चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, July 19, 2016

गुरु पूर्णिमा, जानिए क्या है महत्व; चर्चा मंच 2408


खपरैली छत उड़ गई, गुजर गया तूफान - 

रविकर  

ताटंक छन्द 
हरा पेड़ जो रहा खड़ा तो, गरमी हरा नहीं पाई |
गड़ा पड़ा बिजली का खम्भा, बिजली किन्तु कहाँ आई |
चला बवंडर मचा तहलका, रहा बड़ा ही दुखदाई |
उड़ी मढ़ैया रविकर भैया, विपदा साथ खींच लाई || 

मन रे तू काहे न धीर धरे , 

वो निर्मोही मोह न जाने 

Virendra Kumar Sharma 
............आॅफिस से चार दिन की छुट्टी लेकर हम आगरा के साथ ही मथुरा और फिर दिल्ली घूमने का कार्यक्रम निर्धारित कर सबसे पहले आगरा पहुंचे। आगरा पहुंचकर एक होटल में सामान रखकर सुबह-सुबह जब हम ताजमहल पहुंचे तो एक पल तो यकीन नहीं हुआ कि जिस ताजमहल को हमने स्कूल की किताब और इंटरनेट में देखा-पढ़ा और लोगों की जुबानी सुना है, वह सचमुच हमारी आंखों के सामने है। ताजमहल देखना वास्तव में किसी सुनहरे सपने का साकार होने जैसा लगा... 
--

ग्वालियर फ़ोर्ट की सैर 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

Untitled 

कालीपद "प्रसाद" 

याद दे कर न तू गया होता 

Kailash Sharma 

बाबा का घी दूध का खेल 

सुधीर राघव 

गाँव समाप्त होना ---किसान समाप्त 

Randhir Singh Suman 

बालकविता  

"मोर झूमते पंख पसारे" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

सबला नारी  

Asha Saxena  

गुरु पूर्णिमा कल,  

जानिए क्या है महत्व 

Vineet Verma 

कविता :  

तुम मुझसे मिलने जरूर आओगी 

सज्जन धर्मेन्द्र 


shyam Gupta 




अच्छे दिन भी आते होंगे ,  

हर हर मोदी बोल किसानों - 

सतीश सक्सेना 

Satish Saxena 

कार्टून :-  

कांव कांव कबीले का राष्‍ट्रगान 

Kajal Kumar 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin