Followers

Wednesday, April 20, 2016

"सूखा लोगों द्वारा ही पैदा किया गया?" (चर्चा अंक-2318)

मित्रों
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
--
--
--

होश क़ायम रहे ... 

दांव उल्टा पड़ा हसीनों का 
दम न निकला तमाशबीनों का 
इश्क़ दो रोज़ में नहीं मिलता 
सब्र भी चाहिए महीनों का... 
साझा आसमान पर Suresh Swapnil 
--
--

कुम्भल गढ़ 

parmeshwari choudhary 
--

जख्म इतना भी गहरा न दिया करो 

वक्त का क्या है,
वक्त की अपनी चाल है,
हमारा क्या है,
हमारी चाल वक्त बिगाड़ता है। 
अभी मैं भले तुम्हें कोयला लगता हूँ पर,
ध्यान रखना हीरा कोयला ही बनता है।... 
कल्पतरु पर Vivek 
--
--
--
--
--
--
--
--
--
--
--

डॉ. भीमराव आंबेडकर की 125 वीं जयंती 

इस बार बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर की 125वीं जयंती वर्ष में उनके व्यक्तित्व और कृत्तित्व के साथ-साथ उनके द्वारा लिखे गए संविधान पर देश और दुनिया भर के मीडिया और संस्थानों में खूब चर्चा हुई है। कल का दिन न केवल ज्ञान के पर्व के रूप में मनाया गया बल्कि संयुक्त राष्ट्र से मांग भी कि गई कि 14 अप्रैल के दिन को अंतरराष्ट्रीय समानता दिवस (World Equality Day) के रूप में घोषित किया जाए... 
जय कौशल पर Jai Kaushal  

1 comment:

  1. काफी अच्छा ब्लॉग है हर विषय पर चर्चा....
    http://recipeshindi.com/

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...