चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Sunday, April 17, 2016

राम का नाम बदनाम न करो (चर्चा अंक 2315)

जय माँ हाटेश्वरी....
--
अति प्राचीन बात है। दक्षिण भारत में वीरसेन नामक राजा राज्य करते थे। उन्हीं के राज्य में विष्णुदेव नामक एक ब्राह्मण था। एक बार अकाल की वजह से भिक्षा मिलनी
बंद हो गई। ( पूर्व काल में ब्राह्मण का मूल धर्म होता था साधना करना और समाज को धर्मशिक्षण देते हुए भिक्षाटन कर जीवन यापन करना )
एक दिन बच्चों के पेट में अन्न गए तीन दिन बीत गए थे। पत्नी रोते हुई बोली, “अब मुझसे सहा नहीं जाता। कोई मां अपने बच्चों को इस तरह मरते हुए नहीं देख सकती।
तुम्हें कुछ-न-कुछ करना ही होगा।” पंडितजी ने झल्लाकर कहा “क्या करना होगा? क्या चोरी करूं?”
पत्नी ने कहा, “हां, चोरी करो। अब और कोई चारा नहीं बचा है।” पंडितजी ने पत्नी को मनाने का अत्यधिक प्रयास किया, पर वह उसकी हठ के आगे नतमस्तक हो गए। रात को
वह राजमहल के भंडार गृह में पहुंचे। उस समय सारे पहरेदार सो रहे थे। वह अंदर घुसे तो सोने-चांदी के मोहरों तथा अनाज के ऊंचे-ऊंचे ढेरों को देखकर आंखें चौंधिया
गई। उन्होंने अपनी पगड़ी उतारी और उसमें अनाज रखकर गटर बांधा और तेजी से बाहर आ गए।
लौट कर आने के बाद उन्हें नींद नहीं आई। सुबह होते ही वे सीधे राजदरबार जा पहुंचे। अपना अपराध बताने के बाद राजा से अनुरोध किया कि वह उन्हें चोरी का दंड दें।
राजा कुछ देर सोचते रहे। कुछ क्षण पश्चात लंबी सांस खींचते हुए वे बोले, “दंड तो मैं अवश्य दूंगा, पंडित महाराज! परंतु आपको नहीं, बल्कि अपने आपको। आज से मैं
घूम-घूमकर प्रजा के सुख-दुख की जानकारी लूंगा, जिससे फिर किसी प्रजा जन को चोरी करने की जरूरत ही न पड़े।”
-- 
अब चलते हैं आज की चर्चा की ओर....
--

लम्बी-लम्बी हरी मुलायम। 
ककड़ी मोह रही सबका मन।। 
कुछ होती हल्के रंगों की
कुछ होती हैं बहुरंगी सी, 
कुछ होती हैं सीधी सच्ची, 
कुछ तिरछी हैं बेढंगी सी,  
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 
-- 
ठंडा जल है 
हो गई आत्मा तृप्त 
मटका धन्य | 
Asha Saxena 
-- 
s640/shree
रख दिया था ट्रेन की पटरी पर 
दूर से आती आवाज.........कू  छुक छुक ! 
साथ ही मेरा मासूम धड़कता दिल ... धक् धक्! 
और, बस  कुछ पलों  बाद !! 
Mukesh Kumar Sinha 
--
s400/download
घोड़े अपने टापों की 
आवाज पर मगन 
हो कर गा रहे होते हैं 
कोई फर्क नहीं 
पड़ रहा होता है 
उनके घोड़ेपन पर 
रोज गधों की दुलत्ती 
जो खा रहे होते हैं 
फिर भी मुस्कुरा 
रहे होते हैं । 
सुशील कुमार जोशी 
--
s640/12932596_962554853833837_6973079703401182523_n
प्यार की तलब में तड़पती गौरैया की तरह वह आकाश नाप लेती है
समाज के दोगलेपन का धरती पर बहुत अच्छी तरह एहसास है उसे
दमित इच्छाओं और कामनाओं की कई सारी गठरी हैं उस के पास
फ़ेसबुक की नदी में गठरी सारी बहा देने का बढ़िया अभ्यास है उसे  
Dayanand Pandey 
--
सही-ग़लत का फ़ैसला करना 
इतना ज़रूरी क्यों होता है, 
कभी तो निकलें इससे, 
कभी तो कुछ अलग करें, 
बहस नहीं, कुछ बातें करें. 
Onkar 
--
रत्नेश के व्यवहार से महात्मा जी परिचित थे। अत: उनको माजरा समझते देर नहीं लगी। 
'राजन्! मैं समझ गया हूँ, आप चलिए मेरे साथ।' महात्मा जी बोले और दरिया की ओर
बढ़ गए। उनके पीछे-पीछे रत्नेश और गजेंद्र सिंह चल पड़े।  



हरी-भरी घास उगी थी। घोड़े घास में लीन थे। 

कुटिया की पूर्व दिशा में पर्वत श्रृंखलाएँ थीं। 

पर्वतों से बहने वाले झरने समतल भूमि में एक साथ मिलकर दरिया बन 
गए थे। 
सचिन लोकचंदानी 
--

suneel kumar sajal  
--
शांति की तलाश मे कितने भी करो कर्मकांड 
विचलित हृदय 
कैसे तलासेगा शुकून 
कौन आया , कौन नहीं का हिसाब किताब रखते 
दुख मैं शरीक होने आए लोग 
शायद इस दुख को , 
असीम दुख को सहने के लिए 
क्यों नही बनाते  कोई रीति रिवाज 
महेश कुशवंश 
--
राम नाम अपने आप में मंत्र है। एक जमाना था जब देश के करोड़ों लोग दिन में कई बार राम-राम का उच्चारण करते थे। अभिवादन से लेकर हरेक काम में राम-राम उच्चारित
होता था। इससे अरबों-खरबों राम मंत्र की महा ऊर्जाओं का भण्डार परिवेश से लेकर व्योम तक में संचित रहता था और इसके प्रभाव से प्रकृति संतुलित रहा करती थी। वहीं
सामाजिक समरसता का ज्वार भी हमेशा हिलोरे लेता दिखाई देता था।
Ravishankar Shrivastava 
--
s1600/Charlie-Chaplin-HD-Wallpaper
शिवम् मिश्रा 
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin