साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, December 02, 2017

"पढ़े-लिखे मुहताज़" (चर्चा अंक-2805)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

भोर का संजीवन लाता सूरज.... 

श्वेता सिन्हा 


भोर की अलगनी पर लटके 

घटाओं से निकल बूँदें झटके 
स्वर्ण रथ पर होकर सवार 
भोर का संजीवन लाता सूरज... 
मेरी धरोहर पर yashoda Agrawal  
--
--

हलाहल मत चखो 

जो प्रतिष्ठा शेष है
उसको रखो।
सुधा के धोखे
हलाहल मत चखो... 
अभिनव रचना पर Mamta Tripathi 
--
--

जिंदगी में हर किसी को  

है किसी का इन्तिज़ार 

इन्तिज़ार सर्वशक्तिमान को है बंदगी का इन्तिज़ार 
जिंदगी में हर किसी को है किसी का इन्तिज़ार... 
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर 'मधु'  
--

मौजूद रहेंगी ध्वनियाँ 

एक दिन कुछ ऐसा होगा 
मिट जाएगी पृथ्वी ये महल 
ये अट्टालिकाएं ये सभ्यताएं 
सब मिटटी बन जाएँगी 
फिर भी मौजूद रहेंगी ध्वनियाँ... 
सरोकार पर Arun Roy  
--
--
--

वह गुस्ताख मिज़ाज 

लिखो यहां वहां पर विजय गौड़ 
--

GST को हौव्वा बनाने वाले !! 

पिछले दिनों कराधान करते समय सरकार की तरफ से बार-बार कहा गया कि आप अपनी हर खरीदी का बिल जरूर लें ! पर क्या व्यापारियों को भी ऐसा कुछ कडा निर्देश दिया गया कि आपको भी हर बिक्री का बिल काटना ही है ! क्योंकि भले ही यह कानून हो पर इस वर्ग के अधिकाँश भाग में बिल ना देना, आदत में शुमार है ! टैक्स पहले भी थे, शायद कुछ ज्यादा  होंगे ! पर  इधर बहुत हो-हल्ला मचा, GST को लेकर, तरह-तरह की अफवाहें उड़ीं, दोनों तरफ से उलटे-सीधे आंकड़े प्रस्तुत होते रहे ! विरोध के लिए विरोध हुआ पर "कुछेक" की आदत सुधारने का किसी ने भी कोई सुझाव नहीं दिया... 
कुछ अलग सा पर गगन शर्मा 
--
--
--
--
--
--
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. क्रांतिस्वर की इस पोस्ट को स्थान देने हेतु आभार व धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. लंकिन कुछ लालित्‍य का चीर रहे हैं खींच...वाह मौजूदा समय पर ग़जब की अभिव्‍यक्‍ति

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"जीवित हुआ बसन्त" (चर्चा अंक-2857)

मित्रों! मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- &...