Followers

Saturday, February 03, 2018

"धरती का सिंगार" (चर्चा अंक-2868)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--

लल्ला का हाजमा 

काऊ ने बिगाड़ो मेरो लल्ला का हाजमा।
गैया बोली – जा ने पीयो थैली का दुद्दू।
जाई कारन होय गयो थोरो थोरो बुद्धू।
प्रतुल वशिष्ठ  
--
--

ठीक उसी समय 

जब होता है स्कूल जाने का समय 
वह ठेलता है रिक्शा 
ठीक उसी समय चल रहा होता है रेडियो पर  
'बचपन बचाओ' का विज्ञापन... 
Arun Roy 
--
--
--

फरवरी फरवरी फरवरी 

फागुन का महीना है फरवरी । 
परीक्षाओं का महीना है फरवरी । 
प्रेम का महीना है फरवरी। 
गुलाबी ठंड का महीना है फरवरी । 
फाल्गुनी रंगों का महीना है फरवरी । 
बसंती मौसम का महीना है फरवरी.... 
नन्ही कोपल पर कोपल कोकास  
--
--
--

विवाह : 

तेरे कितने रूप ! 

मेरा सरोकार पर रेखा श्रीवास्तव  
--

इन्द्रधनुष 

Sudhinama पर sadhana vaid  
--
--

7 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. बढ़िया संयोजन .बधाई ,आभार !

    ReplyDelete
  4. जीवन के विविध रंगों को समेटे बहुत ही सुन्दर आज की चर्चा ! मेरे इन्द्रधनुष को चर्चामंच के फलक पर सजाने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  5. बढिया सूत्र संयोजन . यात्रानामा शामिल करने के लिए आपका बहुत आभार

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच के लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  7. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं, आदरणीय शास्त्री जी। आप हमेशा खुश रहें और स्वस्थ रहें।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सुधरा है परिवेश" (चर्चा अंक-2886)

मित्रों! बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...