साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, January 13, 2018

"सीधी-सादी मेरी मैया" (चर्चा अंक-2847)

मित्रों!
हर्षोंल्लास के पर्व लोहड़ी की
आप सबको हार्दिक शुभकामनाएँ।
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

सर्दी ने ढाया सितम 

 सर्दी ने ढाया सितम
ठिठुरती काँपती ऊँगलियाँ  
माने  नहीं छूने को कलम
कैसे लिख दूँ अब कविता मैं
अजब  सर्दी ने ढाया सितम... 
Maheshwari kaneri  
--
--
--
--

जब बोला चलता हुआ वर्ष - 

जब नये साल से बोला 
चलता हुआ वर्ष - जाते-जाते 
यह उचित लगा ओ मीत, 
तुम्हें कर दूँ सतर्क - 
मैं भी था अतिथि ,एक दिन 
तुम सा ही आदृत,,  
शिप्रा की लहरें पर प्रतिभा सक्सेना 
--
--
--

वही पल 

Purushottam kumar Sinha 
--

आग ताप लो.... 

Lovely life पर Sriram Roy  
--
--

विवेकानंद और वेश्या..  

सोशल मीडिया के युग मे  

एक क्रांतिकारी विचार..   

पढ़िए तो! 

चौथाखंभा पर  ARUN SATHI - 
--

दीप ले आओ 

नन्हा सा दीप 
मिटाए जगत का 
अंधेरा घना 

छाँटनी होगी 
ज्ञानालोक के लिए 
मन की धुंध ... 
Sudhinama पर sadhana vaid  
--

11 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  3. सुखद चर्चा हेतु आभार आ. शास्त्री जी .

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  5. मकर संक्रांति एवं लोहड़ी पर्व की सभी मित्रों व पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएं ! आज की चर्चा में बहुत सुन्दर सूत्र संजोये हैं शास्त्री जी ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    आपको साधुवाद
    सादर

    ReplyDelete
  7. सुंदर संकलन ! सभी प्रस्तुतियाँ एक से बढ़कर एक हैं।

    ReplyDelete
  8. अच्छे सूत्र . यात्रानामा शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. सुंदर संकलन
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

(चर्चा अंक-2853)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  ...