Followers

Wednesday, December 21, 2016

चर्चामंच 2563; पानी भर कर चोंच में, चिड़ी बुझाये आग-


मैं तो रही बुझाय, आग पर डालूं पानी 

रविकर 
पानी भर कर चोंच में, चिड़ी बुझाये आग ।
फिर भी जंगल जल रहा, हंसी उड़ाये काग।
हंसी उड़ाये काग, नहीं तू बुझा सकेगी।
कहे चिड़ी सुन मूर्ख, आग तो नहीं बुझेगी।
किंतु लगाया कौन, लिखे इतिहास कहानी।
मैं तो रही बुझाय, आग पर डालूं पानी ।। 

दूर दराज का प्यार 

सुधीर राघव 

इस मंदिर के बारे में सुनकर रह जायेंगे हैरान 

Vineet Verma 

अग्नि(हाइकू ) 

Asha Saxena 

प्रसिद्ध पर्यावरणविद, गांधीवादी विचारधारा के प्रवर्तक 

अनुपम मिश्र को विनम्र श्रद्धांजलि 

haresh Kumar 

रोला छंद 

ऋता शेखर 'मधु' 

दुर्गा रानी 

Gopesh Jaswal 

राहुल के तेवर इतने तीखे क्यों? 

pramod joshi 

इस आर्ट को ध्यान से देखिये , 

ये तोता नहीं है, ये बैठी हुई महिला है

Sawai Singh Rajpurohit 

भकाड़ू डबरी: खारुन नदी की रोमांचक पद यात्रा 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

सन् 2016 का वैरायटीज़ से भरा साल -  

कार्टूनिस्टों की नज़र में 

Ravishankar Shrivastava 

गूगल बाबा के सुन्‍दर-सुन्‍दर फोंट अब आपके ब्‍लॉग के लिए 

noreply@blogger.com (संजीव तिवारी) 

कार्टून :- RBI से डर के रहि‍यो मेरी जान .. 

Kajal Kumar 

300 रन बनाते ही सोशल मीडिया पर छाए करुण नायर,  

आए ऐसे कमेंट्स 

chandan bhati 

पाकिस्तान ने छापने शुरू किए 2000 के नकली नोट,  

इन खामियों के कारण पकड़ाए 

chandan bhati 

सच के साथ...........सुशील कुमार शर्मा 

yashoda Agrawal 

दोहे, 

"रँगे हुए हैं स्यार" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 
थूक-थूककर चाटते, उनका क्या आधार।
जंगल में जनतन्त्र केरँगे हुए हैं स्यार।।
--
सभी दलों के सदन मेंथे प्रतिकूल विचार।
इसीलिए होती सदालोकतन्त्र की हार।।
--
दाँव-पेच के खेल सेचलता है जनतन्त्र।
बिना लोक के फल रहालोकतन्त्र का मन्त्र।।

4 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...