Followers

Wednesday, February 14, 2018

"महामृत्युंजय मंत्र की व्‍याख्‍या" (चर्चा अंक-2880)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

अदालत एक ढकोसला है ;  

छह साथियो का एलान  

शरारती बचपन पर sunil kumar 
--

मेरा फूल गुलाब का... 

Lovely life पर Sriram Roy  
--

प्रेम का दिन 

नन्ही कोपल पर कोपल कोकास 
--
--
--
--

हरिगीतिका छंद 

रविकर 
कैलाश पति त्रिपुरारि भोलेनाथ भीमेश्वर नमः।
नटराज गोरापति जटाधारी किरातेश्वर नमः।
जागेश बैजूनाथ पशुपति सोम-नागेश्वर नमः।
भूतेश त्रिपुनाशक नमः भद्रेश रामेश्वर नमः।।

बेलेन्टाइन - 

रविकर 
बेला वेलंटाइनी, नौ सौ पापड़ बेल ।
वेळी ढूँढी इक बला, बल्ले ठेलम-ठेल । 
बल्ले ठेलम-ठेल, बगीचे दो तन बैठे ।
बजरंगी के नाम, पहरुवे तन-तन ऐंठे।
ढर्रा छींटा-मार, हुवे न कभी दुकेला ।
भंडे खाए खार, भाड़ते प्यारी बेला ।।

दलालों को दूसरे विचार व्यक्त करने वाले 

भक्त ही लगते हैं, 

क्योंकि सारी उम्र दलाली में जो गुजरी है 

haresh Kumar 

हाईकू 

Asha Saxena 

कार्टूनों में देखें कैसा रहा पिछला सप्ताह  

Kirtish bhatt 

दोहे "चुम्बन दिवस की शुभकामनाएँ" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

शिव रात्रि : दयानंद बोद्धोत्सव ------  

विजय राजबली माथुर 

दिल्ली..!! 

Anurag Anant 

कतय सँ ई मुरलीक मधुर गीत उठल 

रेवती रमण झा "रमण" 

मुक्त उजाला रहे सदा 

Dr Varsha Singh 

दधीच हमारे देश - 

udaya veer singh 

दोहे "रखना हरदम मेल"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

5 comments:

  1. आदरणीय डॉक्टर साहब की यह प्रस्तुति अत्यंत ही अद्भुत है।सभी लिंक जैसे लगते हैं कि आजके लिए ही हैं!!!

    ReplyDelete
  2. आदरणीय शास्त्री जी का आभार एवं धन्यवाद ' क्रांतिस्वर ' की पोस्ट को इस चर्चा में स्थान देने हेतु।

    ReplyDelete
  3. महाशिवरात्रि की सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनायें ! मेरी रचना 'नीलकंठ का आर्तनाद' को आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  4. कमाल का संयोजन अग्रज
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"त्योहारों की रीत" (चर्चा अंक-2890)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...