Followers

Monday, February 12, 2018

"प्यार में महिलाएं पुरुषों से अधिक निडर होती हैं" (चर्चा अंक-2876)

सुधि पाठकों!
सोमवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

दीपक सदा जलाया है 

जब अपने मन मंदिर में 
अंधकार को पाया है 
तब-तब मैंने इस मन्दिर में 
दीपक सदा जलाया है 

इस ज्योति से रोशन हो जाये 
मेरे मन का कोना
छल-फरेब का मन से हट जाये 
सारा जादू-टोना 

प्यार से मैंने सबके संग में 
रिश्ता सदा निभाया है 
तब-तब मैंने इस मन्दिर में 
दीपक सदा जलाया है... 

RADHA TIWARI  at  राधे का संसार 
--
--
--
--
--

टेडी-बियर 

कपास के जंगल से उड़कर

असुंदर,रंगीन गुदगुदा गोला 
युद्धरत आदमियों के बीच गिरा

झुर्रीदार चमड़ी और 

धधकती आंखों ने 
सजाकर, संवारकर
सहमे सिसकते बच्चों के बीच बैठा दिया
बच्चों ने अपनाया, पुचकारा और बहुत चूमा... 
Jyoti Khare 
--
--
--
--

सम्बन्ध काम में आते हैं 

(यह लेख मैंने, 27 सितम्बर 2014 को, *भारतीय जीवन बीमा निगम की गृह पत्रिका ‘योगक्षेम’* में प्रकाशनार्थ भेजा था। अब तक इस पर किसी निर्णय की सूचना नहीं है। शायद इसे प्रकाशन योग्य नहीं समझा गया। इसे यहाँ केवल इसलिए दे रहा हूँ ताकि सुरक्षित रह सके और वक्त जरूरत काम आए।)... 
--

पाकिस्तानी सेना को अर्दब में लेना जरूरी 

pramod joshi  at  जिज्ञासा 
--

देशभक्ति कविता  

" सबर का हमारे वो इम्तहान ले रहे हैं " 

ख़त में लिखा था घर आने का मंसूबें गिनाया था छुट्टियां मनाने का मन पसंद की सूची व्यंजन पकवान की बनी रह गई खबर आई प्रिये के बलिदान की। पलक पांवड़े थी विछाई डगर पर संग लाव-लश्कर तिरंगा तन ओढ़कर अर्थी आई पिया की दर लुटा संसार मेरा हुई बात कल अभी थी अवाक इस खबर पर। सबर का हमारे वो इम्तहान ले रहे *हैं* सबर पे सबर हम हैं कि किये जा रहे हैं जिस दिन ठनेगी सबर से सबर की हमारी कहर ढायेंगे सबर ही *सबर* जो किये जा रहे हैं। धूर्तों हमारी है तुम्हें आख़री चेतावनी हम अतिशय तुम्हारी जो सहे जा रहे हैं फिर देखना तुम्हारी तुम *तबाही* का मंजर ... 
Shail Singh at शैल रचना 
--

11 comments:

  1. शुभ प्रभात सखी
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सार्थक चर्चा।
    सुप्रभात, आभार राधा बहन जी।

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद एवं आभार राधा तिवारी जी ' क्रांतिस्वर' को इस चर्चा मेन स्थान देने हेतु।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति राधा जी।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया सूत्रों का चयन ! मेरे आलेख, 'इन्हें भी सम्मान से जीने दें', को आज के मंच पर स्थान देने लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार राधा जी !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा, मेरे ब्लॉग को स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति. उम्दा लिंकों का चयन.
    चर्चा मंच में स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय राधा जी .

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर लिंक संयोजन के लिए आपको साधुवाद
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सुधरा है परिवेश" (चर्चा अंक-2886)

मित्रों! बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...