साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Wednesday, May 25, 2016

"बादल घने हैं....." चर्चा मंच 2353


udaya veer singh 


डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 


Manoj Nautiyal 


आनन्द विश्वास 


Ravishankar Shrivastava 


pramod joshi 


सुशील कुमार जोशी 


noreply@blogger.com (सतीश पंचम) 


ऋता शेखर मधु 

yashoda Agrawal 


Sushil Bakliwal 


चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

Kumar Shiva 
लखनऊ में अपनी पैदाइश हुई ..
फिर मोहल्ले भर में नुमाइश हुई |

साईकिल तक टाँगे पहुँचने लगी,
फिर फेहरिस्त बनी, फरमाइश हुई |

जब बड़े हुए, और सियाने हुए , 
फिर दिल में जवान ख्वाहिश हुई |

कॉलेज से पढ़ लिख के निकले ,
फिर खुद की शुरू आजमाइश हुई |

कुछ यादों-इरादों के साथ आज ,
“कुश” की उमर अटठाइस हुई |
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सारे भोंपू बेंच दे, यदि यह हिंदुस्तान" (चर्चामंच 2850)

बालकविता   "मुझे मिली है सुन्दर काया"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   उच्चारण     अलाव ...