साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, February 14, 2017

बापू को कंधा दिया, बस्ता धरा उतार-; चर्चामंच 2593


बापू को कंधा दिया, बस्ता धरा उतार-

रविकर 
चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, बैठे हैं

तितली भ्रमर समेत, भरेंगे रंग फरिश्ते-

रविकर 

महके पल...

Sushil Bakliwal 

वाह-वाह तेरा ख़ुदा !

डॉ. कौशलेन्द्रम 

फिर वही गुलाबो की महक.. फिर वही माह-ए-फरवरी है... !!!

Sushma Verma 

Travel to Neil Island, Natural bridge, Laxmanpur sunset beach नील द्वीप की शान कुदरती पुल व लक्ष्मणपुर बीच पर सूर्यास्त

SANDEEP PANWAR 

पथ मिले प्रयाण के

udaya veer singh 

मुश्किल में मुसलमान- बीएसपी का मुसलमान चुनें या अखिलेश-राहुल का साथ

HARSHVARDHAN TRIPATHI 

गीत "मौसम आया प्यारा है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

(पुस्तक) 'कथाकारों की दुनिया' : अनुक्रम

ऋषभ देव शर्मा 

सूरज तू....

anamika ghatak 

कार्टून :- मद्रास सर्कस

Kajal Kumar 

फागुन.... संजय वर्मा 'दृष्ट‍ि'

yashoda Agrawal 

बाइक यात्रा: रामदेवरा - बीकानेर - राजगढ़ - दिल्ली

नीरज जाट 

बालकविता "सबके प्यारे बन जाओगे" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...