साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Monday, December 04, 2017

"शुभ प्रभात" (चर्चा अंक-2807)

मित्रों!
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

स्मरण 

Purushottam kumar Sinha  
--

कभी कुछ भैंस पर लिख  

कभी कुछ लाठी पर भी 


कभी सम्भाल
भी लिया कर
फुरसतें

जरूरी नहीं है
लिखना ही
शुरु हो जाना

खाली पन्नों को
खुरच कर इतना
भी कुरेदना
ठीक नहीं ... 
सुशील कुमार जोशी 
--
--

जब मुझे यह बुरा लगता है  

तो बहुतों को लगता होगा ! 

अभी ज्यादा दिन नहीं बीते हैं जब चुनाव जाति-पाति-भाषा को किनारे कर संपन्न हुए थे, अच्छा लगा था कि योग्य लोग बागडोर संभालेंगे। पर अब फिर वही पुरानी चाल ! दलों ने "राग-जाति", "राग-धर्म" अलापने के साथ-साथ असंयमित आचरण, अमर्यादित भाषा के साथ-साथ एक दूसरे पर बेबुनियादी लांछन लगाना, छीछालेदर करना, कीचड़ उछालना शुरू कर दिया है। जनता तंग आ चुकी है ऐसे कृत्यों से, ऊब चुकी है ऐसी स्तरहीन नौटंकियों से, उनके व्यवहार से... 
कुछ अलग सा पर गगन शर्मा 
--

मुक्त-ग़ज़ल : 247 -  

परदेस में.... 

देस से परदेस में आकर हुआ मैं ॥ 
सेर भर से एक तोला भर हुआ मैं ... 
--
--

बस एक ही शब्द ######### 

यदि तू हां कहे तो 
जीत लूं धरती और पर्वत 
और बना लूं एक पर्ण कुटीर 
जहाँ हम हो और हो मादक समीर झूमती 
हर दिशा हो जाये कह-कह कर अधीर 
बस एक ही शब्द प्रेम ... 
Mera avyakta पर  
राम किशोर उपाध्याय 
--

तन्हा तन्हा  बीता हर पल 

चाहत हो मेरी कहना था दिल में मेरे वह रहता था , 
मेरी गलियों में आ जाना रस्ता वह तेरे घर का *था*... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi  
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा ...

    ReplyDelete
  3. क्रांतिस्वर की पोस्ट को इस अंक में स्थान देने हेतु धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा। आभार आदरणीय सुन्दर सूत्रों के साथ 'उलूक' की खुरचन को भी जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. SUNDAR CHARCHA HAMEN BHI SHAMIL KARNE HETU HRADAY SE DHNYAVAD

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"जीवित हुआ बसन्त" (चर्चा अंक-2857)

मित्रों! मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- &...