसी की आह दर तक आ गई है 
कि ख़ामोशी असर तक आ गई है 
बुज़ुर्गों ने रखा था दूर जिसको 
वो वहशत आज घर तक आ गई है... 
Suresh Swapnil 
--

ऐसे थे हमारे गुरु भारद्वाज जी 

श्रद्धा पूर्वक नमन 
Govind Singh(गोविन्द सिंह) 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin