Followers

Monday, November 06, 2017

"बाबा नागार्जुन की पुण्यतिथि पर" (चर्चा अंक 2780)

मित्रों!
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

"बाबा नागार्जुन की पुण्यतिथि पर"  

उच्चारण पर रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 
--

मेरे पल 

Purushottam kumar Sinha  
--
--
--

ग़ज़ल 

अफसान-ऐ-दर्द को नज्मो की तरह गाने की जरूरत नही है। 
आश्ना हु मैं हाँ अब तुम्हे कुछ भी बताने की जरूरत नही है... 
Himanshu Mittra 
--

व्यामोह 

यह कैसी नीरसता है 
जैसे अब किसी भी बात में 
ज़रा सी भी रूचि नहीं रही 
पहले छोटी-छोटी चीज़ें भी 
कितना खुश कर जाती थीं... 
Sudhinama पर sadhana vaid  
--
--
--

...और मुझे गुरुद्वारे जाना पड़ा 

छः बजनेवाले हैं। 
साँझ होनेवाली है। 
जो कुछ मेरे साथ हुआ 
उसे कोई छः घण्टे हो रहे हैं 
लेकिन मैं अब तक 
उससे बाहर नहीं आ पाया हूँ... 
--
--
--

चिड़िया:  

जीवन - घट रिसता जाए है... 

काल गिने है क्षण-क्षण को, 
वह पल-पल लिखता जाए है...  
जीवन-घट रिसता जाए है ... 
आपका ब्लॉग पर Meena Sharma 
--
--
--

ग़ज़ल 

अकसीर दवा भी अभी’ नाकाम बहुत है  
बेहोश मुझे करने’ मय-ए-जाम बहुत है... 
कालीपद "प्रसाद" 
--
--
--
--

11 comments:

  1. शुभ प्रभात
    उम्दा प्रस्तुति
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. विविधताओं को समेटे सम्पूर्ण प्रस्तुति। बधाई। मेरी रचना को स्थान देकर मान बढाने हेतु विशेष धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. बाबा नागार्जुन को हार्दिक श्रद्धांजलि ! आज की चर्चा में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  4. श्रधंजलि बाबा नागार्जुन को। आज के उनको समर्पित अंक में 'उलूक' की बात को भी जगह देने के लिये आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  5. विस्तृत बुलेटिन ...

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर, विविधता से परिपूर्ण अंक । मेरी रचना को स्थान देने हेतु सादर धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  9. बाबा नागार्जुन को सच्ची श्रधांजलि

    ReplyDelete
  10. सुदंर
    मेरी रचना को स्थान देने हेतु सादर धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आदमी कब बनोगे" (चर्चा अंक-2892)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...