साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, August 06, 2016

"हरियाली तीज की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-2426)

मित्रों 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
--

लघु कथा 

प्रायश्चित
अनुभूति पर कालीपद "प्रसाद" 
--
--
--
--
--

मनभावन सावन ऋतू आया 

बादल पर बादल फिर छाया 
मनभावन सावन घिर आया... 
--
--
--
--
--

मंजूर GST हुआ,  

प्रतिष्ठा इन नेताओं की बढ़ गई 

GST बिल राज्यसभा में मंजूर हो गया। हालांकि, इसके कानून में बनने में अभी लंबी प्रक्रिया है। लेकिन, इतना तो तय दिख रहा है GST के कानून बनने से देश की आर्थिक तरक्की की रफ्तार सुधरेगी। देश दुनिया में आर्थिक तौर पर और ताकतवर होगा। ये इसका आर्थिक पहलू हुआ। लेकिन, इसका एक राजनीतिक पहलू भी है। इस GST बिल के मंजूर होने से भाजपा और कांग्रेस के कुछ बड़े नेताओं का कद और बड़ा हो गया है। साथ ही खुद प्रधानमंत्री भी स्वीकार्य हुए हैं। देखिए और कौन से नेता हैं जिनकी प्रतिष्ठा GST बिल राज्यसभा में मंजूर होने से और बढ़ गई... 
HARSHVARDHAN TRIPATHI  
--

क्या बिगाड़ के डर से 

ईमान की बात नहीं कहोगे 

*प्रेमचंद जयंती पर प्रलेस इंदौर ने किया 
नाटक और परिचर्चा का आयोजन* -  
अभय नेेमा इंदौर... 
शब्दों के माध्यम  से परशेखर मल्लिक  
--

ऋणी हूँ तुम्हारी मैं 

जब भी सावन आता है मुझे उसकी याद आती है। ... बात सन १९९३ जुलाई की है , मेरे पति सुनील के गंभीर एक्सीडेंट की खबर मुझे मिली , वे ऑफिस के कार्य से शिलॉन्ग गए हुए थे ,और मैं बच्चों के साथ रांची में थी। ... एक्सीडेंट के बाद उन्हें गौहाटी न्यूरोलॉजिकल रिसर्च सेंटर में लाया गया था जब आनन-फानन में मुझे बच्चों को छोड़ गौहाटी पहुंचाया गया तब मेरे साथ परिवार से सिर्फ एक चचेरे जेठ जी थे वे भी इसलिए कि मेरे पति की ही कंपनी में उच्च पद पर धनबाद में कार्यरत थे व सबसे जल्दी पहुँच सकते थे। .. पहली बार हवाई जहाज की यात्रा इस तरह करूँगी ,कभी सोचा न था... 
मेरे मन की पर अर्चना चावजी  
Archana Chaoji  
--

----- ॥ दोहा-पद॥ ----- 

*घनक घटा गहराए जिमि भोर लखइ नहि भोर ।  
झूलए झल जल झालरी मुकुताहल कर जोर ॥ 
NEET-NEET पर Neetu Singhal 
--
--
--
--
--

हमने देखा नहीं जिंदगी की तरफ 

राह निकली जरा सादगी की तरफ 
और झुकने लगी रोशनी की तरफ 
खुद का सम्मान चाहें वो दे गालियाँ 
गौर फरमाइए मसखरी की तरफ... 
वाग्वैभव पर Vandana Ramasingh 
--
--

cartoon..... 

News-Views पर आरडीएक्स 
--

cartoons 

News-Views पर आरडीएक्स  
--
--

5 comments:

  1. शुभ प्रभात
    अच्छी रचनाओं के सूत्र
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा । तीज की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  3. बहुत-बहुत आभार हमारे ब्लाग पोस्ट को इस चर्चा में स्थान देने हेतु। सभी लिंक्स अच्छे हैं।

    ReplyDelete
  4. शुभप्रभात...
    सुंदर चर्चा के साथ अच्छे लिंक...

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"साँसों पर विश्वास न करना" (चर्चा अंक-2855)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  द...