समर्थक

Sunday, October 29, 2017

"सुनामी मतलब सुंदर नाम वाली" (चर्चा अंक 2772)

मित्रों!
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

प्रेम इक अनसुलझी गुत्थी है 

शब्दों ने अपने अर्थ खो दिए हैंअब न तुमअपने मन की कह पाती होन मैंतुम्हारी भावनाएं समझ पाता हूंक्योंकि दुनिया के किसी व्याकरण मेंइतना सामर्थ्य नहींकिसुलझा देहमारे नासमझी के द्वंद्व को.... 
वंदे मातरम् पर abhishek shukla  
--
--
--

मुक्त-ग़ज़ल : 243 -  

राख़ हो जाता है सब कुछ..... 

नज़र से गिरके उठने का किसी का वाक़िआ बतला ॥ 
गड़े मुर्दे के चलने का किसी का वाक़िआ बतला... 
--

सुनामी का मतलब 

सुंदर नाम वाली 

सुनामी का मतलब सुंदर नाम वाली एक बार एक पत्रकार ने राहुल से कहा -लोग पूछते हैं आप पचास साल के हो गए शादी कब कर रहें हैं। बोले राहुल -सुनामी आ रही है क्या ? आप सुनामी को कल अच्छे नाम वाली सुंदर लड़की समझ रहे थे आज उसे राहुलजी - जीएसटी बतला रहे हैं... 
Virendra Kumar Sharma  
--
--
--
--

प्रजा तंत्र का दोष 

(दोहे) 

प्रजा तंत्र का दोष है, तंत्र रहे कमजोर। 
शाह झांकते है बगल, हावी रहते चोर... 
Jayanti Prasad Sharma  
--

रफ़्तार 

धीरे-धीरे रफ़्तार पकड़ रही है गाड़ी, 
छूट गया पीछे स्टेशन, 
ओझल हो गए परिजन, 
जाने-पहचाने मकान, 
गली-कूचे, सड़कें, पेड़,चबूतरे- 
सब कुछ. 
पीछे रह गया मेरा शहर... 
कविताएँ पर Onkar 
--

रसकदम- 

लघुकथा 

ऋता शेखर 'मधु' 
--

श्रीकृष्ण चरित्र का यथार्थ :  

एक दृष्टि . 

भारतीय जन-मानस में श्रीकृष्ण की छवि ईश्वर का पूर्णावतार होने के साथ परम रसिक नायक एवं प्रेम तथा करुणा के आगार के रूप में विद्यमान है .अपनी रुचि के अनुसार उसे इन दोनों के अलग-अलग अनुपातों में ढाल लिया जाता है.इन्हीं दोनों का गहरा आवरण उनके कठोर चुनौतियों भरे जीवन की वास्तविकताओं को गौण बना देता है .लेकिन गीता के गायक का व्यक्तित्व ,ठोस वास्तविकता से परिपूर्ण रहा है... 
लालित्यम् पर प्रतिभा सक्सेना  
--

चिड़िया:  

रहिए जरा सँभलकर 

रहिए जरा सँभलकर  
मंजिल है दूर कितनी,  
इसकी फिकर न करिए 
बस हमसफर राहों के,  
चुनिए जरा सँभलकर... 
काँटे भी ढूँढते हैं,  
नजदीकियों के ... 
आपका ब्लॉग पर Meena Sharma  
--

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर रविवारीय अंक।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा. आभार.

    ReplyDelete
  3. बेहद सुंदर प्रस्तुति,
    मेरी रचना को शामिल किया बहोत आभार,
    कितना अजब संजोग है दोस्त सुनामी कहकर चिढ़ाते है,
    और आप ने सुनामी में शामिल करके गौरव प्रदान किया

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति। मेरी रचना शामिल करने के लिये बहुत आभार।

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन प्रस्तुति । मेरी रचना को शामिल करने के लिए सादर धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति-मेरी रचना चुनने हेतु आभार !

    ReplyDelete
  7. इस बार चर्चामंच में जुड़ी कड़ियां बहुत पसंद आईं।

    ReplyDelete
  8. बहुत रोचक चर्चा...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर व्यवस्थित चर्चा...सादर आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए !!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin