चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, August 31, 2016

एक टुकड़ा धूप का ले आऊंगा ...चर्चा मंच ;2451

शीलहरण पे पढ़ रही, भीड़ व्याह के मन्त्र

धर्म-कर्म पर जब चढ़े, अर्थ-काम का जिन्न |
मंदिर मस्जिद में खुलें, नए प्रकल्प विभिन्न ||1||


मजे मजे मजमा जमा, दफना दिया जमीर |
स्वार्थ-सिद्ध सबके हुवे, लटका दी तस्वीर ||2|| 

"कुछ कहना है"

कार्टून :-  

डोनाल्‍ड तो भारत में भी जीते ही जीते 

Kajal Kumar 

Derecognize that fake country Pakistan :  

My appeal to the Indian Govt 

haresh Kumar 

क्या आँच दे सकेंगे बुझते हुए शरारे 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

जन्माष्टमी 

देवेन्द्र पाण्डेय 

वसीयत -  

भगवती चरण वर्मा 

Devendra Gehlod 

Prayers  

(संध्या) 

Anubhav Sharma 

कंगाल... 

विभा रश्मि 

yashoda Agrawal 

सोई आत्मा- 

लघुकथा 

ऋता शेखर मधु 

नए नरसंहार की तैयारी 

Randhir Singh Suman a

कहु कबीर छूछा घटु बोलै  

(खाली घड़ा ही बोलता है -थोथा चना बाजे घना ) 

Virendra Kumar Sharma 

श्री कृष्ण-अर्जुन युद्ध 

गगन शर्मा 

"योर नोज़ इज़ वेरी टेस्टी........" 

Amit Srivastava 

एक_मुसलमान_की_आपबीती 

haresh Kumar 

एक टुकड़ा धूप का ले आऊंगा ... 

Digamber Naswa 

बालगीत- 

गिलहरी  

"सबके मन को भाती हो"  

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

4 comments:

  1. उपयोगी लिंको के साथ सार्थक चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया प्रसतुति भाई जी ।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  4. अच्छी सार्थक चर्चा, लघुकथा हेतु आभार !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin