समर्थक

Sunday, March 12, 2017

"आओजम कर खेलें होली" (चर्चा अंक-2604)

मित्रों 
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

दिन आ गये हैं प्यार के  

"सरस्वती माता का कोटि-कोटि अभिनन्दन" 

...जिन देवी की कृपा हुई है,
उनका करता हूँ वन्दन।
सरस्वती माता का करता,
कोटि-कोटि हूँ अभिनन्दन।।
--

खिल उठा सारा चमनदिन आ गये हैं प्यार के। 
रीझने के खीझने केप्रीत और मनुहार के।। 

चहुँओर धरती सज रही और डालियाँ हैं फूलती

पायल छमाछम बज रहीं और बालियाँ हैं झूलती
डोलियाँ सजने लगींदिन आ गये शृंगार के। 
रीझने के खीझने केप्रीत और मनुहार के... 
--
--

फागुनी हाईकू 

Akanksha पर Asha Saxena  
--
--
--
--
--
--
--

रे मन! तू भीग जा 

Image result for होली
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर 'मधु' 
--
--

हर राह में साथ निभाउंगी... 

साथी तुम मेरी नींद बनो मै स्वप्न में तेरे आउंगी। 
इक बार तो मेरे कदम बनो हर राह में साथ निभाउंगी... 
डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 
--
--

उड़ो कि सारा गगन तुम्हारा है ... 

महिलाओं को आगे लाने की बात हो तो घर से शुरुआत करनी चाहिए ,सबसे जरूरी है उनकी शिक्षा व रुचि ... जैसा कि सब जानते हैं परिवार में जितने लोग होते हैं आपसी सूझबूझ और तालमेल के साथ रहें तो प्रेम बना रहता है,तालमेल का यहाँ मतलब है अपनी -अपनी जिम्मेदारी और समय संयोजन के साथ आपसी सहयोग होना... 
मेरे मन की पर अर्चना चावजी 
--
--
--
--
--

होली 

 रंग सब बदरंग हुए काला पड़ा आसमान 
होली कैसे मनाएं हम जीवन है बिखरा सामान... 
Arun Roy 
--
--
--
--
--
--

----- ॥ सेंदुरी रंग -धूरि ॥ ----- 

पलहिं उत्पलव नील नलिन नव जिमि जलहिं दीप लव रूरि । 
ललित भाल दए तिलक लाल तव तिमि सोहहि छबि अति भूरि... 
NEET-NEET पर Neetu Singhal 
--
--

अंतिम ज़िद 

प्यार पर Rewa tibrewal  
--
--
--

होली 

होली में तुम्हें जो ख़त लिखने बैठा, 
तो अचानक स्याही फ़िसल गई, 
नीला हो गया सब कुछ- 
कुरता -पाजामा, उँगलियाँ - 
और अपनी ही उंगलियों ने 
चेहरा भी रंग डाला थोड़ा-सा.... 
कविताएँ पर Onkar 
--
--
--
--

होली 

आया रंगीला फागुन, 
लेकर फाग दुबारा 
दिल के धड़कने देख, 
दिलवर को पुकारा... 
कालीपद "प्रसाद"  
--

11 comments:

  1. शुभ प्रभात
    रंगोत्सव की शुभ कामनाएँ
    आभारी हूँ
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल की. शुक्रिया

    ReplyDelete
  3. 'क्रांतिस्वर' की पोस्ट को शामिल करने हेतु आदरणीय शास्त्री जी का आभार । आप सब को 'होली' पर्व मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  4. होली की मंगलकामनाएं। आज की सतरंगी चर्चा में 'उलूक' के सूत्र 'गीता में कही गयी हैं बातें वही तो हो रही हैं नजर आ रहा है मत कहना ‘उलूक’ पगला रहा है' को स्थान देने के लिये आभार।

    ReplyDelete
  5. होली पर हार्दिक शुभ कामनाएं व् बधाई |
    मेरी दो रचनाएं शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  6. होली पर्व की सभी मित्रों व पाठकों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें ! मेरी रचना को आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  7. होली की हार्दिक शुभ कामनाएं व् बधाई। "आओ जम कर खेलें होली" होली पर सुन्दर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहित धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर होली चर्चा विषयांक प्रस्तुति
    सभी को रंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  9. Active life blog की पोस्ट को शामिल करने हेतु आदरणीय शास्त्री जी का आभार ।

    आप सभी को 'होली' पर्व हार्दिक शुभकामनाएँ सुगना फाउंडेशन मेघलासिया परिवार की ओर से

    ReplyDelete
  10. Active life blog की पोस्ट को शामिल करने हेतु आदरणीय शास्त्री जी का आभार ।

    आप सभी को 'होली' पर्व हार्दिक शुभकामनाएँ सुगना फाउंडेशन मेघलासिया परिवार की ओर से

    ReplyDelete
  11. शास्त्री जी हार्दिक शुभकामनाएँ,रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत आभार,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin