Followers

Saturday, January 13, 2018

"सीधी-सादी मेरी मैया" (चर्चा अंक-2847)

मित्रों!
हर्षोंल्लास के पर्व लोहड़ी की
आप सबको हार्दिक शुभकामनाएँ।
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

सर्दी ने ढाया सितम 

 सर्दी ने ढाया सितम
ठिठुरती काँपती ऊँगलियाँ  
माने  नहीं छूने को कलम
कैसे लिख दूँ अब कविता मैं
अजब  सर्दी ने ढाया सितम... 
Maheshwari kaneri  
--
--
--
--

जब बोला चलता हुआ वर्ष - 

जब नये साल से बोला 
चलता हुआ वर्ष - जाते-जाते 
यह उचित लगा ओ मीत, 
तुम्हें कर दूँ सतर्क - 
मैं भी था अतिथि ,एक दिन 
तुम सा ही आदृत,,  
शिप्रा की लहरें पर प्रतिभा सक्सेना 
--
--
--

वही पल 

Purushottam kumar Sinha 
--

आग ताप लो.... 

Lovely life पर Sriram Roy  
--
--

विवेकानंद और वेश्या..  

सोशल मीडिया के युग मे  

एक क्रांतिकारी विचार..   

पढ़िए तो! 

चौथाखंभा पर  ARUN SATHI - 
--

दीप ले आओ 

नन्हा सा दीप 
मिटाए जगत का 
अंधेरा घना 

छाँटनी होगी 
ज्ञानालोक के लिए 
मन की धुंध ... 
Sudhinama पर sadhana vaid  
--

11 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  3. सुखद चर्चा हेतु आभार आ. शास्त्री जी .

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  5. मकर संक्रांति एवं लोहड़ी पर्व की सभी मित्रों व पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएं ! आज की चर्चा में बहुत सुन्दर सूत्र संजोये हैं शास्त्री जी ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    आपको साधुवाद
    सादर

    ReplyDelete
  7. सुंदर संकलन ! सभी प्रस्तुतियाँ एक से बढ़कर एक हैं।

    ReplyDelete
  8. अच्छे सूत्र . यात्रानामा शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. सुंदर संकलन
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों!  बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   &q...