समर्थक

Saturday, April 30, 2016

"मौसम की बात" (चर्चा अंक-2328)

मित्रों
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

डॉ रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" का सद्य प्रकाशित दोहा संग्रह अपने नाम के अनुरूप रूपचन्द्र जी के साहित्य की कहीं लालित्य भरीरिश्तों की मिठासत्योहारों का उल्लासप्रकृति के सुन्दर चितराम सजाये भोर की कुनकुनी धूप दृष्टिगोचर होती है तो कहीं विसंगतियोंविषमताओंव व्यवस्थाओं पर प्रहार करती जेठ वैशाख की दोपहरी सी कठोर।
61 शीर्षकों में विभक्त 541 दोहों और 17दोहा गीतों से सजे इस दोहा संग्रह "रूप की धूप" में दोहाकार ने जहाँ एक और जीवन और रिश्तों के बारीक से बारीक तन्तुओं को छुआ हैवहीं हमारी सांस्कृतिक धरोहर हमारे त्यौहार व परम्पराओं को जो वर्तमान परिवेश में लुप्त होने लगी है,सुन्दर चित्रण से जीवन्त किया है। यथा-
"नाग पञ्चमी पर लगीदेवालय में भीड़।
कानन में सब खोजतेनाग देव के नीड़।।"

--
"कच्चे धागे से बँधीरक्षा की पतवार।
रोली अक्षत तिलक मेंछिपा हुआ है प्यार।।"
--
--

बन्द कमरे में अकेला,  

और मैं करता भी क्या, 

दोस्तों के इस जहां में,दोस्ती ढूँढें कहाँ,
दोस्त जैसे है बहुत , पर दोस्त भी मिलता नहीं।

कारवां से दूर हो ,तन्हा रहा मैं इन दिनों,
वक्त की थामी सुई , पर वक्त भी रुकता नहीं... 
अभिव्यक्ति मेरी पर मनीष प्रताप 
--
--

“विचार कुम्भ हेतु सेमीनार 

दिनांक 26 अप्रैल 16” 

कैसे बदलेगी ऐसी परिस्थियां  ?
पुत्री के जन्म को पुत्र के जन्म के समतुल्य माना जाकर
दहेज़ जैसी कुरीतियों के स्थान पर योग्यता को महत्व देकर
 इन परिस्थितियों में  बदलाव सहज है ..
कब बदलेंगी ये सोच ?
 “जब जन्म देने वाले दंपत्ति के मन में  सकारात्मक सोच होगी ”
कौन बदल सकता है ...?
समुदाय स्वयं इस बदलाव को ला सकता है... 
मिसफिट Misfit पर गिरीश बिल्लोरे मुकुल 
--
--

उसका हर अंदाज़ लुभाने वाला था 

साजन मेरे अँगना आने वाला था 
उसका हर अंदाज़ लुभाने वाला था .  
है रह रह कर तेरी यादों ने मारा  
साथी तेरा प्यार सताने वाला था... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi  
--

मेरा जन्मदिन 

(मेरे जन्मदिन का उल्लेख सरकारी फार्मों के अतिरिक्त कहीं और नहीं है।  कई मित्र कई बार पूछते हैं।  इधर एक मित्र ने फिर से जन्मदिन बताने का आग्रह किया ताकि वे अपने डेटाबेस में शामिल कर सकें।  जिस देश की आधी जनता सूखे से त्रस्त हो, पीने के पानी के लिए भी संघर्ष हो , या फिर अलग अलग तरह की लड़ाई हो, मुझे लगता है यह शुभकामनाएं देने का समय नहीं है।  
इसी से उपजी एक कविता।  )
माँ ने कहा था 
जब मैं उसके पेट में था 
इतनी बारिश हुई थी कि 
दह गए थे खेत सब 
मिट्टी के घर मिट्टी बन गए थे ... 
सरोकार पर Arun Roy  
--
--
--
अभी कुछ समय पूर्व तक जिन्हें करोड़ों हिन्दू छूने से कतराते थे और उन्हें घर के अन्दर भी आने की मनाही थी, वो असल में चंवरवंश के क्षत्रीय हैं। यह खुलासा डॉक्टर विजय सोनकर की पुस्तक – हिन्दू चर्ममारी जाति:एक स्वर्णिम गौरवशाली राजवंशीय इतिहास में हुआ है... 
--
बढ़ई-बढ़ई तूँ खूंटा चीरS.... 


भोजपुरी नगरिया (BHOJPURI) 
--
श्रीनिवासन शहर के एक प्रतिष्ठित रईस थे. उनके पास कई बंगले, कारखाने व और व्यापार थे.
वे अपने इकलौते बेटे राधे को संसार की सारी सुविधाएँ मुहैया कराना चाहते थे. उनका मन था कि चाहे मजबूरी में या फिर शौक से ही सही, उनके बेटे को कभी कोई काम करना ना पड़े. यानी नो नौकरी नो पेशा ओन्ली मौज मस्ती. यही ध्यान में रखकर उनने एक दिन एक बेशुमार एकमुश्त दौलत बैंक के एक नए खाते में डाला और शाम को घर जाकर अपने इकलौते पुत्र को उस खाते का गोल्ड डेबिट कार्ड थमाया. साथ में हिदायत भी दी कि इस खाते में बेशुमार दौलत है जिसे जानने की तुमको जरूरत नहीं है. हाँ खाते में अब कोई रकम नहीं डल पाएगी और यह भी कि किसी भी तरह से खाते की रकम का ज्ञान उसे नहीं हो पाएगा. श्रीनिवासन ने बैंक में खास हिदायत दे रखी थी कि किसी भी तरह से खाते की रकम की जानकारी कभी भी राधे को प्राप्त न हो. वह जितना चाहे खर्च करे बेफिक्र होकर – जिंदगी भर के लिए निश्चिंत रहे... 
Laxmirangam 
--
--

हमारी मुहब्ब्त तुम्हारी ज़मींदारी नहीं है 

दिल आख़िर दिल है जागीरदारी नहीं है 
हमारी मुहब्ब्त तुम्हारी ज़मींदारी नहीं है 

शराफ़त तो एक आदत है कोई बीमारी नहीं है
तुम्हारी हां में हां मिलाना हमारी लाचारी नहीं है... 
सरोकारनामा पर Dayanand Pandey 
--

धन्य-कलयुग 

है अनुयुग समक्ष, सकल संतापी,
त्रस्त सदाशय, जीवन आपाधापी,  
बेदर्द जहां, है अस्तित्व नाकाफी,  
मुक्त हस्त जिंदगी, भोगता पापी।   

दिन आभामय बीते, रात अँधेरी,
लक्ष्य है जिनका, सिर्फ हेराफेरी, 
कर्म कलुषित, भुज माला जापी, 
मुक्त हस्त जिंदगी, भोगता पापी... 
अंधड़ ! पर पी.सी.गोदियाल "परचेत" 
--
--
--


Friday, April 29, 2016

"मेरा रेडियो कार्यक्रम" (चर्चा अंक-2327)

मित्रों
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

आलेख  

"हिन्दुस्तानियों की हिन्दी खराब क्यों है?"  

बातें हिन्दी व्याकरण की  

कभी आपने विचार किया है कि
हम हिन्दुस्तानियों की हिन्दी खराब क्यों है?

इसका मुख्य कारण है कि हमें अपनी हिन्दी के

व्याकरण का सम्यक ज्ञान नहीं है... 
--

लोहे के घर से 

बेचैन आत्मा पर देवेन्द्र पाण्डेय 
--

इश्क में क्यूँ जुबाँ बेअदब हो गयी 

यह कहानी भी तेरी गजब हो गयी ।  
इश्क में क्यूँ जुबां बे अदब हो गयी ।।  
एक माशूक जलता रहा रात दिन ।  
गैर दर पे मुहब्बत तलब हो गयी... 
Naveen Mani Tripathi  
--

चंद विचार बिखरे बिखरे 

...विरासत अपनी भूले आज भी परतंत्र हैं
कोई परिवर्तन नहीं भीड़ में फंसे हैं
शासन भीअसफल रहा उसे सहेजाने में
कर्तव्य बोध सुप्त ही रहा अधिकार मांग रहे हैं | 
Akanksha पर Asha Saxena 
--
--

अनावृष्टि ! 

जलाशय सूखे, नहर, कुएं सब सुख गए 
खेतों में पानी नहीं, जमीन में दरारे पड गए ||1|| 
दैवी प्रकोप है या, है यह प्रकृति का रोष 
स्वार्थी बने मानव, दिल में दरार पड़ गए ||२... 
कालीपद "प्रसाद" 
--
--

ग़ज़ल -  

उसकी आँखों ने फिर ठगा है मुझे 

उसकी आँखों ने फिर ठगा है मुझे  
हिज्र इस बार भी मिला है मुझे  
नींद बैठी है कब से पलकों पर  
और इक ख़्वाब देखता है मुझे.. 
Ankit Joshi  
--

जन्म दिन मुबारक 

Surendra Kumar Shukla Bhramar's photo.
प्रिय मित्रों आज मेरे सुपुत्र गिरीश कुमार शुक्ल (सत्यम ) का जन्म दिन है अपनी दुवाएं देने से पहले मन में प्रवल इच्छा है कि मेरे प्रभु घनिष्ठ इष्ट दिल के नजदीक रहने वाले मेरे प्यारे दुलारे मित्र गण अपने स्नेहिल दिल से अपना स्नेहाशीष बरसाएं... 
Surendra shukla" Bhramar"5  
--

अंगूठी...में जड़ा वो जादू का पत्थर ..... 

...एक दम से वो बोला .....जो सच्चे मन से याद करेगा ...और जो अपनी माँ 
को दिल से प्यार करता होगा बस उसे ही दिखाई देगा ..दुसरे को कभी नही .....
 बस.......मुझे एक दम से माँ के दर्शन हो गये...मैं बोल उठा हाँ हाँ माँ दिख गयी...
आप होते तो आप को भी दिख जाता??? .....वो बचपन का जादू !
यादें...पर Ashok Saluja 
--

गर उद्गार जीवित हो जाएँ 

Image result for पुस्तक
खुशियों की ऊँचाई से
व्यथा की गहराई तक
अमराई की खुशबू से
यादों की तन्हाई तक
जाने कितनी नज्म कहानी
सिमट जाती हैं पुस्तक में... 
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर मधु  
--

पानी की बूँदें 

पानी की बूँदे भी, मशहूर हो गई । 
कल तक जो यूँही, बहती थी बेमतलब, 
महत्वहीन सी यहाँ वहाँ, फेंकी थी जाती, 
समझते थे सब जिसके, मामूली सी ही बूँदें, 
आज वो पहुँच से, दूर हो गई । 
पानी की बूँदें भी, मशहूर हो गई... 
ई. प्रदीप कुमार साहनी 

--
--

मेरे लिए तुम.... 

अंधड़ ! पर  पी.सी.गोदियाल "परचेत" 
--
--

रिवाज पाल रखी.. 

लोगो ने ये कौन सी ऱिवाज पाल रखी 
जहाँ खुद की पाकीजगी साबित करने की चाह में 
दूसरो को गिराना पडा... 
कविता मंच पर Pammi Singh 
--

कार्टून :-  

IIT के अखाड़ा प्रमुख. 

--

U O U “हैलो हल्द्वानी” में 

दोहों पर आधारित 

मेरा रेडियो कार्यक्रम प्रसारित 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

मित्रों!
उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय, हल्द्वानी (नैनीताल) के 
रेडियो कार्यक्रम हैलो हल्द्वानी द्वारा 91.2 MHz. FM चैनल पर 
दिनांक 27-04-2016 को दिन में 11-30 पर
रूबरू” के अन्तर्गत मेरा रेडियो प्रोग्राम प्रसारित हुआ।
जिसकी ऑडियो क्लिप मुझे प्राप्त हो गयी है। 
आप भी इसका आनन्द लीजिए।

Audio recording and upload >>

LinkWithin