Followers

Thursday, October 12, 2017

चर्चा - 2755

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    यह सही है। आखिर उन ब्लॉगों के लिंको की चर्चा क्यों करें, जो चर्चा मंच पर झाँकने भी नहीं आते हैं?

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात दिलबाग जी
    मन चाही प्रस्तुति
    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. वाह ! रंग बिरंगे सूत्रों से सजा चर्चा मंच..धन्यवाद दिलबाग जी मुझे भी इसमें शामिल करने के लिए..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा । आभार दिलबाग जी 'उलूक' के पागल को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  6. दिलबाग जी, आपकी साहित्यिक चर्चा का स्तर बहुत श्रेष्ठ है और आप काव्य-रचनाओं की समीक्षा करते समय कवि के अंतर्मन में झाँकने की क्षमता रखते हैं.

    ReplyDelete
  7. गागर में सागर जैसी मोहक चर्चा। सभी रचनायें बहुत ख़ूबसूरत आदरणीय।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा!
    चर्चा मंच के निःस्वार्थ श्रम को नमन!
    आभार!!

    ReplyDelete
  9. Bahut achha manch.
    Sadhuwad aap sabhi lekhak mitron ko.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...